मुख्यमंत्री राजे ने देखी डीजीफेस्ट-2018 में हिन्दुस्तान जिंक की प्रदर्शनी

हिन्दुस्तान जिंक ने जयपुर में डीजीफेस्ट-2018 में जल एवं अपशिष्ट प्रबंधन पर अपनी सर्वश्रेष्ट पद्धतियों का प्रदर्शन किया है। हिन्दुस्तान जिंक ने हैपी सिटी आर्केड, जयपुर ’एफ्यूलिएंट ट्रीटमेंट’ एवं ’वेस्ट टू वेल्थ’ का माॅडल भी प्रदर्शित किया है। चार दिवसीय आईटी फेस्टीवल-2018 की मेजबानी जयपुर में 19 से 21 मार्च, 2018 तक राजस्थान सरकार के सूचना प्रौद्यागिकी और संचार विभाग ने की है।

 
मुख्यमंत्री राजे ने देखी डीजीफेस्ट-2018 में हिन्दुस्तान जिंक की प्रदर्शनी

हिन्दुस्तान जिंक ने जयपुर में डीजीफेस्ट-2018 में जल एवं अपशिष्ट प्रबंधन पर अपनी सर्वश्रेष्ट पद्धतियों का प्रदर्शन किया है। हिन्दुस्तान जिंक ने हैपी सिटी आर्केड, जयपुर ’एफ्यूलिएंट ट्रीटमेंट’ एवं ’वेस्ट टू वेल्थ’ का माॅडल भी प्रदर्शित किया है। चार दिवसीय आईटी फेस्टीवल-2018 की मेजबानी जयपुर में 19 से 21 मार्च, 2018 तक राजस्थान सरकार के सूचना प्रौद्यागिकी और संचार विभाग ने की है।

एफ्यूलिएंट ट्रीटमेंट एण्ड जीरो डिस्चार्ज पर डेमो माॅडल के द्वारा पानी की पुनरावृत्ति और पुनः उपयोग करने एवं आॅपरेशन्स में पानी की खपत को अनुकूलित करने के लिए दरीबा स्मेल्टर काम्प्लेक्स में हिन्दुस्तान जिंक के सस्टेनेबल जल प्रबन्धन प्रक्सिेज पर प्रकाश डाला गया है। संयंत्र के विभिन्न हिस्सों से उत्पन्न असंतुलन को बंद सर्किट के माध्यम से एफ्यूलिएंट ट्रीटमेंट प्लांट (ईटीपी) में ट्रीट किया जाता है। रिवर्स आॅस्मोसिस से पानी रिकवरी के लिए ’मल्टिपल इफेक्ट इवपोर्टर’ में निरस्त कर दिया जाता है जो डिजाॅवल्ड साॅल्ट के पीछे छोड़ने वाले सभी पानी को प्रभावी ढंग से ठीक करता है। यह सुविधा लगभग 600 एम प्रतिदिन के पानी के संरक्षण में बढ़ोतरी करती है, जिससे पर्यावरण के प्रदर्शन में सुधार होता है। दरीबा स्मेल्टर काॅम्पलेक्स अपशिष्ट जल के 100 प्रतिशत पुनःउपयोग और पुनर्चक्रण को सुनिश्चित करता है। जिससे वहां ’जीरो डिस्चार्ज’ बनाएं रखा जा सकता है।

हिन्दुस्तान जिंक के अनुसंधान एवं विकास टीम ने पैवर ब्लाॅक डेमो माॅडल का भी प्रदर्शन किया। पैवर ब्लाॅक्स फ्लाई एश, जारोफिक्स एवं स्लेग अपशिष्ट से निर्मित किया जाता है। हिन्दुस्तान जिंक में यह सिविल निर्माण कार्यों के लिए टेस्ट में उपयोग किया जा रहा है। यह अपशिष्ट को वैल्थ में रूपांतरण का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे सिधिया एवं हजारों आगंतुकों ने हिन्दुस्तान जिंक की स्टालों को देखा और सराहना की है। हिन्दुस्तान जिंक के हेड -कार्पोरेट कम्यूनिकेशन पवन कौशिक ने बताया कि भारत की एकमात्र एवं विश्व की अग्रणीय एकीकृत जस्ता-सीसा एवं चांदी उत्पादक कंपनी है जो लगातार सुरक्षा, पर्यावरण संरक्षण, जल और ऊर्जा संरक्षण तथा आधारभूत ढांचे के निर्माण के लिए उत्कृष्ट कार्य कर रही है।

डीजीफेस्ट-2018 में हिन्दुस्तान जिंक के अधिकारी एम.के. यादव, प्रदीप सिंह, अंकित मिश्रा एवं सुन्दरशरण ने प्रदर्शनी में भाग लिया।

From around the web