देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

बीएनआई की ओर से मादड़ी स्थित यूसीसीआई में कल 28 अप्रैल 2019 को आयोजित एक दिवसीय बिजनेस कोनक्लेव में बड़ी संख्या में देश के विभिन्न क्षेत्रों से आये व्यपारियों एवं बीएनआई सदस्यों ने भाग लेकर कारोबार की ग्रोथ को कैसे बढ़़ाया जाय, इस पर जानकारी हासिल की। वक्ताओं ने अपने व्याख्यानों में बिजनेस में नये- नये आइडिया एवं चुनौतियां जिनमें कल आज और कल के बारे में विस्तार से चर्चा की।

 
देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

Anil Singhvi

बीएनआई की ओर से मादड़ी स्थित यूसीसीआई में कल 28 अप्रैल 2019 को आयोजित एक दिवसीय बिजनेस कोनक्लेव में बड़ी संख्या में देश के विभिन्न क्षेत्रों से आये व्यपारियों एवं बीएनआई सदस्यों ने भाग लेकर कारोबार की ग्रोथ को कैसे बढ़़ाया जाय, इस पर जानकारी हासिल की। वक्ताओं ने अपने व्याख्यानों में बिजनेस में नये- नये आइडिया एवं चुनौतियां जिनमें कल आज और कल के बारे में विस्तार से चर्चा की।

इस अवसर पर बीएनआई के एक्ज्यूकिटिव डायरेक्टर अहमदाबाद- बड़ौदा के यश वसन्त ने बिजनेस की कई सक्सेस स्टोरियां सुना कर बिजनेसमैनों को हौंसला दिया। उन्होंने कहा कि बिजनेस में असफलता से कभी घबराना नहीं चाहिये। उन्होंने गुरू और शिष्य की स्टोरी सुनाते हुए कहा कि शिष्य से पूछा कि 5 और 5 कितने होते हैं तो उसने कहा कि नौ। इस पर लोग खूब हंसे और तालियां बजी। जब इस गलत उत्तर पर तालियां बजाने का कारण पूछा तो लोगों ने कहा कि इससे पहले जब इस बच्चे से पूछा कि 5 और 5 कितने होते हैं तो उसने 6 कहा था और आज दुबारा फिर से पूछा तो इसने 9 कहा है यानि यह सफलता की ओर बढ़ रहा है। इसका हौंसला बढ़ाना चाहिये। जब तीसरी बार इसे पूछेंगे तो 5 और 5 यह 10 ही बोलेगा यानि कि ये एक दिन सफल हो ही जाएगा। उन्होंने एक के बाद एक कई छोटी- छोटी सक्सेस स्टोरियां सुना कर बिजनेस मैन सदस्यों को प्रेरणा दी कि बिजनेस में उतार- चढ़ाव तो आते ही है। यह बिजनेस का नियम है। सफलता इसके बाद ही मिलती है। बिजनेसमैन के लिए बीएनआई को उन्होंने सफल प्लेटफार्म बताया।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

इस अवसर पर विशेष उद्बोधन देते हुए तेरापंथ धर्म संघ के मुनिश्री सम्बोध कुमार ने व्यापार में नैतिकता व्यावहारिकता पर कहा कि बिजनेस वही सफल है जिसमें नैतिकता और व्यावहारिकता है। बिजनेस दिल में उतर जाने वाला होना चाहिये, दिल से उतर जाने वाला नहीं। बिजसमेन का लक्ष्य सिर्फ पैसा कमाना ही नहीं होना चाहिये। मुनिश्री ने कहा कि पैेसों के साथ ईमानदारी, प्रतिष्ठा, सामाजिक समरसता का भी ध्यान रखना चाहिये। वह बिजनेस और बिजनेसमेन सफल होता है जो दूसरों के चेहरों पर खुशियां ला सके। अपने कामदारों को खुश रख सके ओर उनके सुख-दुख का साथी भी बन सके।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

मुख्य वक्ता अनिल सिंघवी ने अच्छे बिजनेस एवं अच्छे बिजसमेन के तौर तरीकों के बारे में व्याख्यान देते हुए कहा कि हमें कल आज ओर कल का खयाल रख कर बिजनेस करना चाहिये। हमारे पहले क्या था, क्या चलता था, आज क्या चल रहा है और कल क्या चलेगा ऐसा सोच कर बिजनेस में कदम बढ़ाने चाहियें। बिजनेस वही सफल है जो आने वाली पीढ़ी के हिसाब से चले। एक सफल बिजनेस मेन बनने का सूत्र भी यही है कि वह वक्त के साथ चले नही तो वक्त आपका साथ छोड़ देगा। बिजनेस को कैसे बचाये रखना है इसका खयाल हमेशा दिमाग में होना चाहिये।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

