झीलों के उघड़े पैंदे पर जमा कचरे को हटाना जरूरी

उदयपुर, 23 जून 2019, आबादी क्षेत्रों के झील हिस्सों में झीलों के उघड़े पैंदे पर विविध प्रकार की गंदगी जमा है। बरसाती नया पानी आने से पहले इस गंदगी को हटा लेना चाहिये। यह सुझाव रविवार को आयोजित झील संवाद में रखा गया। डॉ अनिल मेहता ने कहा कि कुछ लोगों द्वारा निरंतर झीलों में कचरा व अन्

 

झीलों के उघड़े पैंदे पर जमा कचरे को हटाना जरूरी

उदयपुर, 23 जून 2019, आबादी क्षेत्रों के झील हिस्सों में झीलों के उघड़े पैंदे पर विविध प्रकार की गंदगी जमा है। बरसाती नया पानी आने से पहले इस गंदगी को हटा लेना चाहिये। यह सुझाव रविवार को आयोजित झील संवाद में रखा गया। डॉ अनिल मेहता ने कहा कि कुछ लोगों द्वारा निरंतर झीलों में कचरा व अन्य घरेलू कबाड़ फैंका जाता है जो जाकर पैंदे में जमता है। यह कचरा झील पर्यावरण को नुकसान पंहुचाता है।

तेज शंकर पालीवाल ने कहा कि कुम्हारिया तालाब खासकर उपेक्षा का शिकार है, इसमे कूड़ा कचरा, मलबा, प्लास्टिक पॉलीथिन जमा है। वर्षा ऋतु शुरू होने से पहले इन्हें पूरी तरह हटाना चाहिए ताकि आने वाले नया जल जहरीला नही बने। नंद किशोर शर्मा ने कहा कि उघड़े पैंदे पर दिख रहे कचरे ने झीलों के प्रति हमारे असभ्य व्यहवार को उघाड़ कर रख दिया है। हमे इससे कुछ सीख लेनी चाहिए।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

द्रुपद सिंह, रामलाल गहलोत व कृष्णा कोष्ठी ने कहा कि पेयजल की झीलों में इस तरह का विसर्जन अमानवीयता है। सभी को इसे रोकने का संकल्प लेना चाहिये। पल्लब दत्ता व कुशल रावल ने सुझाव दिया कि झीलों के किनारे उचित स्थानों पर सी सी टी वी कैमरे लगवाए जाने चाहिए ताकि गंदगी, कूड़ा विसर्जित करने वाले अपराधियों को पकड़ा जा सके। इस अवसर श्रमदान कर दायजी पुलिया के नीचे से कचरे, गंदगी को हटाया गया।

From around the web