जेल में बंद हार्डकोर आज़म और इमरान कुंजड़ा के भिड़ंत की अफवाह

कल रविवार को शहर में सुबह व्हाट्सप्प पर उदयपुर की सेंट्रल जेल में बंद हार्डकोर अपराधी आज़म और इमरान कुंजड़ा की भिड़ंत की अफवाह ने एकबारगी पुलिस को भी दौड़ा दिया। सोहराबुद्दीन एनकाउंटर के मुख्य गवाह और हार्डकोर क्रिमिनल आज़म द्वारा हथियार से वारकर इमरान कुंजड़ा को जान से मारने की अफवाह और दोनों के आमने सामने होने के बाद इमरान कुंजड़ा के मारे जाने की कहना के जेल प्रशासन और पुलिस विभाग में भी हड़कंप मच गया।

 

जेल में बंद हार्डकोर आज़म और इमरान कुंजड़ा के भिड़ंत की अफवाह

कल रविवार को शहर में सुबह व्हाट्सप्प पर उदयपुर की सेंट्रल जेल में बंद हार्डकोर अपराधी आज़म और इमरान कुंजड़ा की भिड़ंत की अफवाह ने एकबारगी पुलिस को भी दौड़ा दिया। सोहराबुद्दीन एनकाउंटर के मुख्य गवाह और हार्डकोर क्रिमिनल आज़म द्वारा हथियार से वारकर इमरान कुंजड़ा को जान से मारने की अफवाह और दोनों के आमने सामने होने के बाद इमरान कुंजड़ा के मारे जाने की कहना के जेल प्रशासन और पुलिस विभाग में भी हड़कंप मच गया।

सुचना पर सूरजपोल थानाधिकारी आदर्श कुमार मय जाब्ता मौके पर पहुंचे। इस बीच मीडियाकर्मी भी वहां पहुँच गए। पुलिस और जेल प्रबंधन के मौके पर दौड़ने से सभी कैदी भी सकते में आ गए। अलग अलग बैरक में बंद आज़म और इमरान कुंजड़ा सही सलामत पाए गए। प्रारम्भिक जांच में पता चला है की दोनों आरोपियों की गैंग ने सुर्खिया बटोरने के लिए यह अफवाह व्हाट्सप्प और सोशल साइटस पर फैलाई है। पुलिस अफवाह फ़ैलाने वाले आरोपियों का पता लगाने में जुटी हुई है।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

उल्लेखनीय है की सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में एक अहम गवाह आज़म को पुलिस ने 13 अक्टूबर 2018 को पकड़ा था। वहीँ आज़म के प्रतिस्पर्धी और धुर विरोधी इमरान कुंजड़ा भी इसी महीने की 16 तारीख ही पुलिस के हत्थे चढ़ा है। कुंजड़ा की गिरफ़्तारी के बाद से ही दोनों के जेल में आमने सामने होने की आशंका थी इसीलिए कुंजड़ा को जेल प्रबंधन ने हाई सिक्योरिटी वार्ड में शिफ्ट किया था वहीँ आज़म लंगर के पास अलग बैरक में बंद है। दोनों की बैरक में दूरी होने के बावजूद किसी ने सुबह सुबह इन दोनों के आपस में भिड़ने की अफवाह फैला दी।

From around the web