संभागीय आयुक्त ने इमरजेंसी के बाहर नो पार्किंग जोन घोषित करने के दिए निर्देश


संभागीय आयुक्त ने इमरजेंसी के बाहर नो पार्किंग जोन घोषित करने के दिए निर्देश

संभागीय आयुक्त ने किया एमबी चिकित्सालय का दौरा

 
m b hospital
UT WhatsApp Channel Join Now

संभागीय आयुक्त ने एमबी चिकित्सालय का दौरा कर इमरजेंसी के बाहर नो पार्किंग जोन घोषित कर दुपहिया और चौपहिया वाहनों को सख्ती से प्रतिबंधित करने के निर्देश दिए ।

संभाग के सबसे बड़े सरकारी महाराणा भूपाल हॉस्पिटल के कायाकल्प को लेकर संभागीय आयुक्त राजेन्द्र भट्ट ने गुरुवार को राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की मीटिंग ली। उन्होंने एमबी चिकित्सालय का भ्रमण करते हुए पूर्व दौरे के दोरान सोंपे गए समस्त कामों का फीडबैक लिया। उन्होंने एमबी चिकित्सालय की पुरानी व नई इमरजेंसी के मुख्य दुवार पर वाहनों की पार्किंग की स्थिति देखकर नाराजगी जताई। यहां मरीजों के साथ आने वाले परिजन अपने वाहनों को नो पार्किंग जोन में रख देते हैं। जिससे अस्पताल परिसर के अंदर आने-जाने में मरीजों को दिक्कत होती है। कई बार एंबुलेंस से मरीजों को उतारकर अस्पताल के अंदर ले जाने में भी दिक्कत होती है।

गर्मी के मौसम में इन दिनों जिला अस्पताल में 600 से अधिक ओपीडी रोजाना आ रही है। ऐसे में वाहनों के अव्यवस्थित रखने से व्यवस्थाएं गड़बड़ा रही हैं। इन क्षेत्र को उन्होंने नों पार्किंग जोन घोषित कर दुपहिया और चौपहिया वाहनों को सख्ती से प्रतिबंधित करने के निर्देश दिए। जिसमें संभागीय आयुक्त ने पीडब्ल्यूडी एसई अशोक कुमार से विभिन्न वार्ड में करवाए मरम्मत एवं निर्माण कार्यों की प्र​गति रिपोर्ट की जानकारी ली। 

आयुक्त ने हॉस्पिटल में सिविल, इलेक्ट्रिक सहित अन्य कामों की स्थिति के बारे में पूछा। उन्होंने अफसरों को कहा कि हॉस्पिटल मेंं किए जा रहे काम के पहले की और बाद की सॉफ्ट कॉपी वे उन्हें उपलब्ध कराएंगे। टाइम बाउंड तरीके से काम करना होगा। उन्होंने बड़े कामों के प्रस्ताव तैयार करने, टेंडर प्रक्रिया पूर्ण करने व कार्ययोजना बनाकर समस्त कामों को पूर्ण करने के दिशा निर्देश दिए। 

संभागीय आयुक्त राजेंद्र भट्ट ने यह तक कहा की हमारे पास संसाधन और बजट की कोई कमी नही है,सभी कार्य गुणवत्ता के साथ हो। आरएनटी प्राचार्य डॉ. लाखन पोसवाल ने चिकित्सालय मरम्मत कार्यों में अब तक की प्रगति से अवगत कराया। बता दें, कुछ दिन पहले संभागीय आयुक्त ने हॉस्पिटल का निरीक्षण किया था, जिसमें वहां की हालिया स्थिति के बारे में जानकारी ली थी। इस दोरान मुख्यमंत्री की बजट घोषणा के अनुरूप मातृ विज्ञान संस्थान का निर्माण जानना चिकित्सालय के स्थान पर नव निर्माण की संभावनाओं पर चर्चा की गयी। आयुक्त भट्ट ने अस्पताल परिसर में मरीजों के परिजनों के लिए बैठक की व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए। इस पर डॉ. पोसवाल ने एमबी बेसमेंट पार्किंग एरिया में बैठक की व्यवस्थाओं का सुझाव दिया। 

बैठक में फायर फाइटिंग सिस्टम एवं सुरक्षा के इंतजामों पर चर्चा करते हुए संभागीय आयुक्त ने कहा कि चिकित्सालय के विभिन्न वार्डों एवं कक्षों में आग से होने वाले हादसों से सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये जाए। संभागीय आयुक्त ने कहा कि चिकित्सालय परिसर में जहां भी छज्जे क्षतिग्रस्त है, उन्हें जल्द ठीक कराएं और जहां आवश्यकता हो वहां छज्जे हटवाकर वैकल्पिक व्यवस्था करें। उन्होंने कहा कि जहां प्लास्टर गिरने की संभावना है या कोई अन्य भाग क्षतिग्रस्त है तो उसे भी जल्द सुधारें।बैठक में अतिरिक्त संभागीय आयुक्त अंजलि राजोरिया सहित चिकित्सालय प्रशासन के विभिन्न विभागाध्यक्ष एवं अन्य संबंधित चिकित्सा आधिकारियों ने कई तरह के सुझाव दिए।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal