नेशनल ब्लाइंड क्रिकेट चैंपियनशिप 2019

नेशनल ब्लाइंड क्रिकेट चैंपियनशिप 2019 

कुल 6 टीम हिस्सा लेंगी - राजस्थान, पश्चिम बंगाल, गोवा, गुजरात, मध्य प्रदेश और केरल 
 
नेशनल ब्लाइंड क्रिकेट चैंपियनशिप 2019
ब्लाइंड क्रिकेट में इस्तेमाल होने वाली गेंद साधारण गेंद से बडी होती है। ये प्लास्टिक की होती है इसमें बाॅल बेअरिंग डाले जाते हैं जिससे झुनझुने की आवाज़  आती रहती है । इनकी आवाज से दृष्टिहीन खिलाड़ी को गेंद का अंदाजा लगता है। बाॅलर रेडी काॅल करेगा इसके बाद बेटसमैन यस बोलता है, तब गेंदबाज प्ले बोलते हुये अंडर आर्म गेंद फैंकता है जिससे बल्लेबाज और फिल्डर जान जाते है कि बाॅल फैंकी जा रही है। जैसे ही बल्लेबाज घुंघरू की आवाज सुनता है तो शाॅट खेल लेता है।    

उदयपुर। नारायण सेवा संस्थान, क्रिकेट एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड इन इंडिया एवं राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ द ब्लाइंड के संयुक्त तत्वावधान में  उदयपुर में पहली बार राष्ट्रीय स्तर पर नेशनल ब्लाइंड क्रिकेट चैंपियनशिप आयोजित की जा रही है। चार दिवसीय प्रतियोगिता का आयोजन 30 नवंबर से 3 दिसम्बर 2019 तक होगा। 

नेशनल ब्लाइंड क्रिकेट चैंपियनशिप 2019 में कुल छह राज्यों की टीम हिस्सा लेंगी। राजस्थान के अतिरिक्त पश्चिम बंगाल, गोवा, गुजरात, मध्य प्रदेश और केरल से टीम हिस्सा लेने 29 नवम्बर को उदयपुर पहुंचेगी। कुल 6 टीमों को 3-3 टीमों के दो ग्रुप में बांटा गया है। ग्रुप ए में राजस्थान, पश्चिम और गोवा को रखा गया है जबकि ग्रुप बी में गुजरात, मध्प्रदेश और केरल को रखा गया है। पप्रत्येक टीम दो दो मैच खेलेंगी। शीर्ष की दो टीम फ़ाइनल खेलेगी। 

टूर्नामेंट में विजेता, उपविजेता टीम के साथ ही मैन ऑफ़ द मैच, मैंन ऑफ़ द सीरीज़, श्रेष्ठ गेंदबाज़, श्रेष्ठ बल्लेबाज़, श्रेष्ठ फील्डर आदि का भी चयन कर उन्हें पुरुस्कृत किया जाएगा। 

प्रतियोगिता का उद्घाटन मैच राजस्थान और पश्चिम बंगाल के बीच महाराणा भूपाल कॉलेज ग्राउंड पर 30 नवंबर को खेला जाएगा जबकि फाइनल मैच भी 3 दिसंबर को इसी ग्राउंड पर खेला जायेगा। अन्य लीग मैच 1 व दो दिसम्बर को नारायण सेवा संस्थान के डबोक धूणीमाता स्थित भूमिमाता परिसर मैदान में खेला जाएगा। 

सभी व्यवस्थाएं पूर्ण  

चैम्पियनशिप सम्बंधी सभी आवश्यक तैयारियां संस्थान की विभिन्न उपसमितियों की देखरेख में पूरी कर ली गई हैं । आने वाली सभी टीमों, प्रबंधकों एवं अम्पायरों के आवास एवं भोजन की व्यवस्था संस्थान के स्मार्ट विलेज सेवा महातीर्थ बड़ी में की गई है । खिलाड़ियों व प्रबंधकों को आवास स्थल से ग्राउण्ड तक आने-जाने के लिये वाहन उपलब्ध रहेंगे । साथ ही दुर्घटनाओं से निपटने के लिये मैदान पर प्राथमिक चिकित्सा, अग्निशमन व एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है।   

कुछ खास हैं नियम दृष्टि बाधित क्रिकेट के:

70 गज के मैदान की तुलना में 50 गज के मैदान पर खेलते है । टीम में तीन श्रेणी के खिलाडी होते है- बी-1, बी-2, एव बी-3 पहेली श्रेणी में (बी-1, जिनके पास कोई दृष्टि नहीं-4 खिलाडी) दूसरी श्रेणी बी-2 - 4 खिलाड़ी इन दिव्यांगों के पास 4 मीटर की दृष्टि होती है । अन्तिम तीसरी श्रेणी में बी-3 में 7 मीटर तक की दृष्टि के खिलाड़ी होते हैं ।

घुँघरी बजती गेंद:

ब्लाइंड क्रिकेट में इस्तेमाल होने वाली गेंद साधारण गेंद से बडी होती है। ये प्लास्टिक की होती है इसमें बाॅल बेअरिंग डाले जाते हैं जिससे झुनझुने की आवाज़  आती रहती है । इनकी आवाज से दृष्टिहीन खिलाड़ी को गेंद का अंदाजा लगता है। बाॅलर रेडी काॅल करेगा इसके बाद बेटसमैन यस बोलता है, तब गेंदबाज प्ले बोलते हुये अंडर आर्म गेंद फैंकता है जिससे बल्लेबाज और फिल्डर जान जाते है कि बाॅल फैंकी जा रही है। जैसे ही बल्लेबाज घुंघरू की आवाज सुनता है तो शाॅट खेल लेता है।    

ब्लाइन्ड चैम्पियनशिप-2019 की जानकारी सर्वजन मैं पहुंचाने के लिए गुरूवार को आयोजित प्रेस वार्ता में बोलते हुए पी.आर.ओ विष्णु शर्मा ’हितैषी’ ने कहा कि संस्थान के इस आयोजन से सामान्य मानवी को हार न मानने की प्रेरणा मिलेगी। संस्थान के प्रवक्ता ओमप्रकाश सिलन ने बताया कि यह आयोजन उदयपुर के गौरव को बढ़ायेगा तथा दिव्यांग प्रतिभागियों की दशा-दिशा सुधारने में अहम भूमिका अदा करेगा। 

राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ़ द ब्लाइंड के प्रतिनिधि दिव्यांग प्रतिभागी जुगलकिशोर व्यास ने सम्बोधित करते हुए राजस्थान की ब्लाइंड टीम की उपलब्धियों को गिनाया। घेवर रेबारी संयोजक आर.सी.ए.बी. ने उदयपुर में होने वाले टूर्नामेंट के लिए नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशान्त अग्रवाल का धन्यवाद अर्पित किया और ब्लांइड क्रिकेट की तकनीकी जानकारी दी। वार्ता के दौरान चैम्पियनशिप-2019 के पोस्टर का विमोचन किया गया जिसमें संस्थान पदाधिकारी भगवान प्रसाद गौड़, रजत गौड़ विकास निगम, सूरज राठौड़ आदि उपस्थित रहे।    

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal

From around the web