इण्डियन माईनिंग दिवस का आयोजन


इण्डियन माईनिंग दिवस का आयोजन

बिरला एवं चन्देरिया सीमेन्ट वर्क्स चित्तौगड़ के प्रेसीडेन्ट राजेश ककर ने कहा कि भारत में माइनिंग के विज़न 2040 के बारें में बताया कि आने वाला समय आॅटोमेशन एवं आर्टिफिसियल न्युरल नेटवर्क का है और इस दिशा में पूरे विश्व में खनन क्षेत्र मे हो रहा है और इसी दिशा में भारत को भी आगे बढना चाहिए।

 
UT WhatsApp Channel Join Now

इण्डियन माईनिंग दिवस का आयोजन

बिरला एवं चन्देरिया सीमेन्ट वर्क्स चित्तौगड़ के प्रेसीडेन्ट राजेश ककर ने कहा कि भारत में माइनिंग के विज़न 2040 के बारें में बताया कि आने वाला समय आॅटोमेशन एवं आर्टिफिसियल न्युरल नेटवर्क का है और इस दिशा में पूरे विश्व में खनन क्षेत्र मे हो रहा है और इसी दिशा में भारत को भी आगे बढना चाहिए।

वे आज इन्स्टीट्यूट आॅफ इंजीनयर्स में आयोजित माईनिंग इन्जीनियर्स एसोसिएशन आॅफ इण्डिया राजस्थान चेेेप्टर उदयपुर एवं इन्स्टीट्यूशन आॅफ इंजीनियर्स इण्डिया उदयपुर द्धारा इंडियन माईनिग दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि इस दिशा में सोफ्टवेयर इन्जीनियर के साथ-साथ हार्डकेर इन्जीनियर्स की भी खनन क्षेत्र में महत्वूपर्ण भूमिका रहती है।

हिन्दुस्तान जिंक लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी माईनिंग एल.एस.शेखावत ने कहा कि खदानों में आने वाले समय में काफी बदलाव लिए जा रहे है। उसमें से एक भूमिगत खानों के अन्दर अयस्क को क्रेशर से तोडकर पानी के साथ पाइप द्वारा हाइड्रोलिक विधि से ट्रान्सपोर्ट करने का सिस्टम कुछ ही समय में आने वाला है।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

बिरला सीमेन्ट वर्क्स चित्तौड़गढ़ के सहायक वाइस प्रेसीडेन्ट मकबूल अहमद ने कहा कि सीमेन्ट के लिए लाइम स्टोन के खनन के लिए हाइड्रोलिक स्पलीटर एवं रोक ब्रैैकर से खनन की विधि पूरे देश में सिर्फ बिरला सीमेन्ट की खदान पर ही काम मे ली जा रही है। यह विधि ब्लास्टिंग की जगह काम मे ली जा रही है जिसमे आस पास के लोगो को किसी तरह की परेशानी नही होती है।

आर.के.मार्बल्स के महाप्रबन्धक राजेन्द्र बोरा ने बताया कि मार्बल के खनन के लिए खनन पट्टे कम से कम पचास हेक्टर के होने चाहिये। जिसमें मार्बल के ब्लाॅक होने चाहिये ताकि मार्बल के ब्लाॅक की रिकवरी बढ़ाई जा सकें।

इस अवसर पर माईनिग इंजीनियर्स एसोसिएशन आॅफ इण्डिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरूण कोठारी ने बताया कि इस दिवस को 5500 सदस्यों के साथ पूरे देश में मनाया जाता है। उन्होने बताया कि एसोसिएशन द्वारा प्रतिवर्ष 100 से अधिक राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय सेमिनार एवं वर्कशाॅप का आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर माईनिंग इंजीनियर एवं भू-विज्ञान के छात्रों को पुरूस्कार एंव प्रशसित पत्र प्रदान किये गये।

कार्यक्रम की शुरूआत में माईनिग इंजीनियर्स एसोसिएशन आॅफ इण्डिया के अध्यक्ष ने कहा कि आधुनिक तकनीक से खनन की लागत को आधुनिक तकनीक से कम किया जा सकता है। एसोसिएशन के सचिव मधुसूदन पालीवाल ने कहा कि तीनों वक्ता अपने-अपने क्षेत्र में विश्व स्तरीय कार्य कर रहे है। इन्स्टीट्यशून आॅफ इंजीनियर्स इण्डिया उदयपुर के चेयरमेन अपने स्वागत उद्बोधन दिया और संचालन एस.एस.चुण्डावत ने किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal