स्तन कैंसर पर जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन

गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल और इंसानियत हेल्थ केयर सोसायटी के संयुक्त तत्वाधान में गीतांजली आॅडिटोरियम में स्तन कैंसर जागरुकता कार्यक्रम ‘‘माँ’’ आयोजित किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत डाॅ एफएस मेहता-डीन गीतांजली मेडिकल काॅलेज, डाॅ किशोर पुजारी-मुख्य कार्यकारी अधिकारी गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल, डाॅ मंजिंदर कौर-शैक्षणिक अधिकारी, रेडिएशन आॅन्कोलोजिस्ट डाॅ रमेश पुराहित एवं मेडिकल आॅन्कोलोजिस्ट डाॅ अंकित अग्रवाल द्वारा दीप प्रजवल्लन से हुई।

 

स्तन कैंसर पर जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन

गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल और इंसानियत हेल्थ केयर सोसायटी के संयुक्त तत्वाधान में गीतांजली आॅडिटोरियम में स्तन कैंसर जागरुकता कार्यक्रम ‘‘माँ’’ आयोजित किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत डाॅ एफएस मेहता-डीन गीतांजली मेडिकल काॅलेज, डाॅ किशोर पुजारी-मुख्य कार्यकारी अधिकारी गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल, डाॅ मंजिंदर कौर-शैक्षणिक अधिकारी, रेडिएशन आॅन्कोलोजिस्ट डाॅ रमेश पुराहित एवं मेडिकल आॅन्कोलोजिस्ट डाॅ अंकित अग्रवाल द्वारा दीप प्रजवल्लन से हुई।

रेडिएशन आॅन्कोलोजिस्ट डाॅ रमेश पुराहित ने प्रेंजेटेशन के माध्यम से स्तन कैंसर से जुड़े जोखिम, उसके कारण, लक्षण, जाँचें, नैदानिक परीक्षण, आम स्तन समस्याएं, स्तन कैंसर का प्रसार एवं कैंसर से बचाव पर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आज के समय में भारत की महिलाओं में स्तन कैंसर के आंकड़ों में काफी ज्यादा वृद्धि हुई है। इस कारण स्तन कैंसर पर जागरुकता और समय पर चिकित्सकीय परामर्श की आवश्यकता है।

स्तन कैंसर के उपचार में पहले सर्जरी, फिर कीमोथेरेपी और अंत में रेडियोथेरेपी दी जाती है। गीतांजली कैंसर सेंटर पर मौजूद नवीनतम तकनीक की मदद से केवल कैंसर के ट्यूमर को हटाया जाता है और स्तन संरक्षण थेरेपी दी जाती है। मेडिकल आॅन्कोलोजिस्ट डाॅ अंकित अग्रवाल ने कहा कि 40 वर्ष की उम्र के बाद हर महिला को एक या दो वर्ष में नियमित रुप से स्वास्थ्य जांच करानी चाहिए। साथ ही कीमोथेरेपी में उपलब्ध नए विकल्प जैसे टारगेटिड थेरेपी एवं इम्यूनो थेरेपी भी स्तन कैंसर के उपचार में फायदेमंद साबित हुए है।

Download the UT App for more news and information

इंसानियत हेल्थ केयर सोसायटी के अध्यक्ष मनुज चतुर्वेदी ने बताया कि कार्यक्रम में गीतांजली मेडिकल काॅलेज, गीतांजली काॅलेज आॅफ फिजियोथेरेपी, गीतांजली काॅलेज एवं स्कूल आॅफ नर्सिंग, गीतांजली इंस्टीट्यूट आॅफ फार्मेसी, गीतांजली हाॅस्पिटल की समस्त महिला कर्मचारियों समेत 500 से अधिक महिलाएं मौजूद थी। साथ ही उन्होंने बताया कि इंसानियत हेल्थ केयर सोसायटी के साझे में गीतांजली मेडिकल काॅलेज के विद्यार्थियों द्वारा उदयपुर व आस-पास के क्षेत्रों की महिलाओं के लिए स्तन कैंसर पर जागरुकता कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

From around the web