महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

उदयपुर, 17 अप्रेल 2019, बजे कुण्डलपुर में बधाई की नगरी में वीर जन्म महावीर जी...., पावापुरी में ढोल बाजे...., एक बार आओ जी महावीर म्हारे आंगणे, जुक-जुक मनवार पधारों म्हारे... महावीर स्वामी के गीतों के बीच केस

 

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

उदयपुर, 17 अप्रेल 2019, बजे कुण्डलपुर में बधाई की नगरी में वीर जन्म महावीर जी…., पावापुरी में ढोल बाजे…., एक बार आओ जी महावीर म्हारे आंगणे, जुक-जुक मनवार पधारों म्हारे… महावीर स्वामी के गीतों के बीच केसरिया परिधान में लिपटी महिलाएं अलग-अलग रूप धारण किए हुए कतारबद्ध रूप से 2618 महिलाएं शोभायात्रा की शोभा बढा रही थी। युवाओं की वाहन रैली ने ‘‘नेशन फस्ट’’ का संदेश देते हुए कतारबद्ध रूप से चलकर मिसाल पेश की। वहीं शोभायात्रा में चल रही झांकियां भी अलग-अलग संदेश दे रही थी।

महावीर जैन परिषद के तत्वावधान में प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी श्रमण भगवान महावीर स्वामी के 2618वें जन्मकल्याणक महोत्सव पर नगर में बुधवार को भव्य शोभायात्रा निकाली गई। परिषद के संयोजक राजकुमार फत्तावत ने बताया कि नगर निगम प्रांगण से प्रातः 8.30 बजे रवाना हुई जो शोभायात्रा में जहां एस्कोर्ट करते हुए जीप चल रही थी वही सबसे पीछे डीजे पर समाजजन जैन गीतों पर मदमस्त होकर झूम रहे थे। शोभायात्रा में गजराज, सात घुडसवार जैन पताका लिए, जीप में जैन प्रतिक चिन्ह, युवक -युवतियों की वाहन रैली, विभिन्न स्कूलों के बच्चे, 26 झांकियां, सप्तकिरण रथ एवं पावापुरी रथ, विभिन्न पुरूष संगठन सहित 2618 महिलाएं और पुरूष कतारबद्ध रूप से शोभायात्रा में चल रहे थे।

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

शोभायात्रा में पांचों बैण्ड जैन समाज के होकर स्वरलहरिया बिखेर रहे थे। कोषाध्यक्ष कुलदीप नाहर ने बताया कि शोभायात्रा नगर निगम प्रांगण से प्रारम्भ होकर सूरजपोल, बापूबाजार, देहलीगेट, भोपालवाडी, बडा बाजार, सर्राफा बाजार, घण्टाघर, मोती चौह्टा, हाथीपोल, अश्विनी बाजार होते हुए पुनः टाउन हॉल पर सम्पन्न हुई। शोभायात्रा के पश्चात सभी को प्रभावना वितरित की एवं ठण्डाई पिलाई गई।

ऐतिहासिक शोभायात्रा का पूरे मार्ग में ऐतिहासिक स्वागत हुआ। विभिन्न व्यापारिक, धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों ने अनोखे तरिके से शोभायात्रा का स्वागत किया। पूरे मार्ग में स्वागत द्वार लगाए गए और खाद्य वस्तुओं एवं शीतल पेय की व्यवस्थाएं की गई। वही नगर निगम ने शोभायात्रा के दौरान साफ सफाई के चाक चौबन्द प्रबन्ध किए। वही पुलिस प्रशासन का भी पूर्ण सहयोग रहा।

ध्वजारोहण से हुआ आगाज

जन्म कल्याणक महोत्सव का आगाज जैन जन गन मन की स्वरलहरियों के बीच तपोनिधि जीवनसिंह लीला देवी मेहता, नारायण सेवा संस्थान के संस्थापक कैलाश मानव, परिषद संयोजक राजकुमार फत्तावत, कोषाध्यक्ष कुलदीप नाहर, सह संयोजक यशवतं आंचलिया, महापौर चन्द्र सिंह कोठारी, गणेशलाल मेहता, विनोद भोजावत, शांतिलाल नागदा, देवेन्द्र छाप्या, नरेन्द्र सिंघवी एवं दिगम्बर समाज के अध्यक्ष शांतिलाल वेलावत ने ध्वजारोहण किया। इस दौरान जीवनसिंह मेहता एवं कैलाश मानव का पगडी, उपरणा एवं प्रतिक चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस रस्म के साथ ही भव्य शोभायात्रा रवाना हुई।

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास  

महिलाओं ने बिखेरी केसरिया छटा

श्रमण भगवान महावीर स्वामी के 2618वें जन्मकल्याण महोत्सव पर समाज की महिलाओं ने शोभायात्रा में केसरिया छटा बिखेर कर सभी का मन मोह लिया। जैन समाज के विभिन्न महिलाओं द्वारा केसरिया परिधान के साथ हाथों में पचरंगी चुडे, सिर पर वेणीया, जैन उपरणे, क्षत्राणी वेशभूषा में सिर पर सांफा धारण किए हुए राजस्थानी वेशभूषा, सिर पर केसरिया टीका लगाए हाथों में पंखे लिए हुए दो-दो की कतार में चल रही थी। बीच में आयड भक्ति मण्डल की बहिनों द्वारा केसरिया परिधान व साफे में बैण्ड की स्वरलहरिया बिखेर रहा था। महिला भगवान के भजन, गीत पर मदमस्त होकर जुम रही थी। वही बीच-बीच में महावीर के जयकारों से वातावरण को गुंजायामान कर रही थी। करीब दस मीटर लम्बे जैन पचरंगी ध्वजा को सिर पर लिए चल रही थी।

युवाओं ने दिया देश प्रथम का संदेश

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

भव्य शोभायात्रा में दुपहिया वाहनों पर युवक-युवतियों ने सबसे पहले भारत देश की थीम पर वाहन रैली निकाली इस वाहन रैली में 1100 से अधिक युवक-युवतियां दुपहिया वाहनों पर दो-दो की कतारों में सुव्यवस्थित तरीके से चल रही थी। इनका मानना है कि सबसे पहले भारत देश हमारा उसके उपरोन्त जीवन सारा। मिलेट्री टोपी पहने नेशन फर्स्ट का मिलेट्री कलर का उपरणा गले में डाल रखा था। वाहनों पर पचरंगी ध्वजा लगा रखी थी और वंदे वीरम, जय महावीरम, भारत माता की जय से शोभायात्रा के मार्ग को गूंजायमान करते हुए चल रहे थे।

जैन बैण्डों ने बिखेरी स्वरलहरियां

इस शोभायात्रा की मुख्य बात यह रही कि पुरी शोभायात्रा में पुरूष व महिला मण्डलों के जैन बैण्ड ही स्वरलहरिया बिखरे रहे थे। एक भी बाजार का बैण्ड इस शोभायात्रा में नहीं रखा गया। सबसे आगे जैन नितिन युवक मण्डल का बैण्ड, दिगम्बर जैन उच्च माध्यमिक विद्यालय का बैण्ड, आदिनाथ महिला ग्रुप बैण्ड, भक्ति महिला संघ बैण्ड, बीसा नरसिंहपुरा समाज बैण्ड शुरू से अंत तक शोभायात्रा में स्वरलहरियां बिखेर रहे थे।

बच्चों ने दिखाया सैना का जज्बा

शोभायात्रा में दो खुली जीप में 16 से अधिक बच्चे मिलेट्री वेशभूषा में हाथों में आधुनिक गन का प्रतिक लिए हुए चौकसी करते हुए नजर आ रहे थे कि सीमा पर किस तरह हमारे जवान चौकस एवं मुस्तेद रहते है यह संदेश दे रहे थे। शोभायात्रा में दो-दो की क

तार में स्केटिंग करते हुए आकर्षक का केन्द्र रहे। पुरे रास्ते 8 से 14 वर्ष के इन बच्चों ने पुरे स्केटिंग करते हुए लोगों का मन मोह लिया।

झांकियों ने दिया जैन समाज का संदेश

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

इस भव्य शोभायात्रा में सुसज्जित 26 झांकिया जैन समाज के विभिन्न तीर्थंकरों, सप्त किरण रथ, पावापुरी रथ, जैन समाज के अहिंसा परमोधर्म, पर्यावरण, स्वच्छ भारत अभियान, भगवान महावीर के 5 महाव्रत, कन्या भ्रूण हत्या, जल संरक्षण, सेवा एवं परोपकार, नशामुक्ती, शाकाहार, सामाजिक कुरीतियों की रोकथाम, बेटी बचाओं बेटी पढाओं अभियान की थीम पर सुव्यवस्थित तरिके से चल रही थी। जो मार्ग में दोनों ओर खडे आमजन एवं समाजजनों को लुभा रही थी।

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

डीजे पर झूमे युवा

महावीर के जन्म पर केसरिया छठा में निकली 2618 महिलाएं, रचा इतिहास

पुरूषों के बीच में जैन गीतों पर बज रहे डीजे पर युवक-युवति एवं उम्र दराज लोग भी मदमस्त होकर झूमते हुए चल रहे थे। साथ ही बहिने भी पीछे नहीं रही, कुछ महिलाएं तो सामुहिक रूप से भगवान के गीत गाते हुए पुरे रास्ते में झूमते हुए चल रही थी। नन्हे मुन्ने बच्चे सफेद परिधान में आकर्षण का केन्द्र बने हुए थे।

शोभायात्रा का इन्होंने किया सफल संचालन

शोभायात्रा का सफल संचालन नीली जिंस, पीला टीशर्ट एवं सफेद टोपी पहने जैन जागृति सेन्टर के अध्यक्ष सुधीर चित्तौडा एवं महामंत्री हेमेन्द्र के नैतृत्व में पूर्व अध्यक्ष महेन्द्र तलेसरा, धर्मेश नवलखा, दीपक सिंघवी, चन्द्रप्रकाश चोरडिया, लक्ष्मण शाह, रवि माण्डावत, अरूण मेहता, मनीष गलुण्डिया, प्रवीण नवलखा, बसन्तीलाल कोठीफोडा, नीलेश भण्डारी, नरेश पामेचा, संजय भण्डारी, चन्द्र शेखर चित्तोडा, नितिन लोढा, नरेश गदिया, सुरेश नाहर, भूपेन्द्र गजावत, कमल पोरखना, राकेश छाजेड, सुनील मारू, संजय खाब्या, पवन कोठारी, नरेश मादरेचा, ललित पोरवाल, रैनप्रकाश जैन सहित 150 से अधिक कार्यकर्ता सफल संचालन कर रहे थे। वही महिला संगठनों को परिषद की महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष विजयलक्ष्मी गलुण्डिया, मंजू फत्तावत, सोनल सिंघवी, कल्पना बोहरा, अंशु पोखरना, ऋतु मारू, उर्मिला नागोरी, मीना चोरडिया, मुक्ता चित्तौडा, भावना शाह, ममता जैन, इन्दिरा मेहता सहित 35 कार्यकर्ताओं द्वारा सफल संचालन कर रही थी।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal