गिट्स में विद्यार्थियों में रोजगार क्षमता बढाने हेतु उद्योग शिक्षा सलाहकार बोर्ड की मीटिंग का सफलतापूर्वक आयोजन

गिट्स में विद्यार्थियों में रोजगार क्षमता बढाने हेतु उद्योग शिक्षा सलाहकार बोर्ड की मीटिंग का सफलतापूर्वक आयोजन

संस्थान के निदेशक डॉ. विकास मिश्र ने सदन में सभी सम्मानित वक्ताओं का स्वागत करते हुए कहा कि सरकारी और प्राइवेट सेक्टर कम्पनीज मे सोफ्ट स्किल्स के साथ साथ हार्ड स्किल्स समान रूप से महत्वपूर्ण है।
 
gits

गीतांजली इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्निकल स्टडीज, डबोक, उदयपुर में विद्यार्थियों में रोजगार क्षमता बढाने हेतु शिक्षाविदों एवं कॉर्पोरेट जगत के विभिन्न पदों पर आसीन बोर्ड मेम्बर्स ने भाग लेते हुए अपने विचारो को सांझा किया। संस्थान के निदेशक डॉ. विकास मिश्र ने सदन में सभी सम्मानित वक्ताओं का स्वागत करते हुए कहा कि सरकारी और प्राइवेट सेक्टर कम्पनीज मे सोफ्ट स्किल्स के साथ साथ हार्ड स्किल्स समान रूप से महत्वपूर्ण है। 

निदेशक, आईक्यूएसी, गिट्स डॉ. सुधाकर जिंदल ने निरंतर विकास  के द्वारा छात्रों को हर दृष्टिकोण से 360 डिग्री पूर्ण इंजीनियर्स में बदलने पर जोर दिया। निदेशक एम. बी. ए. गिट्स डॉ. पी.के. जैन ने शिक्षण कौशल विकास के बारे में बताया। इसके बाद आमंत्रित सभी अतिथिगणों ने बारी बारी से अपने सुझाव प्रस्तुत किये। 

डेलॉयेट के वरिष्ठ अधिकारी सुधीर अग्रवाल ने कहा कि शिक्षा प्रणाली में उद्योग जगत से जुड़े विशेषज्ञ निश्चित रूप से शैक्षिक पारिस्थतिकी तंत्र को बदलने में मदद करेंगे। संगम यूनिवर्सिटी भीलवाड़ा के कुलपति प्रो. करुणेश सक्सेना ने अपने अनुभव सांझा किए और विद्यार्थियों को स्वयं प्रेरित करने को कहा। 

उन्होंने श्रोताओं से कुछ विचारोत्तेजक प्रश्न किए। उन्होंने पूछा कि छात्र अपनी रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए परिवर्तन प्रक्रिया से गुजरने के लिए कितने तैयार हैं? सह संस्थापक एण्ड वी.पी. एड्युस ललीत गुप्ता ने वास्तविक शिक्षा और शिक्षण के बारे में जानकारी दी। सी.टी.ए.इ. उदयपुर, हेड इलेक्ट्रोनिक्स एंड कम्यूनिकेषन इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. सुनील जोशी ने आंतरिक मूल्यांकन प्रणाली और समस्या समाधान तकनीक पर ध्यान देने के बारे में बताया। 

ग्लोबल नेटवर्क के संस्थापक एवं सी. इ. ओ. डॉ. जगत शाह ने विद्यार्थियों को सकारात्मक दृष्टिकोण के लिए प्रेरित किया और इसके साथ ही बताया कि आत्मविश्वास के साथ समस्याओ कोे कैसे सुलझाया जाए। उन्होंने सलाहकार पैनल बनाने की सलाह दी, जिससे छात्रों को समय समय पर उचित सलह दी जाए। सी. इ. ओ. स्किल काउंसिल फॉर माइनिंग सेक्टर, संजय शर्मा ने उद्योग के बारे में अपने अनुभव सांझा किए। 

निदेशक, गीतांजली ग्रुप सुश्री कनिका अग्रवाल ने सभी अतिथियों का अभिवादन किया और विद्यार्थियों के कौशल विकास में इंटर्नशिप के महत्व पर जोर दिया, जो उनकी रोजगार योग्यता के लिए आवश्यक है।    

संस्थान के ट्रेनिंग एण्ड प्लेसमेण्ट हैड अरविन्द सिंह पेमावत ने मॉडरेटर की भूमिका में पूरी बैठक का संचालन किया। उन्होंने प्रोफेशनल ग्रेजुएट कोर्स तथा अध्यापन शिक्षण की जानकारी सांझा की तथा उपस्थित सभी अतिथियों तथा सभी विभागो के प्रमुख  को विशेष धन्यवाद दिया। संचालन डॉ. दीपिका साहू ने किया। प्रबंध अध्ययन विभाग के सहायक प्रो. आशीष अवस्थी द्वारा बैठक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया। वित्त नियंत्रक बी.एल. जांगिड़ ने विद्यार्थियों के स्वर्णिम भविष्य की कामना करते हुए तथा उपस्थित सभी अतिथियों तथा सभी विभागो के प्रमुख को विशेष धन्यवाद दिया।
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal