उदयपुर में प्रतिदिन 15 से 20 टन अनार की बिक्री हो रही है

उदयपुर में प्रतिदिन 15 से 20 टन अनार की बिक्री हो रही है

राजस्थान के रेगिस्तान क्षेत्रों में हो रही अनार की खूब पैदावार 

 
Pomegranate farming in Rajasthan desert areas

उदयपुर, 12 जनवरी। दूर तलक फैले अनार के बाग के बीच अनार तोड़ती महिलाओं की तस्वीर कोई जम्मू कश्मीर या हिमाचल प्रदेश के फॉर्म हाउसों की नही बल्कि राजस्थान और गुजरात के रेगिस्तानी क्षेत्रों की है। राजस्थान के रेगिस्तान में खेती करना अपने आप में मुश्किल काम है। पानी की कमी, मौसम की अनिश्चितता जैसी मुश्किलों से जूझते हुए रेगिस्तान में अनार की खेती से किसान मालामाल हो गए है। जहां वर्षों पूर्व पानी के लिए ग्रामीणों को मशक्कत करनी पड़ती थी, आज अनार जैसे फलों की खेती होने लगी है ।

इन दिनों बाज़ार में जगह-जगह अनार की बिक्री हो रही है। बड़ी मात्रा में अनार आने से ये 40 से लेकर 100 रुपए तक बिक रहे हैं। इन दिनों उदयपुर में प्रतिदिन 15 से 20 टन अनार की बिक्री हो रही है। फल विक्रेता ने कहा कि दस साल पहले उदयपुर में नासिक और शोलापुर आदि क्षेत्रों से ही अनार आते थे। कच्छ, भूज से लेकर बाड़मेर, जैसलमेर आदि क्षेत्रों में पानी पहुंचने के बाद वहां भी अनार की खेती होने लगी। ऐसे में गत 10 साल से इस क्षेत्र से भी अनार की आवक होने लगी है। गत कुछ वर्षों से इन क्षेत्रों के अनार एक्सपोर्ट भी होने लगे हैं। 

30 रुपए से 120 रुपए किलो तक बिक रहे है अनार 

अनार तीन-चार कैटेेगरी में आता है। ए कैटेगरी के अनार की होलसेल रेट 70 से 80 रुपए किलो चल रही है। वहीं बी, सी और डी कैटेगरी के अनार की होलसेल रेट 20 रुपए से 50 रुपए तक है। बाज़ार में अनार 30 रुपए से 120 रुपए किलो तक बिक रहा है। इन दिनों बाजार में बड़ी मात्रा में अनार की बिक्री हो रही है। अच्छी आवक होने के चलते प्रमुख मार्गों, चौराहों आदि पर ठेलों में भी अनार बेचे जा रहे हैं।

अनार के सेवन के फायदे

  • कोशिकाओं को करता है मजबूत- अनार में शक्तिशाली एंटी ऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। अनार के जूस में अन्य फल के जूस से ज्यादा एंटी ऑक्सीडेंट होता है। इसके सेवन से कोशिकाओं को नुकसान से बचाया जा सकता है और सूजन को कम किया जा सकता है।
  • कैंसर से बचाव- अनार का जूस कैंसर पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है। प्रोस्टेट कैंसर सेल्स को रोकने के लिए अनार के जूस का सेवन करना चाहिए। ये कैंसर के जोखिम को भी कम कर सकता 
  • अल्जाइमर से बचाव- अनार के दाने अल्जाइमर रोग को बढ़ने से रोकते हैं और व्यक्ति की याददाश्त को बनाए रखने में सहायक होते हैं।
     
  • पाचन: अनार का जूस आंतों की सूजन को कम करके पाचन में सुधार कर सकता है। हालांकि दस्त रोगियों को अनार का जूस का सेवन न करने की सलाह दी जाती है।
     
  • गठिया: अनार का जूस जोड़ों के दर्द, अन्य प्रकार की गठिया के दर्द व सूजन में फायदेमंद होता है

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal