वृद्ध को आत्महत्या के लिए उकसाने वाले ब्याजखोरो को पुलिस ने किया गिरफ्तार

उदयपुर 1 अप्रैल 2019, शहर में ब्याजखोरों का आतंक बढ़ता जा रहा है। उदयपुर में मार्च की नौ तारीख को दैत्य मगरी निवासी बुज़ुर्ग ने ब्याजखोरों से त्रस्त होकर फतहसागर जाकर ज़हर खा लिया था जिससे उसकी मृत्यु हो गई थी। मार्च माह में ही ब्याजखोरों के आतंक से घबरकार पिता पुत्री की आत्महत्या का मामला भी सामने आ चूका है जिसमे पुलिस ने एक को सप्ताह भर

 

वृद्ध को आत्महत्या के लिए उकसाने वाले ब्याजखोरो को पुलिस ने किया गिरफ्तार

उदयपुर 1 अप्रैल 2019, शहर में ब्याजखोरों का आतंक बढ़ता जा रहा है। उदयपुर में मार्च की नौ तारीख को दैत्य मगरी निवासी बुज़ुर्ग ने ब्याजखोरों से त्रस्त होकर फतहसागर जाकर ज़हर खा लिया था जिससे उसकी मृत्यु हो गई थी। मार्च माह में ही ब्याजखोरों के आतंक से घबरकार पिता पुत्री की आत्महत्या का मामला भी सामने आ चूका है जिसमे पुलिस ने एक को सप्ताह भर पहले गिरफ्तार भी किया था। कल पुलिस ने नौ तारीख को बुज़ुर्ग को आत्महत्या के लिए उकसाने पर दो ब्याजखोरो को गिरफ्तार किया है।

मृतक के पुत्र भुवन रावल द्वारा दर्ज पुलिस में दर्ज एफआईआर के अनुसार आत्महत्या करने वाले मृतक के निवास के आस पास और चौकीदार से अनसंधान में पता चला की मृतक के पुत्र अभिजीत ने मोहन लाल गुस्सर से साढ़े नौ लाख रुपया उधार लिया था। बदले में प्रकाश साईन किये हुए खाली कागज़, स्टाम्प पेपर, चैक्स और 36 तोला सोना गिरवी रखा था। भुवन के अनुसार अभिजीत ने लोन के पेटे 15-17 लाख रूपये चूका दिए लेकिन मोहनलाल ने न तो हस्ताक्षरयुक्त चैक और स्टाम्प लौटाए और न ही गिरवी रखा सोना लौटाया। और ऊपर से आये दिन घर आकर धमकाता था। आर्थिक संकट और धमकियों से परेशान होकर उसके भाई और पिताजी ने हरिसिंह, राजू खारोल उर्फ़ राजेश पंवार, प्रकाश टांक, बी एल रांका, प्रकाश जैन और कौशल भटनागर से भी भी फर्दन फर्दन राशि उधार ली जिन्हे उधार ली गई रकम से ज़्यादा चूका दिया फिर भी उन लोगो ने हस्ताक्षरयुक्त चैक, स्टाम्प और खाली कागज़ नहीं लौटाए।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

भुवन ने बताया की 7 मार्च की शाम को करीब 6 -7 बजे एक अज्ञात व्यक्ति जो अपने आप को खेमपुरा का निवासी बता रहा था उसके मकान के नीचे आ कर उसके पिताजी के साथ मारपीट की और हो हल्ला मचाया जिससे आसपास के लोगो ने आकर छुड़वाया। उक्त व्यक्ति ने चैक्स और स्टाम्प के दुरूपयोग करने और जान की धमकी देने के कारण उसके पिताजी काफी तनाव में आ गए और 9 मार्च को सुबह घर से निकले और फतहसागर पर जाकर विषाक्त पदार्थ का सेवन कर लिया जिसस्ने उनकी मृत्यु हो गई।

हाथीपोल पुलिस थानाधिकारी आदर्श कुमार ने बताया की पुलिस ने अनुसन्धान कर पाया की ब्याजखोर प्रकाश टांक पिता पूनमचंद्र टांक निवासी हाल भोले परांठा गुलाबबाग और उसके सहयोगी राकेश पिता नाथूलाल निवासी सुंदरवास ने मृतक के घर पर आकर मृतक के गाली गलौच और धमकी दी जिससे आहत होकर मृतक ने ज़हरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। उक्त मामले में कार्यवाही करते हुए प्रकाश और राकेश को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि अन्य लोगो की तलाश जारी है।

From around the web