सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी के मामले में एक गिरफ्तार

उदयपुर 18 जून 2019, पांच वर्ष पूर्व सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर हुई धोखाधड़ी कर लाखो रूपये ऐंठने के मामले में सूरजपोल थाना पुलिस ने एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में एक अभियुक्त फ़िरोज़ गोरी को पूर्व में ही गिरफ्तार कर लिया गया था जबकि दुसरे मुख्य अभियुक्त सैय्यद इस्लामुद्दीन उर्फ़ बबलू को केंद्रीय कारागृह अजमेर से गिरफ्तार कर उदयपुर लाया गया है।

 

सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी के मामले में एक गिरफ्तार

उदयपुर 18 जून 2019, पांच वर्ष पूर्व सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर हुई धोखाधड़ी कर लाखो रूपये ऐंठने के मामले में सूरजपोल थाना पुलिस ने एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में एक अभियुक्त फ़िरोज़ गोरी को पूर्व में ही गिरफ्तार कर लिया गया था जबकि दुसरे मुख्य अभियुक्त सैय्यद इस्लामुद्दीन उर्फ़ बबलू को केंद्रीय कारागृह अजमेर से गिरफ्तार कर उदयपुर लाया गया है।

पांच वर्ष पूर्व 18 मार्च 2015 को तेजशंकर शर्मा निवासी चित्तौड़गढ़ हाल गजसिंह जी की बाड़ी उदयपुर को फ़िरोज़ अली गौरी और सैय्यद इस्लामुद्दीन उर्फ़ बबलू ने उदियापोल स्थित एक होटल में बुलाकर आरपीएससी अजमेर द्वारा आयोजित सेकंड ग्रेड टीचर के पद पर नौकरी दिलाने का झांसा देकर चार लाख रूपये ऐंठ लिए। इसी प्रकार जगदीश मेनारिया और अन्य से भी करीब 26.5 लाख रूपये ऐंठ लिए।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

सूरजपोल पुलिस थानाधिकारी रामसुमेर मीणा ने बताया की उक्त मामले में फ़िरोज़ अली गौरी को पूर्व में गिरफ्तार किया जा चूका था। सैय्यद इस्लामुद्दीन उर्फ़ बबलू सहित अन्य अभियुक्त फरार हो गए थे। फरार मुल्ज़िम सैय्यद इस्लामुद्दीन उर्फ़ बबलू पिता जहीरुद्दीन उम्र 45 साल निवासी महोद थाना किशनगढ़ वास जिला अलवर के किसी अन्य मामले केंद्रीय कारागृह अजमेर में बंद होने की जानकारी होने पर उसे विधिवत अजमेर जेल से गिरफ्तार किया गया। पुलिस इस मामले की जाँच कर रही है।

उक्त अभियुक्तों के खिलाफ राजस्थान के विभिन्न थानों में इसी प्रकार की धोखाधड़ी के करीब आधा दर्जन मामले दर्ज है। उक्त अभियुक्त का पीसी रिमांड लिया गया गया है।

From around the web