बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा सुझाव एवं परामर्श बैठक का आयोजन

बैंक ऑफ बड़ौदा उदयपुर क्षेत्र द्वारा 17 एवं 18 अगस्त को राष्ट्रीय प्राथमिकताओं एवं बैंकिंग जगत के समक्ष आ रही चुनौतियों के संबंध में दो दिवसीय सुझाव एवं परामर्श बैठक का आयोजन किया गया जिसमें क्षेत्र की सभी101 शाखाओं के प्रबंधकों ने भाग लिया।

 
बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा सुझाव एवं परामर्श बैठक का आयोजन बैंक ऑफ बड़ौदा उदयपुर क्षेत्र द्वारा 17 एवं 18 अगस्त को राष्ट्रीय प्राथमिकताओं एवं बैंकिंग जगत के समक्ष आ रही चुनौतियों के संबंध में दो दिवसीय सुझाव एवं परामर्श बैठक का आयोजन किया गया जिसमें क्षेत्र की सभी101 शाखाओं के प्रबंधकों ने भाग लिया।

बैठक की अध्यक्षता बड़ौदा कॉर्पोरेट सेंटर, मुंबई से आए राधाकान्त माथुर, महाप्रबंधक, अनुशासनात्मक कार्यवाही ने की। गौरतलब है कि वित्त मंत्रालय के निर्देशानुसार सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों द्वारा राष्ट्रीय प्राथमिकताओं पर शाखा स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक विचार मंथन एवं भविष्य की रणनीति तय करने की प्रक्रिया प्रारम्भ की गई है जिसमें बैंकिंग क्षेत्र से संबन्धित विचारणीय मुद्दों पर गहन चर्चा एवं भविष्य की कार्ययोजना का खाका तैयार किया जा रहा है।

बैठक के बारे में जानकारी देते हुए महाप्रबंधक एवं क्षेत्रीय प्रमुख अशोक डंगायच ने बताया कि इस पहल का उद्देश्य अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में ऋण सुविधा की पहुँच बढ़ाने, प्रोद्यौगिकी के उपयोग द्वारा डाटा विश्लेषण की क्षमता बढ़ाने और बैंकिंग को वरिष्ठ नागरिकों, किसानों, लघु उद्यमियों, युवाओं, विद्यार्थियों एवं महिलाओं की जरूरतों के लिए सुलभ बनाना है।

CLICK HERE to Read UdaipurTimes on your Android device

इस कड़ी में बैंक ऑफ बड़ौदा द्वारा बैंकिंग क्षेत्र की चुनौतियों एवं राष्ट्रीय प्राथमिकताओं पर विशेषज्ञों द्वारा दिए गए विषयों पर गहन विचारमंथन किया गया जिसमें मुख्यतः आर्थिक विकास, ढांचागत / औद्योगिक, कृषि क्षेत्र, जल शक्ति ,एमएसएमई एवं मुद्रा ऋण, शिक्षा ऋण, निर्यात साख, हरित अर्थव्यवस्था, स्वच्छ भारत, वित्तीय समावेशन और महिला सशक्तिकरण, डायरेक्ट बेनिफ़िट ट्रान्सफर, कैशलेस डिजिटल अर्थव्यवस्था, ईज ऑफ लिविंग, स्थानीय प्राथमिकताओं एवं कॉर्पोरेट सामाजिक दायित्व के प्रति जुड़ाव जैसे विषयों पर सुझाव आमंत्रित किए गए और सभी प्रतिभागियों से बड़ी संख्या में योग्य सुझाव एवं नवीन विचार सामने आए।

आगामी चरण में उक्त सुझावों पर राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति द्वारा गहन चर्चा की जायेगी इन बैठकों के उपरान्त सामने आए सुझावों, आंकड़ों एवं बैंकों की राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के आधार पर राष्ट्रीय स्तर पर अंतरा बैंक एवं अंतर बैंक आधार पर तुलनात्मक समीक्षा की जाएगी ताकि सार्वजनिक बैंकों के भविष्य का रोडमैप तैयार किया जा सके तथा बेहतर प्रदर्शन की रूप-रेखा तैयार की जा सके।

From around the web