फतह स्कूल में 29 कम्प्यूटर के साथ स्थापित हुई वातानुकूलित सरल एज्यूकेयर कम्प्यूटर लैब


फतह स्कूल में 29 कम्प्यूटर के साथ स्थापित हुई वातानुकूलित सरल एज्यूकेयर कम्प्यूटर लैब

श्रीमती सरला सिंघवी चेरिटेबल सोसायटी एवं सरल ब्लड बैंक के संयुक्त तत्वावधान में हुआ

 
fateh school
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर। फतह स्कूल में श्रीमती सरला सिंघवी चेरिटेबल सोसायटी एवं सरल ब्लड बैंक के संयुक्त तत्वावधान में सोमवार को 29 कम्प्यूटर के साथ सरल एजुकेशन केयर कंप्यूटर लैब का शुभारंभ हुआ। इसका उद्घाटन नगर निगम के उप महापौर पारस सिंघवी, कांग्रेस के पूर्व सांसद रघुवीर मीणा, पूर्व जिला उप प्रमुख लक्ष्मीनारायण पंड्या, प्रधानाचार्य चेतन पानेरी, डीईओ मुकेश पालीवाल, सरल ब्लड बैंक अध्यक्ष गणेशलाल, संस्थापक श्याम एस सिंघवी व संयम सिंघवी ने किया। यह लैब वातानुकूलित, नेटवर्किंग तथा वाईफाई सुविधाओं के साथ है।

उपमहापौर पारस सिंघवी ने कहा कि सरल ब्लड बैंक ने लीक से हटकर आज राजकीय विद्यार्थियों को कम्प्यूटर में निपुण बनाने हेतु राजकीय विद्यालय में 29 कम्प्यूटर स्थापित कर एक पुनीत कार्य किया है। यह कार्य शहरी एवं ग्रामीण विद्यार्थियों के जीवन में बहुत बदलाव लाएगा। अतिथियों के हाथों स्कूल प्रबंधन को कंप्यूटर लैब की चाबी प्रदान करवाई।

इस अवसर पर कांग्रेस के पूर्व सांसद रघुवीर मीणा ने सभागार में लगे महापुरुषों की तस्वीरों की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह तस्वीरें महज दीवार पर टंगी नहीं बल्कि यह हमें हर पल हर समय प्रेरणा देती है। इन महापुरुषों ने उस समय मेहनत की जब साधन सुविधाएं नाम मात्र की थी और कंप्यूटर के बारे में तो सोचा ही नहीं जा सकता था। यदि भामाशाह इस तरह शिक्षा के मंदिरों में सहयोग करते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब हर विद्यार्थी स्मार्ट एजुकेशन का लाभ लेकर जिंदगी में बहुत कुछ करने में सक्षम हो सकता है। उन्होंने अपील की कि शहर में भामाशाह की कोई कमी नहीं है बस जरूरत है उन तक पहुंचने की। वह आए शिक्षा के मंदिरों में अपना अंशदान देकर अपने धन का सदुपयोग करें।

डीईओ मुकेश पालीवाल ने इस अवसर पर कहा कि शिक्षा के मंदिर में इस तरह का दान करने वाले भामाशाह बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि हम आज 21वीं सदी में है और कंप्यूटर शिक्षा आज के दौर की महती आवश्यकता है।

इस अवसर पर श्याम एस सिंघवी ने कहा कि हर व्यक्ति का यह दायित्व बनता है आपके पास जो भी है जितना भी है उसमें से कुछ अंशदान शिक्षा के मंदिर के लिए करना चाहिए। शिक्षा के मंदिर में पढ़ने वाले बच्चों को इससे अच्छी शिक्षा मिलेगी और देने वाले भामाशाह के धन का सदुपयोग भी होगा। उन्होंने रक्तदान के महत्व को विस्तार से समझाते हुए कहा कोरोना का काल के दौरान सरल ब्लड बैंक को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। बैंक में भी रक्त की उपलब्धता कम हो गई थी लेकिन उनकी टीम में ऐसे रक्तदाता भी मौजूद हैं जिन्हें मात्र एक फोन करना पड़ता है और तुरंत वह रक्तदान के लिए अपने सहयोगियों के साथ हाजिर हो जाते हैं।

स्वेच्छिक़ रक्तदान के रोल मॉडल हुए सम्मानित 

कार्यक्रम में उन्होंने अतिथियों से शहर में रक्तदान रोल मॉडल बन चुके रक्तदाता उमेश मनवानी, गजेंद्र भंडारी, रक्तदाता युवा वाहिनी संस्था एवं सत्येंद्र पाल सिंह कप्पू को माला, पगड़ी, शॉल और उपरना ओढा कर स्वागत अभिनंदन भी करवाया। उन्होंने कहा कि कोरोना काल से उबरने के बाद पुनः प्रारंभ हुआ यह सरल ब्लड बैंक उसी ऊर्जा के साथ जन सेवा में जुट गया है। उन्होंने अपील की कि कहीं भी हो कैसे भी हो बस रक्तदान होना चाहिए।

इस अवसर पर ब्लड बैंक के कर्मठ कर्मी विक्रांत सिंह का सम्मान किया गया। इसके साथ उपस्थित सभी गणमान्य सज्जनो को कोरोना से सावधानी हेतु सेनीटाईज़र को बोटल व हायजेनिक 3-3 मास्क के किट वितरित किए गए एवं आगामी कोरोना की सम्भावना के चलते स्वेच्छिक़ रक्तदाता को किट्स का वितरण जारी रखा जाएगा।

प्रधानाचार्य चेतन पानेरी ने कहा कि आज का दिन फतह स्कूल के लिये ऐतिहासिक दिन है क्योंकि आज आधुनिक एवं सुसज्जित कंप्यूटर लैब विद्यार्थियों को समर्पित की जा रही है। इससे विद्यार्थी भी स्मार्ट बनेंगे और उन्हें स्मार्ट एजुकेशन का लाभ होगा। उन्होंने कहा कि राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय की स्थापना 1922 मैं हुई थी। यहां से पढ़े हुए कई विद्यार्थियो ने उच्च पदों को सुशोभित किया है आज भी कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।

संयम सिंघवी ने सोसायटी के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए सोसाइटी के शुरुआती दौर से लेकर आज तक किये गये कार्याे की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सोसायटी उस वक्त शुरू हुई थी जब उदयपुर में रक्तदान के बारे में लोगों मैं कोई खास जागृति नहीं थी। धीरे-धीरे सोसाइटी के माध्यम से हमने रक्तदान का विभिन्न माध्यमों से महत्व समझाया उसका परिणाम आज सभी के सामने हैं। उन रक्त दाताओं का दिल से आभार व्यक्त किया जो शुरू से लेकर आज तक सोसाइटी से जुड़े हैं।

सरस्वती वंदना से प्रारंभ हुए समारोह में अतिथियों एवं रक्त दाताओं का माला पगड़ी ऊपरना एवं शोल ओढाकर स्वागत अभिनंदन किया गया। समारोह में शिक्षिका सुधा के सेवानिवृत्ति पर उनका स्वागत अभिनंदन किया गया तथा उन्हें अभिनंदन पत्र भी प्रदान किया गया। समारोह में शहर के शताधिक गणमान्य सज्जनो  की उपस्थिति रही। कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर ओपी महात्मा ने किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal