मेनारिया ब्राह्मण के शौर्य और पराक्रम की निशानी है मेनार की बारूद की होली


मेनारिया ब्राह्मण के शौर्य और पराक्रम की निशानी है मेनार की बारूद की होली

होली के दुसरे दिन जमरा बीज के मौके पर पारंपरिक वेशभूषा में आधी रात को गाँव के चौपाल पर इकठा होकर जमकर बारूद की होली खेलते है
 
menar holi
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर। यूं तो आपने रंगों के त्यौहार होली को अलग अलग अंदाज़ और परम्पराओ से मनाते हुए देखा होगा लेकिन आज हम आपको उस एतिहासिक होली के बारे में बताएँगे जो पूरी दुनिया में अनूठी है। 

यह होली मेनारिया ब्राह्मण के शौर्य और पराक्रम की निशानी है। उदयपुर से करीब पचास किलोमीटर दूर स्थित मेनार गाँव में होली के दुसरे दिन अनूठे अंदाज़ में इस रंगों के त्यौहार को मनाया जाता है। 

menar holi

पिछले चार सौ सालों से चली आ रही परंपरा के अनुसार आज भी इस गाँव में होली बारूद से खेली जाती हे। गाँव के लोग होली के दुसरे दिन जमरा बीज के मौके पर पारंपरिक वेशभूषा में आधी रात को गाँव के चौपाल पर इकठा होकर जमकर बारूद की होली खेलते है। परम्परागत रूप से इस बारूद की होली को अगर देखे तो लगता है की होली की जगह दिवाली मनाई जा रही है। 

इस दिन सभी ग्रामीण न सिर्फ आतिशबाज़ी करते है बल्कि बन्दूको से हवाई फायर कर इस दिन को एतिहासिक बनाते है। एक एक कर सैंकडो बंदुकों से हवाई फायर किये जाते हैं आज इन धमाकों के बीच ग्रामीण नाचते गाते और खुशियॉं मनाते नजर आते है।

menar gunpowder holi

इस होली की खास बात यह हैं कि इस जश्न में शामिल होने के लिये देश के विभिन्न प्रांतों से ही नहीं बल्कि विश्व के किसी भी इलाके में मेनार गॉंव के निवासी मौजुद हो इस दिन वे गॉंव में जरूर आते है।

बारूद की इस होली को देखने के लिये सैंकडो लोग जमा होते हें तो गॉंव के हर व्यक्ति आज के दिन के लिये विशेष तेयारी करता है। एक समय तो ऐसा भी आता हैं कि ग्रामीणों के दो गुट आमने सामने खडे होकर हवाई फायर करते हुए जश्न मनाते नजर आते है। 

gunpowder holi

ग्रामीणों का मानना हे की मुग़ल काल में  महाराणा प्रताप के पिता उदयसिंह के समय मेनारिया ब्रह्माण ने मेवाड़ राज्य पर हो रहे आक्रमणकारियों का कुशल रणनीति के साथ युद्ध कर मेवाड़ राज्य की रक्षा की थी और इसी दिन की याद में इस त्यौहार को इस अलग अंदाज़ में मनाते हुए सभी ग्रामवासी पूरी रात बन्दूको से फायर और आग उगलती आतिशबाजी कर जश्न मनाते है। 

इसके साथ ही होली के दिन खेले जाने वाला पारंपरिक गेर नृत्य भी ग्रामीण खेलते हे और उसमे भी अलग ही अंदाज़ से तलवारों से इस नृत्य को किया जाता हे। इस अनोखी होली का गवाह बनने के लिए ग्रामीणों के अलावा आस पास के गाँव के लोग और दूर दराज़ से दर्शक भी वहा पूरी रात मजा लेते हे। बंदुकों के धमाकों के साथ साथ तोप भी छोडी जाती हैं तो लाखों रूपये के पटाखे भी जलाये जाते है।
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal