गिट्स के छात्रों ने भारत के स्मार्ट सिटीज को ध्यान मे रखते हुए बनाया सेल्फ-पावर्ड इन्टेलिजन्ट डस्टबिन

गिट्स के छात्रों ने भारत के स्मार्ट सिटीज को ध्यान मे रखते हुए बनाया सेल्फ-पावर्ड इन्टेलिजन्ट डस्टबिन

र्ट सिटी मे स्मार्ट सिस्टम की मांग को देखते हुए इस सिस्टम को इंटरनेट ऑफ थिंग्स एवं आर्टिफिशियल इंटेलीजेंसी तकनीक पर आधारित बनाया गया हैं।
 
गिट्स के छात्रों ने भारत के स्मार्ट सिटीज को ध्यान मे रखते हुए बनाया सेल्फ-पावर्ड इन्टेलिजन्ट डस्टबिन
यह एक औटोमेटेड बिन है जो की अपने आप खुलने व बंद होने की क्षमता रखता है, साथ ही यह फुल हो जाने पर अलर्ट मैसेज भी कंट्रोल रूम को भेजता है इसके अलावा यह सिस्टम मोबाईल चार्जिंग, पी सी ओ कॉलिंग जैसी स्मार्ट सुविधाओ से लैस है। 

गीतांजलि टेक्निकल स्टडीस डबोक, उदयपुर के कंप्युटर इंजीनियरिंग विभाग के  छात्रों ने भारत के स्मार्ट सिटीज को ध्यान मे रखते हुए सेल्फ-पावर्ड इन्टेलिजन्ट डस्टबिन बनाया हैं। जो कि सोलर पावर से संचालित होता है। 

संस्थान के निदेशक डॉ. विकास मिश्र ने बताया कि बढ़ते हुए स्मार्ट सिटी मे स्मार्ट सिस्टम की मांग को देखते हुए इस सिस्टम को इंटरनेट ऑफ थिंग्स एवं आर्टिफिशियल इंटेलीजेंसी तकनीक पर आधारित बनाया गया हैं। यह एक औटोमेटेड बिन है जो की अपने आप खुलने व बंद होने की क्षमता रखता है, साथ ही यह फुल हो जाने पर अलर्ट मैसेज भी कंट्रोल रूम को भेजता है इसके अलावा यह सिस्टम मोबाईल चार्जिंग, पी सी ओ कॉलिंग जैसी स्मार्ट सुविधाओ से लैस है। 

इसकी खास बात यह है कि यह स्मार्ट सिस्टम पूर्णतया गीट्स के रिसर्च लैब मे असिस्टन्ट प्रोफेसर लतीफ़ खान के निर्देशन मे छात्र सौरभ श्रीवास्तव, मिलिन्द डी जैन, हर्षिता जैन, विशाल जैन, कृतिक जरोली, गौतम आनंद के द्वारा इसको डिजाइन एवं विकसित किया गया है एवं इस सिस्टम का पेटेंट भी फाइल हो चुका हैं। 

प्रोफेसर लतीफ खान ने बताया कि यह सिस्टम कई टेक्निकल कॉमपिटिशन जैसे इंडियन इनोवैशन चैलेंज (माय गवर्नमेंट) मे क्वार्टर फाइनल मे ब्रोन्ज़ मेडल प्राप्त कर चुका है। पूर्व मे यह सिस्टम जेकेएलयू, जयपुर के बिलडेथॉन हेकेथॉन (राष्ट्रीय स्तर) मे प्रथम स्थान प्राप्त कर चुका है, जीआरआईटी, हैदराबाद की चेलेंज एसीआई (राष्ट्रीय स्तर) मे आँठवा स्थान प्राप्त कर चूका है। खाड़ी देश बहरीन मे स्मार्ट सिटी पर होने वाली अंतर्राष्ट्रीय कान्फ्रेन्स मे इस प्रोजेक्ट से जुड़े छात्रों ने शोध पत्र भी प्रकाशित किया है। यह सिस्टम जिला उद्योग ग्रामिड हाट मे प्रदर्शन का भी अवसर प्राप्त कर चुका है। 

संस्थान के फाइनैन्स कन्ट्रोलर बी एल जाँगिड़ ने बताया कि यह सिस्टम आईआईएम उदयपुर मे भी इन्टेलिजन्ट वैस्ट मैनिज्मन्ट वेन्चर के नाम से भी सिलेक्ट हो चुका है इस स्मार्ट सिस्टम से प्रभावित होकर आईआईएम ने इससे जुड़े छात्रों को 26 दिन की ट्रैनिंग प्रदान करी। भविष्य मे गिट्स स्मार्ट सिस्टम से जुड़े प्रोजेक्ट को तैयार करने के लिए कंपनी रजिस्टर करने का विचार कर रहा है। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal