हिंदुस्तान जिंक सीएसआर लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित

हिंदुस्तान जिंक सीएसआर लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित

वर्ल्ड सीएसआर डे एण्ड वर्ल्ड सस्टेनेबिलिटी द्वारा 7वें नेशनल सीएसआर लीडरशीप कांग्रेस में हिन्दुस्तान जिंक की हेड सीएसआर अनुपम निधि ने जीता पुरस्कार
 
HZL

हिंदुस्तान जिंक की हेड सीएसआर अनुपम निधि को उनके उत्कृष्ट नेतृत्व और हिंदुस्तान जिंक के विभिन्न प्रयासों और पहलों में प्रत्यक्ष भागीदारी के लिए सीएसआर लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार कंपनी के आस पास के समुदाय हेतु किये जा रहे कार्यो के लिये बेंगलुरू में वर्ल्ड सीएसआर डे एण्ड वर्ल्ड सस्टेनेबिलिटी द्वारा आयोजित 7वें राष्ट्रीय सीएसआर लीडरशिप कांग्रेस समारोह दिया गया। 

2021 के लिए सीएसआर लीडरशिप अवार्ड्स जूरी में डॉ अरुण अरोड़ा, पूर्व अध्यक्ष और सीईओ - द इकोनॉमिक टाइम्स, प्रोफेसर इंदिरा पारिख, अध्यक्ष - अंतदिशा, भारत के प्रतिष्ठित एचआर लीडर, डॉ सीएम द्विवेदी, ग्रुप चीफ ह्यूमन रिसोर्स अधिकारी - फजलानी ग्रुप ऑफ कंपनीज, डॉ सौगत मित्रा, चीफ पीपल ऑफिसर और ग्रुप हेड एचआर - मदर डेयरी फ्रूट एंड वेजिटेबल प्रा लिमिटेड, डॉ. आर एल भाटिया, संस्थापक - वल्र्ड सीएसआर डे और वल्र्ड सीएसआर कांग्रेस, डॉ संजय मुथल, कार्यकारी निदेशक - आईएनएसआईएसटी जैसे उल्लेखनीय व्यक्ति शामिल थे।

इस आयोजन के दौरान एक पैनल चर्चा का आयोजन किया गया था, जहां सदस्यों ने 2021 में हाल ही में सीएसआर संशोधन नियमों और नीति और स्थिरता ढांचे द्वारा सीएसआर परिदृश्य को मूर्तरूप  देने पर चर्चा की। सत्र के दौरान, इस बात पर भी प्रकाश डाला गया कि  हिंदुस्तान जिंक ने किस प्रकार महामारी से पूर्व के समय की तुलना में महामारी परिदृश्यों को पूरा करने के लिए खुद को परिवर्तित किया।

हिंदुस्तान जिंक भारत में शीर्ष सीएसआर कार्या हेतु किये गये प्रयासों में 15 कंपनियों में से है जिसके द्वारा 7 लाख से अधिक लोगों के जीवन पर सकारात्मक बदलाव आया है। खुशी और नंद घर परियोजना, शिक्षा संबल परियोजना और ऊंची उड़ान परियोजना के माध्यम से, संगठन शैक्षिक क्षेत्र में काम करता है। 

खेल के क्षेत्र में, कंपनी एक फुटबॉल अकादमी संचालित करती है और जमीनी स्तर पर फुटबॉल के क्षेत्र को बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग किया है, 18 वर्ष से कम आयु वर्ग में चैपियन हाने का गौरव प्राप्त है।

हिंदुस्तान जिंक की प्रमुख महिला सशक्तिकरण पहल, सखी, स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से 27000 से अधिक महिलाओं को आर्थिक और सामाजिक रूप से सशक्त बना रही है। अपने समावेशी कार्यक्रम के माध्यम से, प्रोजेक्ट जीवन तरंग अलग-अलग लोगों को समाज की मुख्यधारा में एकीकृत करने में सहायता कर रहा है। 

हिंदुस्तान जिंक वर्तमान में 30 हजार किसानों और पशुधन मालिकों को उनके समाधान कार्यक्रम के साथ उनकी आजीविका में सुधार हेतु योजना का संचालन कर रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में, प्राथमिक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने हेतु कंपनी मोबाइल स्वास्थ्य वैन से  आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करती है। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal