लॉकडाउन के कारण बाधित कार्यों को जल्द शुरू करें - कलक्टर

लॉकडाउन के कारण बाधित कार्यों को जल्द शुरू करें - कलक्टर
 

कलक्टर ने की विभागीय गतिविधियों की समीक्षा
 
लॉकडाउन के कारण बाधित कार्यों को जल्द शुरू करें - कलक्टर

पेयजल परियोजनाओं को प्राथमिकता से पूर्ण करावें, जलापूर्ति की शिकायतों को व्यक्तिगत देखें

कृषि कनेक्शन में पेंडेंसी ना रहे

मॉडल हॉस्पीटल की जरूरतों की सूची बनाओ  

पीडब्ल्यूडी से की सड़कों व निर्माण कार्यों की समीक्षा

उदयपुर, 1 जून 2020। जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने समस्त संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि लॉकडाउन के कारण आमजनता की आधारभूत आवश्यकताओं से संबंधित बाधित हुए और लंबित  कार्यों को पूरी गति से प्रारंभ करते हुए इसका लाभ संबंधितों तक पहुंचावें।

कलक्टर श्रीमती आनंदी लॉकडाउन के करीब सवा दो माह के बाद सोमवार को बिजली, पानी, स्वास्थ्य और लोक निर्माण विभाग से संबंधित विभागीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए संबोधित कर रही थी।

इस मौके पर उन्होंने इन चारों विभागों के उच्चाधिकारियों से विभाग के रूके हुए लंबित कार्यों की वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी ली और इन्हें जल्द से जल्द प्रारंभ करते हुए पूर्ण कराने के निर्देश दिए। कलक्टर ने कहा कि जिले में डेढ़ लाख प्रवासी पहुंचे है ऐसे में यदि विकास कार्यों को प्रारंभ करने में श्रमिकों की आवश्यकता हो तो जिले में लॉकडाउन के कारण अन्य राज्यों से बाहर से आए कुशल-अकुशल श्रमिकों का पूरा-पूरा उपयोग करें।  

पेयजल परियोजनाओं को प्राथमिकता से पूर्ण करावें

कलक्टर ने पीएचईडी के अधीक्षण अभियंता नक्षत्र सिंह से जिलेभर में पेयजलापूर्ति के लिए विभागीय व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रीष्म ऋतु को देखते हुए आवश्यकता होने पर टेंकरों से जलापूर्ति की व्यवस्था के बारे में भी पूछा और इसे गंभीरता से लेने व तत्काल कार्यवाही को निर्देशित किया। कलक्टर ने सोलर पनघट स्थापना के बारे पूछा तो सिंह ने बताया कि मावली, कुराबड़, गोगुंदा, गिर्वा आदि ब्लॉक्स में 22 पनघट स्थापित हो चुके हैं। कलक्टर ने शेष को जल्द से जल्द पूर्ण करने को कहा। कलक्टर ने बड़गांव, सलूंबर, डेलाणा और अन्य क्षेत्रों में पेयजल व परियोजनाओं से संबंधित समस्याओं पर जानकारी ली तथा इन पर अपडेट जानकारी अगली बैठक में प्रस्तुत करने को कहा। कलक्टर के निर्देशों पर सिंह ने बताया कि लंबित पेयजल परियोजनाओं पर ठेेकेदारों को अधिशासी अभियंता के स्तर से नोटिस जारी किए गए हैं और 15 दिनों में कार्य पूर्ण नहीं करने पर कार्यवाही की चेतावनी दी है।

जलापूर्ति की शिकायतों को व्यक्तिगत देखें

बैठक दौरान कलक्टर ने पीएचईडी के अधीक्षण अभियंता सिंह को पेयजलापूर्ति संबंधित शिकायतों के दर्ज होने और उनके देरी से निस्तारण होने की स्थिति पर कहा कि जलापूर्ति संबंधित शिकायतों को वे खुद प्रतिदिन मॉनिटर करें और देखें कि शिकायत करने के बाद उपभोक्ता को अपनी समस्या के दूर होने के लिए इंतजार न करना पड़े। कलक्टर ने निर्देश दिए कि शिकायत दर्ज होते ही टीम मौके पर पहुंचे और 24 घंटे के भीतर इस तरह की शिकायत का निस्तारण हो।

कृषि कनेक्शन में पेंडेंसी ना रहे

विद्युत विभागीय समीक्षा दौरान कलक्टर ने एवीवीएनएल के अधीक्षण अभियंता गिरीश जोशी से विद्युत कनेक्शन और विशेषकर कृषि कनेक्शनों की पेंडेंसी की जानकारी ली तथा निर्देश दिए कि इस पेंडेंसी को जल्द से जल्द जीरो करें। उन्होंने बिजली बिलों संबंधित शिकायतों, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत मीटर लगाने के कार्य, ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली कनेक्शन के मामलों सहित लंबित समस्त कार्यों को पुश करने के निर्देश दिए।

मॉडल हॉस्पीटल की जरूरतों की सूची बनाओ  

बैठक दौरान कलक्टर श्रीमती आनंदी ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुए आरसीएचओ डॉ. अशोक आदित्य से टीकाकरण, परिवार कल्याण व संस्थागत प्रसव से संबंधित जानकारी लेने के बाद जिले की समस्त पीएचसी व सीएचसी को मॉडल बनाने की दृष्टि से संस्थावार संसाधनों की उपलब्धता और आवश्यकता की सूची तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ बनाने की दृष्टि से राज्य सरकार द्वारा विधायक मद से राशि उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है ऐसे में हर चिकित्सा संस्थान को सुदृढ़ बनाने के लिए सूची एक सप्ताह में तैयार कर उपलब्ध करावें। कलक्टर ने इन चिकित्सालयों में एक्सरे, सोनोग्राफी मशीन, लेबर रूम की व्यवस्थाएं, बेबी वार्ड के संसाधन, डेंटल चेयर व दुर्गम स्थानों के लिए टू-व्हीलर एंबुलेंस जैसी सुविधाओं की सूची तैयार करने पर जोर दिया।  

पीडब्ल्यूडी से की सड़कों व निर्माण कार्यों की समीक्षा

बैठक में कलक्टर ने लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता अशोक शर्मा से ग्रामीण क्षेत्रों में प्रारंभ हुए पीएमजीएसवाई के कार्यों सहित भवन निर्माण व मरम्मत कार्यों के बारे में जानकारी ली। इस दौरान शर्मा ने बताया कि विभाग द्वारा नरेगा के तहत 45 कार्यों पर 2500 श्रमिक नियोजित कर रखें हैं कलक्टर ने विभाग को स्वीकृत करीब 200 कार्यों पर अधिकाधिक श्रमिक नियोजित करने के निर्देश दिए। कलक्टर ने जिला चिकित्सालय के ओपीडी कार्य, नर्सिंग हॉस्टल में बकाया इलेक्ट्रिक कार्य व हास्पीटल छत मरम्मत के कार्य, खेरवाड़ा व लसाडि़या कॉलेज की प्रगति की जानकारी लेकर कार्य पूर्णता के निर्देश दिए।  

बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर (शहर) संजय कुमार, सहायक निदेशक (लोक सेवाएं) दीपक मेहता सहित संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।  
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal