ग्रीन पीपल सोसायटी का दूसरा स्थापना दिवस समारोह

ग्रीन पीपल सोसायटी का दूसरा स्थापना दिवस समारोह

उल्लेखनीय कार्यों के लिए किया सम्मान

 
green people society

‘सिंगल यूज प्लास्टिक गीव अप केंपेन’ हुआ शुरू

उदयपुर 18 फरवरी 2022 । महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. एनएस राठौड़ ने कहा है कि प्लास्टिक के दुष्प्रभावों से आज पूरा विश्व चिंतित है, केन्द्र और राज्य सरकारों ने कुछ सख्त कदम उठाएं है तथापि इस दिशा में हर व्यक्ति को आगे आने की जरूरत है तभी हम हमारी प्रकृति और इसमें रहने वाले प्राणियों को इसके दुष्प्रभावों से बचा पाएंगें ।

प्रो. राठौड़ शुक्रवार को ओटीएस सभागार में दक्षिण राजस्थान में पर्यावरण व परिंदों के संरक्षण के लिए कार्यरत ग्रीन पीपल सोसायटी के दूसरे स्थापना दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि प्लास्टिक के दुष्प्रभाव से हमारा देश भी अछूता नहीं है, एक बड़ा तबका प्रतिदिन इसका प्रयोग करता है, ऐसे में यदि 100 करोड़ लोग भी एक दिन प्लास्टिक का प्रयोग न करने की ठान ले तो बड़ी उपलब्धि होगी। उन्होंने कहा कि इस विषय में जनजागरूकता के लिए विद्यार्थी महत्त्वपूर्ण कड़ी है व शिक्षक यदि इस मुहिम को थाम लें तो पर्यावरण संरक्षण का बड़ा काम सफल हो सकेगा।

समारोह में बतौर विशिष्ट अतिथि अपने संबोधन में मुख्य वन संरक्षक आर.के.सिंह ने कहा कि यदि हमें पर्यावरण को बचाना है तो प्लास्टिक का प्रयोग बंद करना होगा। इस विषय में बच्चों के माध्यम से जन जागरूकता फैलाई जा सकती है। ग्रीन पीपल सोसायटी ने इस संबंध में शुरू किया अभियान सराहनीय है।
 

इस मौके पर मुख्य वन संरक्षक आर.के.खैरवा और आर.के.जैन ने ग्रीन पीपल सोसायटी द्वारा पर्यावरण संरक्षण दिशा में किए जा रहे प्रयासों की सराहना की और भविष्य में उनके हर आयोजन में विभाग द्वारा सहयोग को आश्वस्त किया।

आरंभ में ग्रीन पीपल सोसायटी के अध्यक्ष रिटायर्ड सीसीएफ राहुल भटनागर ने अतिथियों का स्वागत कर सोसायटी गठन के उद्देश्य को प्रस्तुत किया वहीं सोसायटी उपाध्यक्ष डॉ. शरद श्रीवास्तव ने सोसायटी द्वारा गत वर्षों में किए गए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी।  

कार्यक्रम का संचालन कुलदीप सिंह ने किया जबकि आभार प्रदर्शन की रस्म सोसायटी सदस्य व रिटायर्ड आरएएस मोहम्मद यासीन पठान ने अदा की।

‘सिंगल यूज प्लास्टिक गीव अप केंपेन’ हुआ शुरू

समारोह दौरान सोसायटी की तरफ से प्रकृति को बचाने के लिए प्लास्टिक के प्रयोग को हतोत्साहित करने के लिए ‘सिंगल यूज़ प्लास्टिक गीव अप केंपेन’ का औपचारिक शुभारंभ किया गया। इस दौरान अंकित पब्लिक स्कूल की भारती शर्मा और प्रिया राठी ने प्लास्टिक के दुष्प्रभाव और इससे बचने के लिए कंपोसिटेबल बैग्स के उपयोग पर तथा डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के संभागीय अधिकारी अरूण सोनी ने केंपेन के तहत वर्ष भर आयोजित  की जाने वाली गतिविधियों और इसके मूल्यांकन, विद्यालय व महाविद्यालयों को जीरो प्लास्टिक जोन बनाने की प्रक्रिया के बारे में पावर प्वाईंट प्रजेंटेशन के माध्यम से जानकारी प्रदान की। इस मौके पर समस्त संभागियों को कंपोसिटेबल बैग्स के पैकेट भेंट किए गए।

उल्लेखनीय कार्यों के लिए किया सम्मान  

कार्यक्रम दौरान सोसायटी द्वारा विभिन्न आठ श्रेणियों में उल्लेखनीय कार्य करने वाले व्यक्तियों और संस्थाओं को सम्मानित किया गया। इसमें पर्यावरण व वन्यजीव संरक्षण के विविध क्षेत्रों में उल्लेखनीय कार्य के लिए धर्मेंद्र पानिगर, पुष्पा खमेसरा, भैरूलाल पुरोहित, दर्शन कुमार मेनारिया, महाराणा मेवाड़ विद्या मंदिर, दीपश्री आमेटा, राजू सोनी और भेरव दत्त राव का सम्मान किया गया। इसी प्रकार उल्लेखनीय कार्य के लिए सुखाडि़या विश्वविद्यालय की भूगोल विभागाध्यक्ष प्रो. सीमा जालानी, जनसंपर्क उपनिदेशक डॉ. कमलेश शर्मा, विद्याभवन की डॉ. अनिता जैन, पक्षी विशेषज्ञ विनय दवे, यशवंत और विनोद को स्मृति चिह्न व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।

ये रहे मौजूद

कार्यक्रम में रिटायर्ड आईएफएस प्रतापसिंह चुण्डावत, वीएस राणा, सोहेल मजबूर, प्रो. इंद्रजीत सिंह माथुर, ललित जोशी, उप वन संरक्षक अजीत उंचोई, मुकेश सैनी, इकबाल सिंह, डी.के.तिवारी, अशोक माथुर, जिला शिक्षा अधिकारी मुकेश पालीवाल, प्राचार्य डी.के.गुप्ता, वाइल्ड लाईफ फोटोग्राफर प्रदीप सुखवाल व देवेन्द्र श्रीमाली, निधि श्रीवास्तव, डॉ. सुमन भटनागर सहित बड़ी संख्या में वन विभागीय अधिकारी-कर्मचारी व पर्यावरण प्रेमी मौजूद रहे।  

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal