युवा सांस्कृतिक प्रतिभा खोज महोत्सव-2016

राजस्थान युवा बोर्ड एवं राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड संगठन की ओर से जिले में सांस्कृतिक क्षेत्र की युवा प्रतिभाओं को तराशने के लिए 5 दिसंबर को ब्लॉक स्तर पर ब्लॉक के नॉडल राउमावि एवं जिला स्तर पर 7 दिसंबर को भारतीय लोक कला मण्डल उदयपुर में प्रतिस्पर्धाओं के विभिन्न आयोजन होंगे।

 

युवा सांस्कृतिक प्रतिभा खोज महोत्सव-2016

राजस्थान युवा बोर्ड एवं राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड संगठन की ओर से जिले में सांस्कृतिक क्षेत्र की युवा प्रतिभाओं को तराशने के लिए 5 दिसंबर को ब्लॉक स्तर पर ब्लॉक के नॉडल राउमावि एवं जिला स्तर पर 7 दिसंबर को भारतीय लोक कला मण्डल उदयपुर में प्रतिस्पर्धाओं के विभिन्न आयोजन होंगे।

इसके लिए ब्लॉक एवं जिला स्तर पर कमेटी का गठन पूर्व में कर लिया गया है। कार्यक्रम की रूपरेखा एवं सफल क्रियान्विति के लिए ब्लॉक स्तर के स्काउट-गाइड सचिव/संयुक्त सचिव एवं स्काउटर्स-गाइडर्स की बैठक का आयोजन मंगलवार को स्काउट गाइड मण्डल मुख्यालय में किया गया।

इसमें सहायक राज्य संगठन आयुक्त मानमहेन्द्रसिंह भाटी, सी.ओ. स्काउट शरदकुमार शर्मा, मण्डल सचिव सुरेशचन्द्र खटीक, सी.ओ. गाइड रेखा शर्मा आदि ने महोत्सव के बारे में विस्तार से बताया।

बैठक में बताया गया कि इन प्रतियोगिताओं वे ही अध्ययनरत व गैर अध्ययनरत युवक-युवतियां भाग लेंगे, जिनकी आयु 1 जनवरी 2017 तक 15 से 29 वर्ष हो। अभ्यर्थी अपने जन्म तिथि प्रमाण पत्र एवं एक पासपोर्ट साईज फोटो के साथ 4 दिसंबर तक ब्लॉक स्तर पर नॉडल राउमावि विद्यालय पर आवेदन फार्म भरकर युवा सांस्कृतिक प्रतिभा खोज महोत्सव 2016 में भाग ले सकते हैं।

युवा सांस्कृतिक महोत्सव का उद्देश्य राज्य के युवाओं में विभिन्न कलात्मक क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा को विकसित करना, प्रतिभा की खोज करना, चयनित युवा प्रतिभाशाली कलाकारों को प्रोत्साहित करना एवं संबंधित कला में उनकी योग्यताओं में वृद्धि करना, राज्य के दुर्लभ एवं लुप्त कला को संवर्धन करना, युवाओं को नैतिक मूल्य के विकास के लिए विविधतापूर्ण सांस्कृतिक विरासत को समझने पर बल देना, पारंपरिक एवं ग्रामीण कलाओं को प्रचारित करना आदि है।

महोत्सव के अन्तर्गत प्रतिभा खोज के अन्तर्गत सामूहिक प्रतियोगिता लोक नृत्य, लोक गायन, नाटक, क्लासिक डाँस कत्थक, भरत नाट्यम, ओडीसी, चित्र कला, एकल गायन, आशु भाषण क्लासिक इन्स्ट्रूमेन्टल- एकल-सितार, बांसूरी, तबला, मृदंगम, वीणा, हारमोनियम, गिटार, फड, रम्मत, रावण हत्था एवं अलगोजा वादन आदि का आयोजन होगा।

बैठक में उदयपुर जिले के समस्त सचिव संयुक्त सचिव स्थानीय स्काउटर्स गाइडर्स एवं रोवर रेंजर्स आदि में भाग लिया।

From around the web