बायोफ्यूल्स कितने महत्वपूर्ण हैं और उनका भविष्य क्या होगा

बायोफ्यूल्स कितने महत्वपूर्ण हैं और उनका भविष्य क्या होगा

 
Importance and Future of Biofuels

10 अगस्त को वर्ल्ड बायोडीजल डे (बायोफ्यूल का एक प्रकार) मनाया गया था, और क्लीन फ्यूल्स (स्वच्छ ईंधन) का यह अनौपचारिक उत्सव भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में है। साल 2018 में, सरकार ने बायोफ्यूल पॉलिसी को यह सोचकर मंजूरी दी थी कि साल 2030 तक, पूरे फ्यूल मार्केट के 25% हिस्से में पौधे- और पशु-आधारित पदार्थों और उनके ट्रान्सएस्टरीफिकेशन प्रोडक्ट्स के आधार पर विभिन्न मिश्रण शामिल होंगे। साल 1853 में खोजा गया, ट्रांससेरिफिकेशन रिएक्शन फैट के मेल्टिंग पॉइंट को काफी हद तक कम कर देता है और उन्हें ऑक्सीडेशन के लिए और भी अधिक प्रतिरोधी (रेसिस्टेंट) बनाता है। बायोडीजल जमीन या पानी में घुलकर किसी भी जीवित प्राणी को नुकसान नहीं पहुंचाता है, और यह आमतौर पर कार्बन फुटप्रिंट को कम करता है जो कि ग्लोबल वार्मिंग का कारण है।

प्रदूषित हवा और ग्लोबल वार्मिंग दोनों ही ऐसी चीजें है जो स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ी हुई हैं और इस समय की गंभीर चुनौतियों में से एक हैं, जो फॉसिल फ्यूल के इस्तेमाल से पैदा होती हैं। पेट्रोलियम और पेट्रोलियम वाले प्रोडक्ट्स के जलने से निकलने वाली गैस को कम से कम करने की कोशिश में, वैज्ञानिक अलग-अलग एनर्जी सोर्स की तलाश कर रहे हैं, और उन्हें बायोफ्यूल सबसे सही दिखाई दे रहा है। बायोडीजल इस वजह से भी दिन--दिन मशहूर होता जा रहा है क्योंकि इसे मकई और गन्ना, यानी नवीकरणीय स्रोतों (रिन्यूएबल सोर्सिस) से बनाया जाता है। वर्ल्ड बायोडीजल डे के जश्न के रूप में, भारतीय राज्य हरियाणा में एक "सेकंड जनरेशन" इथेनॉल प्लांट की स्थापना की गई है। रूडोल्फ डीजल नामक एक जर्मन आविष्कारक को बायोफ्यूल का इस्तेमाल करने का श्रेय दिया जाता है, जिन्होंने सफलतापूर्वक साल 1893 में वेजिटेबल ऑइल द्वारा संचालित दुनिया के पहले इंजन का निर्माण किया था।

आज की तारीख में, बायोडीजल और इथेनॉल दोनों ही सबसे मशहूर बायोफ्यूल्स हैं। इथेनॉल गन्ने और मकई जैसी आम फसलों का फरमेंटशन प्रोडक्ट (किण्वन का एक उत्पाद) है। पेट्रोलियम और इथेनॉल को एक साथ मिलाने पर हमें बायोफ्यूल मिलता है। इसके परिणामस्वरूप पर्यावरण में गाड़ियों से निकलने वाली गैस में काफी हद तक कमी आती है। बायोडीजल बनाने के लिए वेजिटेबल या एनिमल ऑयल्स का इस्तेमाल किया जाता है। बायोडीजल बनाने के लिए इन्हें कैटेलिस्ट की मौजूदगी में अल्कोहल के साथ जलाया जाता है, जो कि कच्चे तेल वाले उत्पादों (क्रूड ऑइल प्रोडक्ट्स) के मुकाबले पर्यावरण के अधिक अनुकूल है।

जबकि ब्राजील 85 प्रतिशत इथेनॉल के साथ बायोफ्यूल का इस्तेमाल कर रहा है, संयुक्त राज्य सरकार ने फ्यूल के उत्पादन को मंजूरी दे दी है, जो कि 10% इथेनॉल के साथ गैसोलीन है। भारत सरकार द्वारा इसी तरह के और भी फ्यूल्स का उत्पादन करने की भी इजाज़त दी जा चुकी है। साल 2018 में भारत की राष्ट्रीय जैव ईंधन नीति को मंजूरी दे दी गई थी, जिसके मुताबिक बायोफ्यूल्स में 20 प्रतिशत इथेनॉल और 5 प्रतिशत तक बायोडीजल होगा। बायोफ्यूल का उत्पादन करने के लिए इसे उत्पाद शुल्क से छूट दी जाएगी। हालाँकि, बायोफ्यूल्स का इस्तेमाल करने से कई मुद्दे सामने रहे हैं, जैसे कि पानी की अधिक खपत और फसल के पैटर्न में संभावित बदलाव।

हालाँकि, बायोफ्यूल्स सिर्फ आंतरिक दहन (इंटरनल कंबस्शन) इंजन वाली गाड़ियों की समस्या को हल करने के लिए ही नहीं है जो पर्यावरण को प्रदूषित करती हैं। बल्कि बायोएनर्जी को ग्लोबल वार्मिंग के संभावित कार्बन-न्यूट्रल सोल्युशन के रूप में भी देखा जाता है। इसलिए, कई सारे देशों में थर्मल पावर स्टेशन बनाए जा रहे हैं जो बायोफ्यूल्स द्वारा संचालित हैं, ताकि कम प्रदूषण के साथ ज़्यादा से ज़्यादा इलेक्ट्रिकल आउटपुट मिल सके। जैसे-जैसे बिजली की मांग बढ़ती है, वैसे-वैसे बायोफ्यूल्स से बनाई गई ऊर्जा का बढ़ता हिस्सा कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन को कम करने में योगदान देता है। यह आज के समय की हकीकत है, जहां https://casino-slotv.org/, जैसी वेबसाइट्स का एक वर्ल्डवाइड नेटवर्क, नवीन ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी और क्रिप्टोकरेंसी बिजली की भारी मात्रा में खपत करते हैं।

यह बात ध्यान देने योग्य है कि बायोफ्यूल्स के इस्तेमाल के संबंध में कई वैज्ञानिक कार्बन की तटस्थता (न्यूट्रैलिटी) को कम आंकते हैं, लेकिन यही कार्बन कई देशों के आधिकारिक दस्तावेजों में मौजूद है। सबसे पहले, बायोफ्यूल्स का उत्पादन करने वाली फसल को उगाने के लिए अन्य कार्बन-न्यूट्रल पौधों के ज़रिए ज़मीन को साफ करना है। दूसरा, बायोफ्यूल्स उत्पादन प्रक्रिया के कुछ चरणों में कार्बन डाइऑक्साइड गैस निकलती है। आखिर में, कई कंपनियों ने लकड़ी का इस्तेमाल करके बायोफ्यूल बनाने का निर्णय लिया है। उदाहरण के तौर पर, UK के ड्रेक्स अपनी बिजली की खपत का आधा उत्पादन करने के लिए प्रति वर्ष 44 बिलियन पाउंड लकड़ी का इस्तेमाल करने पर विचार कर रहे हैं, एक ऐसा कदम जो इस ग्रह पर मौजूद सभी जंगलों को खतरे में डाल सकता है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal