विधानसभा आम चुनाव को लेकर उडनदस्ते व विभिन्न दलों का गठन

जिला निर्वाचन विभाग उदयपुर की ओर से विधानसभा आम चुनाव 2018 के दौरान विभिन्न कार्यो की सतत् निगरानी, नियंत्रण व लेखा - जोखा रखने के लिए उडनदस्ते व विभिन्न दलों का विधानसभा वार गठन किया गया है।

 

विधानसभा आम चुनाव को लेकर उडनदस्ते व विभिन्न दलों का गठन

जिला निर्वाचन विभाग उदयपुर की ओर से विधानसभा आम चुनाव 2018 के दौरान विभिन्न कार्यो की सतत् निगरानी, नियंत्रण व लेखा – जोखा रखने के लिए उडनदस्ते व विभिन्न दलों का विधानसभा वार गठन किया गया है।

जिला निर्वाचन अधिकारी बिष्णुचरण मल्लिक ने बताया कि जिले की आठो विधानसभाओं में उडनदस्ते नियुक्त किये गये है। इनमें प्रत्येक विधानसभा में तीन दलों का गठन किया गया है, जो 24 घंटे सक्रिय रहेंगे। इनमें विकास अधिकारी, तहसीलदार, अधिशाषी अभियंता, उपतहसीलदार एवं उपनिदेशक स्तर के अधिकारी शामिल है। इन उडनदस्तों में चार दलों को आरक्षित रखा गया है।

उन्होंने बताया कि आठों विधानसभाओं में लेखा संबंधी कार्यो की जाॅच एवं सतत् माॅनिटरिंग के लिए लेखादल का गठन किया गया है जिसमें उप कोषाधिकारी व लेखाधिकारी नियुक्त किये है। इसी प्रकार प्रत्येक विधानसभा वीडियो अवलोकन दल गठित किये गये है जिनमें संबंधित आॅफिस कानूनगों, भू-अभिलेख निरीक्षक व एओके की नियुक्ति की गई है तथा प्रत्येक विधानसभा में दो-दो वीडियो निगरानी दल का गठन किया गया है जिनमें संबंधित भू-अभिलेख निरीक्षकों की यह दायित्व सौंपा गया है।

Download the UT App for more news and information

वहीं समस्त विधानसभाओं में स्थिर जाॅच दल के तहत उदयपुर शहर विधानसभा में 4 दल तथा अन्य सभी विधानसभा क्षेत्र में तीन-तीन दलों का गठन किया गया है जिसमें विकास अधिकारी, अधिशाषी अभियन्ता, वाणिज्यिक कर अधिकारी, सहायक अभियन्ता एवं उपनिदेशक स्तर के अधिकारी नियुक्त किये गये है। इनमें 3 दलों को आरक्षित रखा गया है।

चुनाव संबंधी कार्यो में होने वाले व्यय पर निगरानी के लिए जनजाति परियोजना अधिकारी के.पी.सिंह चौहान को पर्यवेक्षण अधिकारी व एसएलएमटी तथा मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के वित्तीय सलाहकार गिरिश कच्छारा को प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया गया है। वहीं गोगुन्दा, झाड़ोल, खेरवाड़ा, उदयपुर ग्रामीण, मावली, वल्लभनगर व सलूम्बर में एक-एक सहायक व्यय पर्यवेक्षक तथा उदयपुर शहर विधानसभा में दो सहायक व्यय पर्यवेक्षक लगाये गये है। इनमें उप कोषाधिकारी व लेखाधिकारी शामिल है।

From around the web