84 वर्षीय रोगी के पेट में कैंसर की सफल सर्जरी

कुछ रोगी वाकई एक मिसाल होते है। उनके जीने का जज़्बा एवं जिंदगी की लड़ाई को जीतने की जिद्द कई लोगों को जिंदादिली का हौसला दे जाती है। ऐसे रोगियों के लिए उम्र मात्र एक संख्या होती है। ऐसे ही रोगियों में से औरों के लिए प्रेरणास्त्रोत बने आबू रोड निवासी एवं 84 वर्षीय भूर सिंह जी चौहान। पेट में दूसरी स्टेज के कैंसर का सफल ऑपरेशन्स करा स्वस्थ्य जीवन व्यतीत कर रहे का यह वाक्या गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल के गेस्ट्रोएंटरोलोजी विभाग के जीआई सर्जन डाॅ कमल किशोर ने बयां किया।

 

84 वर्षीय रोगी के पेट में कैंसर की सफल सर्जरी

उदयपुर 25 जुलाई 2019, कुछ रोगी वाकई एक मिसाल होते है। उनके जीने का जज़्बा एवं जिंदगी की लड़ाई को जीतने की जिद्द कई लोगों को जिंदादिली का हौसला दे जाती है। ऐसे रोगियों के लिए उम्र मात्र एक संख्या होती है। ऐसे ही रोगियों में से औरों के लिए प्रेरणास्त्रोत बने आबू रोड निवासी एवं 84 वर्षीय भूर सिंह जी चौहान। पेट में दूसरी स्टेज के कैंसर का सफल ऑपरेशन्स करा स्वस्थ्य जीवन व्यतीत कर रहे का यह वाक्या गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल के गेस्ट्रोएंटरोलोजी विभाग के जीआई सर्जन डाॅ कमल किशोर ने बयां किया।

भूख न लगने, उल्टियां होने एवं कुछ भी न खा पाने की स्थिति के कारण रोगी गीतांजली हाॅस्पिटल परामर्श के लिए आए थे। हीमोग्लोबिन की कमी के कारण रोगी एनेमिक भी थे। सीटी स्केन की जांच में पेट में दूसरी स्टेज के कैंसर की पुष्टि हुई। पेट में कैंसर के उपचार हेतु केवल सर्जरी ही एकमात्र विकल्प था। ऑपरेशन से पूर्व उन्हें चार यूनिट ब्लड चढ़ाया गया और फिर सर्जरी की गई। तत्पश्चात् उन्हें आईसीयू में भर्ती किया जहां से उन्हें आठवें दिन हाॅस्पिटल से छुट्टी दे दी गई और अब वे बिल्कुल स्वस्थ है। साथ ही आराम से खाना खा पा रहे है। इस सफल सर्जरी में डाॅ कमल किशोर के साथ एनेस्थेटिस्ट डाॅ वीएस राठौड़ एवं ओटी इंचार्ज हेमन्त गर्ग का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा।

डाॅ कमल ने बताया कि इस रोगी की गेस्ट्रोएंटरोलोजिस्ट डाॅ पंकज गुप्ता ने एंडोस्कोपी की जांच की थी परंतु उसमें कुछ नहीं आया। वहीं तीन बायोप्सी भी की गई परंतु कैंसर का निदान न हुआ। चूंकि यह लक्षण कैंसर के थे इसलिए यह जांचें करनी आवश्यक थी। और यह भी सुनिश्चित करना था कि कैंसर फैला हुआ तो नहीं है। क्योंकि यदि कैंसर फैल गया होता तो सर्जरी द्वारा भी इलाज संभव नहीं था। परंतु कैंसर पेट तक ही सीमित था जिसका सफल ऑपरेशन किया गया। ऑपरेशन के दौरान लिवर में दो गांठ भी पाई गई परंतु वह लिवर की ही गांठ थी।

अब पढ़ें उदयपुर टाइम्स अपने मोबाइल पर – यहाँ क्लिक करें

गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल के सीईओ प्रतीम तम्बोली ने रोगी की बेहतर स्वस्थ की कामना करते हुए उन्हें बधाई दी और कहा कि, ‘यदि कोई रोगी इस उम्र में भी कैंसर जैसी जटिल बीमारी से लड़कर ठीक हो सकता है तो किसी भी रोगी को हार नहीं माननी चाहिए। अनुभवी व कुशल जीआई सर्जन, गेस्ट्रोएंटरोलोजिस्ट एवं मेडिकल ऑन्कोलोजिस्ट के संयुक्त प्रयासों से इस रोगी को नया जीवन मिला। साथ ही यह सफल इलाज गीतांजली मेडिकल काॅलेज एवं हाॅस्पिटल में एक ही छत के नीचे संपूर्ण एवं समर्पित देखभाल को दर्शाता है।’

From around the web