उन्होंने बिजमेन को कुछ टिप्स देते हुए कहा कि आप को बिजनेस अच्छा चलाना है तो सबसे पहले आप कस्टमरों को आलसी बना दो। उसे हर सुविधा दे दो। होम डिलीवरी कर दो। उसे जो चाहिये वह आपके पास हर वक्त उपलब्ध रख दो। कस्टमर आपको छोड़ कर कहीं नहीं जाएगा। दूसरा टिप्स यह बताया कि कस्टमर को आप अपने प्रोडक्ट का आदि बना दो, उसे उसकी लत लगा दो। फिर कीमत आपके ही हाथ में होगी। चाहे वह प्रोडक्ट कितना भी महंगा होगा कस्टमर उसे खरीदेगा ही क्योंकि उसे उसकी लत लग चुकी है।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें  

उन्होंने कहा कि हमारे देश में तीन सी क्रिकेट, दूसरा सिनेमा और तीसरा क्राईम हमेशा बिकते आये हैं और हमेशा बिकते रहेंगे। क्रिकेट का सम्बन्ध खेलों से है। स्पोर्ट्स का बिजनेस हिन्दुस्तान में सुपरहिट है। दूसरा सिनेमा। इसकी लत आम व्यक्ति को लगी हुई है वह सिनेमा देखे बिना नहीं रह सकता है और तीसरा क्राईम यानि दंगा, झगड़ा फसाद। व्यक्ति को हमेशा दूसरों के झगड़े देखने और क्राईम को पढ़ने सुनने में बड़ा मजा आता है।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

उन्होंने कहा कि हमेशा नये- नये आइडिया से काम करना चाहये चाहे आइडिया छोटा हो या बड़ा। आज होटल इंडस्ट्री का सबसे बड़ा ग्रुप है योयो। लेकिन मजे की बात है कि उसके खुद की एक भी होटल नहीं है। आज उबर और ओला देश की सबसे बड़ी कार कम्पनियां है लेकिन बाजारों में दोड़ रही कारों में एक भी उनकी नहीं है। क्योंकि उनके पास आइडिया है। बिजनेस में आइडिया की भूमिका महत्वपूर्ण होती है।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

प्रारम्भ में कार्यक्रम के प्रारम्भ में स्वागत उदबोधन देते हुए बीएनआई के रिजनल डायरेक्टर अनिल छाजेड़ ने देश- विदेश में फैले बीएनआई के बारे में विस्तार से बताते हुए इसकी गतिविधियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि बीएनआई आज के बदलते परिवेश में बिजनेस मेन के लिए अच्छा प्लेट फार्म है। इसमें नये- नये बिजनेस, इन्हें करने के तरीके और उन्हें कैसे किया जा सकता है के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि बीएनआई की विश्सनीयता आज देश ही नहीं विदेशों में भी स्थान पा रही है एवं सदस्यों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

बिजनेस में दो प्रकार के लोग होते है। पहले वो जो बिल्डिंग को बनाते हैं ओर दूसरे वो जो बिल्डिंग की डिजाईन और आईडिया देते हैं। दोनों में फर्क ये है कि बनाने वाले कुछ पेसे ही कमा पाते हैं जबकि डिजाईन और आईडिया देने वाले करोड़ों में खेलते हैं। जो बिजनेस सिर्फ पैसा ही देता है वह बिजनेस हो ही नहीं सकता जब तक कि उसमें नैतिकता का स्थान ना हो। जहां दूसरों को खुशी मिले, प्यार मिले, अपनापन मिले और कमजोरों को खुशियां दे सके वही असली बिजनेस है। बिजनेस को कभी घर पर नहीं लाना चाहिये, क्योंकि जो बिजनेस दुकान से निकल कर घर तक पहुंच गया, फिर वो घर नहीं रह जाता और उसे गर्त में जाने से कोई नहीं रोक सकता है। ऐसे बिजनेस भी देखे गये हैं जिन्हें सिर्फ पेसा ही दिखता है। उनके सामने घर, परिवार, बच्चे, समाज भी नहीं दिखता। उन्हें समाजिक सरोकारों से कोई लेना- देना नहीं होता हैं। उनके घर पर कोई मौत भी हो जाती है तो अर्थी को कांधा देने वाले चार लोग भी नहीं मिल पाते। मोक्ष रथ आता है,ले जाता है और इलेक्ट्रोनिक पद्धति से उनका दाह संस्कार कर दिया जाता है। उस समय न बेटों को समय होता है ना ही पति को समय होता है। ऐसे बिजनेस का क्या फायदा जिसमें नैतिकता नाम की चीज ही नहीं हो।

देशभर से 2000 से अधिक व्यापरियों ने जाना कारोबार की ग्रोथ कैसे की जायें

समारोह में अतिथियों को बीएनआई के अनिल छाजेड़ एवं ऐश्वर्या काॅलेज की डायरेक्टर सीमा सिंह ने मोमेन्टो देकर सम्मानित किया। प्रारम्भ में कार्यक्रम का शुभारम्भ गणपति वन्दना के साथ हुआ। बीएनआई के डायरेक्टर अनिल छाजेड़, ऐश्वर्या काॅलेज की डायरेक्टर सीमा सिंह एवं अतिथियों ने भगवान की तस्वीर के समक्ष दीप प्रज्वलन एवं माल्यार्पण किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal