परशुराम जयन्ति पर पाॅच दिवसीय कार्यक्रम

उदयपुर 21 अप्रैल 2019 उदयपुर विप्र फाउण्डेशन के महामंत्री श्री त्रिभुवननाथ व्यास ने बताया की आगामी परशुराम जयन्ति पर दिनांक 03 मई 2019 से 7 मई 2019 तक आयोजित होने वाले पाॅच दिवसीय कार्यक्रम को लेकर निम्बार्क महाविद्यालय सूरजपोल उदयपुर पर तैयारी बैठक का आयोजन किया गया। साथ ही इस अवसर पर निम्बार्क काॅलेज परिसर में ही विप्र फाउण्डेशन के अस्थायी कार्यालय का शुभारम्भ किया गया,

 

परशुराम जयन्ति पर पाॅच दिवसीय कार्यक्रम

उदयपुर 21 अप्रैल 2019 उदयपुर विप्र फाउण्डेशन के महामंत्री श्री त्रिभुवननाथ व्यास ने बताया की आगामी परशुराम जयन्ति पर दिनांक 03 मई 2019 से 7 मई 2019 तक आयोजित होने वाले पाॅच दिवसीय कार्यक्रम को लेकर निम्बार्क महाविद्यालय सूरजपोल उदयपुर पर तैयारी बैठक का आयोजन किया गया। साथ ही इस अवसर पर निम्बार्क काॅलेज परिसर में ही विप्र फाउण्डेशन के अस्थायी कार्यालय का शुभारम्भ किया गया, यह कार्यालय परशुराम जयन्ति तक प्रतिदिन सांयकांल 6 बजे से 9 बजे तक खुला रहेगा। कार्यालय प्रभारी श्री धरणीधर तिवारी को नियुक्त किया गया।

आज के कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विप्र फाउण्डेशन जोन 1ए के प्रदेश सचिव राधेश्याम सिखवाल, विशिष्ट अतिथि वीसीसीआई उदयपुर अध्यक्ष कृष्णकान्त शर्मा, प्रदेश महामंत्री लक्ष्मीकान्त जोशी थे। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता प्रदेशाध्यक्ष जोन 1ए राजस्थान के के.के. शर्मा थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता विप्र फाउण्डैशन उदयपुर शहर अध्यक्ष हिम्मत लाल नागदा द्वारा की गई।

श्री व्यास ने बताया कि दिनांक 7 मई 2019 को परशुराम जयन्ति के अवसर पर एक विशाल शोभायात्रा प्रातः 8 बजे टाउनहाॅल से प्रारम्भ होकर शहर के विभिन्न मार्गो पर होती हुई पुनः टाउनहाॅल पहुचेगी। जहा एक धर्मसभा का आयोजन तथा महाप्रसादी का आयोजन रखा गया। शौभायात्रा में 56 ब्राह्मण समाज अपनी झांकियों के साथ शोभायात्रा में सम्मिलित होंगे, बैठक में 5 दिवसीय कार्यक्रम को लेकर विभिन्न कमेटियों का गठन करते हुए प्रभारी नियुक्त कियें गये।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

बैठक में डाॅ. अंशुमाली जोशी, उदयभानु महर्षि, डाॅ. राजीव महर्षि, केशव व्यास, तुलसीराम शर्मा, शंकर लाल शर्मा, गिरधारी लाल शर्मा, पुष्पेन्द्र शर्मा, लज्जा शंकर नागदा, भंवर मंगरोप, पण्डित जुगल किशोर त्रिवेदी, सुभाष नांगला, रवि शंकर मेहता, भुपेश चोबीसा, प्रभाष सुखवाल, कैलाश आचार्य, आदित्य पाण्डे, ललित जोशी, आदि ने अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम का संचालन त्रिभुवननाथ व्यास द्वारा किया गया। ध्न्यवाद की रस्म दयाशंकर पानेरी द्वारा अदा की गई।

From around the web