400 मेडिकल मोबाइल वाहनों के जरिए उपचार सेवाएं

400 मेडिकल मोबाइल वाहनों के जरिए उपचार सेवाएं

चिकित्सा मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से की समीक्षा
 
400 मेडिकल मोबाइल वाहनों के जरिए उपचार सेवाएं
कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु लागू कर्फ्यूग्रस्त, हॉटस्पॉट एवं उपखंड़ मुख्यालय क्षेत्रों पर चिकित्सा सेवाओं से वंचित आमजन को मोबाइल मेडिकल यूनिट वाहनों द्वारा यह सेवाएं सुलभ करवाई जा रही हैं।

उदयपुर / जयपुर, 22 अप्रेल 2020 । चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने प्रदेश में मोबाइल मेडिकल यूनिट, मोबाइल वाहनों एवं बेस एम्बूलेंस के जरिए से चिकित्सा और स्वास्थ्य सुविधाओं के संचालन की तैयारियों की विस्तृत समीक्षा कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु लागू कर्फ्यूग्रस्त, हॉटस्पॉट एवं उपखंड़ मुख्यालय क्षेत्रों पर चिकित्सा सेवाओं से वंचित आमजन को मोबाइल मेडिकल यूनिट वाहनों द्वारा यह सेवाएं सुलभ करवाई जा रही हैं।

डॉ. शर्मा ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के सीएमएचओ व अन्य चिकित्सा अधिकारियों को गंभीरतापूर्वक कार्यवाही करने के निर्देश दिए।  उन्होंने बताया कि प्रदेश में 295 मेडिकल मोबाइल यूनिट व 115 बेस एंबूलेस सभी आवश्यक दवाओं व जांच सुविधाओं से युक्त हैं। कुल 400 मेडिकल मोबाइल यूनिट एवं वाहनों द्वारा उपचार सेवाएं देने के लिए माइक्रो प्लान तैयार कर व्यवस्थाएं कर ली गई हैं।

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि उपखंड मुख्यालयों के साथ अन्य महत्वपूर्ण स्थानों पर सुबह 8 बजे से 2 बजे तक इन मोबाइल वाहनों द्वारा चिकित्सा उपचार सेवाएं उपलब्ध होंगी। कोई भी व्यक्ति इस सेवा के अंतर्गत निःशुल्क उपचार ले सकेगा। उन्होंने बताया कि इन मोबाइल वाहनों में लाउडस्पीकर की व्यवस्था भी की गई है ताकि घरों में रह रहे लोगों को इसकी सूचना आसानी से मिल सके।  

अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने सभी सीएमएचओ को निर्देश दिए कि लॉकडाउन या कोरोना की वजह से आमजन को सामान्य बीमारियों के उपचार में कोई परेशानी आने नहीं दी जाये। उन्होंने प्रत्येक मोबाइल वाहन में चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ एवं अन्य कार्मिकों की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने प्रतिदिन प्रति मोबाइल यूनिट के कार्यों की रिपोर्ट निदेशालय, जयपुर पर प्रेषित करने के निर्देश दिए हेैं। उन्होंने बताया कि मोबाइल वाहनों, मानव संसाधन व अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं के लिए आवश्यक गाइड लाइन भी जारी की गयी हैं।  

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रबंध निदेशक आरएमएससीएल प्रीतम बी. यशवंत, मिशन निदेशक एनएचएम नरेश कुमार ठकराल, निदेशक जनस्वास्थ्य डॉ.के.के.शर्मा, निदेशक आरसीएच डॉ. आर.एस.छीपी तथा सभी जिलों के सीएमएचओ, अतिरिक्त व डिप्टी सीएमएचओ तथा संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे।

उदयपुर में यह रहेगी व्यवस्था

वीसी के दिए गए निर्देशों की पालना में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश खराड़ी ने बताया कि कोरोना संक्रमण के कारण जारी लॉकडाउन की वजह से जो किडनी मरीज, हार्ट मरीज या अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीज चिकित्सालय तक नहीं पहुंच पा रहे है, उन्हें मेडिकल मोबाइल यूनिट के माध्यम से ओपीडी सेवाएं दी जाएगी। 

उदयपुर जिले में 12 ब्लॉक्स पर एक मेडिकल मोबाइल वेन रहेगी जिसमें एक चिकित्सक, एक जीएनएम व एक सहायक स्टाफ रहेगा। इसके अलावा जिन क्षेत्रों में लोग सीएचसी-पीएचसी तक नहीं पहुंच पा रहे है। चिकित्सा विभाग के मेट्रो प्लान के तहत उन क्षेत्रों में विभाग का वाहन एवं संबंधित चिकित्सक पहुंचकर लोगों का इलाज करेगा। इस संबंध में योजना तैयार कर अलग से सूचना समाचार पत्र अथवा अन्य माध्यमों से दी जाएगी। इन वाहनों पर लाउडस्पीकर के माध्यम से लोगों को जागरूक भी किया जाएगा। जिले के विभिन्न ब्लॉक्स सहित शहरी क्षेत्र में लॉकडाउन के पालन कर रहे लोगों को चिकित्सा सेवाओं का लाभ प्रदान करने व जागरूक करने हेतु इन वाहनों का संचालन किया जाएगा।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal