सतरंगी प्रस्तुतियों में बरसे जीवन के रंग – सी पी एस के बच्चों के संग

वार्षिकोत्सव का तीसरा चरण नर्सरी से सेकण्ड क्लास तक के नन्हें मुन्नों का होगा। वे अपनी नन्हीं सी खिलखिलाहट से यह बताएंगे कि जिन्दगी कितनी खुशियों से भरी है। कितना ही तनाव हो, शिशु की किलकारी उसे दूर कर देती है, बच्चे की मुस्कुराहट जीवन को नया मोड़ देती है और बच्चे का रूठना और उसे मनाना, जीवन की अनमोल अनुभूति होती है। तीसरे चरण के अतिथि विंग कमाण्डर एस.आर. सिंह (एयर एनसीसी उदयपुर के ग्रुप कमाण्डर एनसीसी) होंगे। कार्यक्रम बुधवार सुबह साढ़े दस बजे विवेकानंद सभागार में शुरू होगा

 

सतरंगी प्रस्तुतियों में बरसे जीवन के रंग – सी पी एस के बच्चों के संग

सतरंगी प्रस्तुतियों में बरसे जीवन के रंग -बच्चों ने जताया प्रकृति संरक्षण का संकल्प -जीवन को सकारात्मक ऊर्जा से भरने का दिया संदेश -सीपीएस का वार्षिकोत्सव शुरू

उठो, जागो और लक्ष्य की प्राप्ति तक निरंतर बढ़ते रहो, स्वामी विवेकानंद जी के इस प्रेरणादायी वाक्य के साथ सुखाडि़या विश्वविद्यालय के विवेकानंद सभागार में हुए सेंट्रल पब्लिक स्कूल के वार्षिकोत्सव ‘पोलेरिस’ (दमकता तारा) में बच्चों ने जीवन को सकारात्मक जीने और अपने लक्ष्य के प्रति समर्पित रहने के संदेश को साकार कर दिया। स्कूल की तरफ से पहली बार तीन चरणों में हो रहे इस वार्षिकोत्सव में 1200 से अधिक बच्चे प्रस्तुतियों का हिस्सा बने हैं।

रोमांचित कर देने वाली वंदेमातरम् प्रस्तुति के साथ स्कूल के ही होनहारों ने हर वाद्य पर अपनी प्रतिभा के सुर बिखेरे तो अभिभावकों ने खड़े होकर उनकी हौसला अफजाई की। करीब तीन मिनट तक अभिभावक करतल ध्वनि से बच्चों को सराहते रहे। इस प्रस्तुति ने केवल सुर और संगीत की ऊंचाइयों से रू-ब-रू कराया, बल्कि इसके साथ जुड़ी वंदेमातरम् और सारे जहां से अच्छा गीत की पंक्तियों ने देश के प्रति समर्पण और सर्व धर्म समभाव की भावना को भी साकार कर दिया।

सतरंगी प्रस्तुतियों में बरसे जीवन के रंग – सी पी एस के बच्चों के संग

मंगलवार सुबह हुए पहले चरण में तीसरी से पांचवीं के बच्चों ने अभिभावकों को पूरी दुनिया की सैर कराई तो छठी के बच्चों ने समाज की विकराल बन चुकी समस्या ‘विफलता और धीरता की कमी’ पर अपनी प्रस्तुति के माध्यम से यह संदेश दिया कि सफलता और विफलता दोनों को ही समान रूप से स्वीकार करना चाहिए। संगीत के साथ दी गई योगासनों की प्रस्तुति ने भी दर्शकों को अभिभूत कर दिया। अर्थ डांस के माध्यम से बच्चों ने धरा को हरा-भरा बनाने का संकल्प जताया। पहले चरण के अतिथि राजस्थान विद्यापीठ के पूर्व वीसी प्रो. बीपी भटनागर और इंटैक के उदयपुर चेप्टर के कन्वीनर एस.के. वर्मा ने बच्चों की थीम आधारित प्रस्तुतियों में छिपे संदेश को जीवन में उतारने की जरूरत बताई।

वार्षिकोत्सव का दूसरा चरण शाम को हुआ जिसमें बच्चों ने स्कूल में अध्ययन-अध्यापन के लिए निर्धारित बिन्दुओं सामाजिक विकास, शारीरिक विकास, मानसिक विकास, भावनात्मक विकास, एक हुनर, भाषा विकास, दिनचर्या और आदतों पर आधारित प्रस्तुतियों के माध्यम से उन सभी आयामों को दर्शा दिया जो एक नौनिहाल से युवा होने तक जरूरी हैं। इस मौके पर एनसीसी हेडक्वार्टर से पधारे अतिथि कर्नल हरिभगवान ने अध्ययन और अध्यापन से जुड़े इन बिन्दुओं को जीवन निर्माण के लिए महत्वपूर्ण बताया। इस दौरान संस्थान के संरक्षक अनिल शर्मा, संस्थान की निदेशक श्रीमती अलका शर्मा, संयुक्त निदेशक दीपक शर्मा, वाइस प्रिंसिपल धीरा सामर, प्रशासक सुनील बाबेल ने अतिथियों व अभिभावकों का स्वागत किया। सतरंगी प्रस्तुतियों में बरसे जीवन के रंग – सी पी एस के बच्चों के संग

आज नन्हें-मुन्नों का दिन वार्षिकोत्सव का तीसरा चरण नर्सरी से सेकण्ड क्लास तक के नन्हें मुन्नों का होगा। वे अपनी नन्हीं सी खिलखिलाहट से यह बताएंगे कि जिन्दगी कितनी खुशियों से भरी है। कितना ही तनाव हो, शिशु की किलकारी उसे दूर कर देती है, बच्चे की मुस्कुराहट जीवन को नया मोड़ देती है और बच्चे का रूठना और उसे मनाना, जीवन की अनमोल अनुभूति होती है। तीसरे चरण के अतिथि विंग कमाण्डर एस.आर. सिंह (एयर एनसीसी उदयपुर के ग्रुप कमाण्डर एनसीसी) होंगे। कार्यक्रम बुधवार सुबह साढ़े दस बजे विवेकानंद सभागार में शुरू होगा।

From around the web