गीतांजली इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्निकल स्टडीज में सेमिनार

गीतांजली इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्निकल स्टडीज में सेमिनार

बदलती परिस्थितियों में स्टार्टअप आज के समय की मांग-नारायण लाल गुर्जर

 
GITS

ग्रेजुएट एवं इन्जिनियरिग की पढाई पूरी करने के बाद नौकरी की चाह रखने वाले विद्यार्थियों को आज की बदलती परिस्थितियों में काफी मशक्कत करनी पढती हैं ऐसे में वर्तमान विद्यार्थियों को अपने स्वयं के रोजगार के पथ पर अग्रसर होना पडेगा, जिसे सरल भाषा में स्टार्टअप कहा जाता हैं। 

यह उद्बोधन गीतांजली इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्निकल स्टडीज डबोक उदयपुर में इलेक्ट्रिकल इन्जिनियरिंग एवं इन्स्टिट्यूशन इनोवेशन काउन्सिल सेल के तत्वाधान में एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार के दौरान जापान स्थित ई.एफ. पॉलिमर के फाउण्डर एवं सी.ई.ओं. श्री नारायण लाल गुर्जर ने कही। उन्होनें देश में स्टार्टअप प्रारम्भ करते समय आने वाली अवसर एवं चुनौतियों पर प्रकाश डाला। 

निदेशक आई.क्यू.ए.सी. डॉ. सुधाकर जिंदल ने बताया कि स्टार्टअप नये प्रयासों एवं नये विचारों सहित नये कौशल को एक मंच प्रदान करता हैं। यह छोटे एवं नये उद्यमियों की स्थिति में सुधार के साथ-साथ दूसरों के लिए रोजगार सृजन करने में मदद करता हैं। आज के विद्यार्थियो को स्टार्टअप के प्रति जागरूक करने के लिए इस सेमिनार का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम के संयोजक एवं विभागाध्यक्ष प्रो. प्रकाश सुन्दरम के अनुसार इस अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार में विभिन्न महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों के फेकल्टी मेम्बर्स एवं विद्यार्थियों सहित 125 से अधिक लोगों ने पंजीकरण करा कर इस कार्यक्रम का लाभ उठाया। धन्यवाद ज्ञापन डॉ. दीपक पालीवाल एवं कार्यक्रम का संचालन डॉ. श्रीपति व्यास एवं असिस्टेंट प्रोफेसर श्रुति भादविया द्वारा किया गया। 

इस अवसर पर वित्त नियंत्रक बी.एल. जांगिड़ ने कहा कि अपने आईडिया को उत्पाद में परिवर्तन करने वाले युवाओं की कमी नहीं हैं लेकिन उन्हें असफल होने का डर एवं वित्तिय असमर्थता स्टार्टअप की राह में सबसे बडा रोड़ा है जिसे दूर करना होगा।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal