श्रीएकलिंगनाथ जी मंदिर का ध्वजदण्ड शिखर कलश प्रतिष्ठा महोत्सव सम्पन्न

उदयपुर, मेवाड़ अधिपति परमेश्वराजी महाराज श्री एकलिंगनाथ जी के मंदिर पर ध्वजदण्ड शिखर कलश प्रतिष्ठा का पांच दिवसीय महोत्सव वैशाख शुक्ल दशमी वि.सं. 2076 को सम्पूर्ण हुआ। यह समारोह विधि-विधान पूर्वक वैशाख शुक्ल षष्ठी 10 मई 2019 को आरम्भ होकर पांचवें दिन श्रीजी अरविन्द सिंह मेवाड़ के कर कमलों से पूर्णाहुति के पश्चात् सम्पूर्ण हुआ।

 

श्रीएकलिंगनाथ जी मंदिर का ध्वजदण्ड शिखर कलश प्रतिष्ठा महोत्सव सम्पन्न

उदयपुर, मेवाड़ अधिपति परमेश्वराजी महाराज श्री एकलिंगनाथ जी के मंदिर पर ध्वजदण्ड शिखर कलश प्रतिष्ठा का पांच दिवसीय महोत्सव वैशाख शुक्ल दशमी वि.सं. 2076 को सम्पूर्ण हुआ। यह समारोह विधि-विधान पूर्वक वैशाख शुक्ल षष्ठी 10 मई 2019 को आरम्भ होकर पांचवें दिन श्रीजी अरविन्द सिंह मेवाड़ के कर कमलों से पूर्णाहुति के पश्चात् सम्पूर्ण हुआ।

श्रीएकलिंगनाथजी मंदिर पर मेवाड़ के 53वें श्रीएकलिंग दीवान महाराणा उदय सिंह जी ने विक्रम संवत् 1602 में मंदिर पर ध्वजदण्ड-कलश की स्थापना करवाई थी। 474 वर्ष उपरांत मेवाड़ के 76वें श्री एकलिंग दीवान श्रीजी अरविन्द सिंह मेवाड़ ने पुनः समर्पित श्रद्धा भाव से देवप्रासाद निर्माण व जीर्णोद्धार के देववास्तुशास्त्रानुरूप अपने सुधर्म का पालन करते हुए श्रीएकलिंगनाथजी मन्दिर में विधि विधानपूर्वक ध्वजदण्ड – कलश प्रतिष्ठा स्थापना का धर्मिक महोत्सव सम्पन्न करवाया। श्रीएकलिंगजी ट्रस्ट के उप-सचिव अजय विक्रम सिंह ने बताया कि मंदिर पर स्थापित स्वर्ण कलश की ऊँचाई 6 फिट तथा ध्वजदण्ड की ऊँचाई 28 फिट के लगभग है।

ध्वजदण्ड-कलश प्रतिष्ठा से पूर्व चौथे दिन लक्ष्यराज सिंह जी मेवाड़ ने प्रतिष्ठित होने वाले ध्वजदण्ड-कलश की दर्शन कर पूजा-अर्चना समारोह में सम्मिलित हुए। जहां पुरोहित जी एवं पंडितों ने मण्डप में मंत्रोच्चार के साथ विधि-विधान से ध्वजदण्ड-कलश से लाल वस्त्र हटाए और पूजन किया गया।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

वैशाख शुक्ल दशमी को प्रातः से ही श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। कैलाशपुरी एवं आस-पास के गांव एवं नगरों से भी काफी संख्या में श्रद्धालु इस महोत्सव का हिस्सा बने। हवन मण्डप को पुष्पों से सजाया गया तथा जवारें स्थापित किये गये। अरविन्द सिंह मेवाड़ एवं लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ ने मंदिर प्रांगण में पहुंच ध्वजदण्ड-शिखर को प्रणाम कर परमेश्वराजी महाराज एकलिंगनाथ के दर्शन किये फिर मण्डप में प्रवेश किया, जहां पण्डितों के मंत्रोच्चार के साथ श्रीजी अरविन्द सिंह मेवाड़ ने पूर्णाहुति दी।

श्रीएकलिंगनाथ जी मंदिर का ध्वजदण्ड शिखर कलश प्रतिष्ठा महोत्सव सम्पन्न

इसके बाद भोग लगाया गया और दिन में 1.30बजे बाद भोग प्रसादी हेतु श्रीएकलिंगजी सराय में सभी को आमंत्रित किया गया जहां श्रद्धालुओं, कैलासपुरी गांव वासियों आदि ने प्रसादी ग्रहण की। ध्वजदण्ड-शिखर स्थापना महोत्सव में पूर्व राजघराने के राजकुमार यतीन्द्र मोहन प्रताप मिश्र अयोध्या से इस पावन समारोह में दर्शनार्थ सम्मिलित हुए। यह पंच दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान श्री एकलिंगजी ट्रस्ट द्वारा सम्पन्न किया गया।

From around the web