गिट्स के छात्रों ने स्मार्ट ड्रिप मशीन बनाकर कराया पेटेंट

गिट्स के छात्रों ने स्मार्ट ड्रिप मशीन बनाकर कराया पेटेंट

विद्यार्थियों ने स्मार्ट ड्रिप मशीन बनाकर और इसे पेटेंट कराकर पूरे उदयपुर का नाम रोशन किया हैं।

 
गिट्स के छात्रों ने स्मार्ट ड्रिप मशीन बनाकर कराया पेटेंट
कन्ट्रोल रूम के लोगों को रियल टाइम जानकारी हो जायेगी।

गीतांजली इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्निकल स्टडीज डबोक उदयपुर में बी.टेक के विद्यार्थियों ने स्मार्ट ड्रिप मशीन बनाकर और इसे पेटेंट कराकर पूरे उदयपुर का नाम रोशन किया हैं।

संस्थान के निदेशक डाॅ. विकास मिश्र ने बताया कि पेटेंट ट्रेड मार्क, काॅपी राइट, आदि सब इंटलेक्चुअल प्रोपर्टी राईट के तहत आते हैं, यानी ऐसा प्रोडक्ट जो युनिक हैं तथा क्रिएटिव दिमाग की उपज हैं। मेडिकल फिल्ड में सावधानी सतकर्ता का अहम रोल हैं जरा सी समय की चुक एवं असावधानी मरीज के लिए जान का खतरा बन जाता हैं। इसके अतिरिक्त मरीज एवं नर्स का अनुपात आम तौर पर बराबर नहीं होता हैं। 

इसी समस्या से निजात पाने के लिए आई ओ टी आधारित स्मार्ट ड्रिप का निर्माण बी.टेक. के छात्र मोहम्मद अतीक सम्मा, शुभम वागरेचा, लोकेश भट्ट, मोहम्मद उजेर टाक, मनोज चंदेल, अक्षय मेडतिया एवं शीतल शर्मा द्वारा डाॅ. राजीव माथुर एवं असिस्टेंट प्रोफेसर लतीफ़ खान के निर्देशन में बनाया है तथा इस मेडिकल उपकरण का पेटेंट भी फाइल हो चुका हैं। 

असिस्टेंट प्रोफेसर लतीफ़ खान ने बताया कि आम तौर पर देखा गया हैं कि यदि ड्रिप मशीन के पास नर्सिंग स्टाॅफ व उसके परिजन अनुपस्थित होते है तो ड्रिप खत्म होते ही रक्त का प्रवाह विपरित दिशा में होने लगता है या ग्लूकोज के साथ एयर बबल के शरीर में जाने की संभावना हो जाती हैं जिससे मरीज की जान पर बन आती हैं, उपरोक्त समस्याओं से छुटकारा दिलाते हुए यह ड्रिप मशीन एक मिनिमम लेवल के ग्लूकोज स्तर पर स्वतः ही बंद हो जायेगी। साथ में एलार्म के साथ इन्डिकेशन बल्ब भी जल जायेगा। जिससे सभी लोग यथा स्थिति से अवगत हो जायेंगे। इसके अलावा एक अर्लट मेसेज कन्ट्रोल रूम में चला जायेगा। जिससे कन्ट्रोल रूम के लोगों को रियल टाइम जानकारी हो जायेगी।

निदेशक आई क्यू ए सी डाॅ. सुधाकर जिंदल के अनुसार गिट्स के छात्रों द्वारा बनाया गया यह बायोमेडिकल उपकरण विभिन्न राष्ट्रीय संगठन जैसे अखिल भारतीय शिक्षा परिषद नई दिल्ली के विश्वकर्मा अवार्ड तथा डी एस टी राजस्थान जैसे इनोवेटिक प्लेटफोर्म पर अवार्ड के लिए चयनित हैं।

वित्त नियंत्रक बी.एल. जांगिड के अनुसार यह गिट्स के फेकल्टी एवं विद्यार्थियों के अथक परिश्रम का नतीजा हैं। गिट्स के तरफ से एक ही वर्ष के भीतर दूसरा समाजोपयोगी उपकरण पेंटेंट हो चुकी है
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal