मध्य प्रदेश में ‘हाथ’ को मिला ‘हाथी’ का सहारा

आख़िरकार मध्यप्रदेश में 'मामा' शिवराज का पंद्रह साल पुराना किला ढह ही गया। विधानसभा के नतीजों में 230 सीटों में से भाजपा 109 पर रही जबकि कांग्रेस ने 114 सीट हासिल कर मामाजी को झटका दिया। पंद्रह साल बाद कांग्रेस मध्यप्रदेश में कांग्रेस सत्ता के करीब पहुंची है। हालाँकि बहुमत के लिए कांग्रेस को 2 सीटों की दरकार है। वह कमी अब बहन जी पूरी करती दिखाई दे रही है। मध्यप्रदेश के नतीजों में बहनजी की

 

मध्य प्रदेश में ‘हाथ’ को मिला ‘हाथी’ का सहारा

आख़िरकार मध्यप्रदेश में ‘मामा’ शिवराज का पंद्रह साल पुराना किला ढह ही गया। विधानसभा के नतीजों में 230 सीटों में से भाजपा 109 पर रही जबकि कांग्रेस ने 114 सीट हासिल कर मामाजी को झटका दिया। पंद्रह साल बाद कांग्रेस मध्यप्रदेश में कांग्रेस सत्ता के करीब पहुंची है। हालाँकि बहुमत के लिए कांग्रेस को 2 सीटों की दरकार है। वह कमी अब बहन जी पूरी करती दिखाई दे रही है। मध्यप्रदेश के नतीजों में बहनजी की बसपा की दो सीट मिली है। और बहनजी ने आज लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस को समर्थन देने का एलान किया है।

मायावती ने लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा की कांग्रेस से विचारधारा मेल न खाने के बावजूद वह बीजेपी को रोकने के लिए कांग्रेस को समर्थन दे सकती है। यही नहीं उन्होंने कहा की यदि ज़रूरत पड़ी तो वह अपने विधायकों को राजस्थान ने कांग्रेस के समर्थन देने के लिए कह सकती है। मायावती की बसपा ने राजस्थान में 6 सीट जीती है।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

बसपा के समर्थन के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने का रास्ता साफ़ हो गया है। शिवराज ने भी हार मानते हुए मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। कांग्रेस ने राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मुलाकात का समय मांगा है। राज्यपाल ने आज दोपहर 12 बजे का समय दिया है। जहाँ कांग्रेस के कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश कर सकती है।

From around the web