द हीलिंग टच कार्यशाला का समापन

द हीलिंग टच कार्यशाला का समापन
 

दृष्टिहीन बच्चे प्रतिभागी से प्रशिक्षक बन अब करेंगे एक्यूप्रेशर उपचार
 
 
द हीलिंग टच कार्यशाला का समापन
इस शिविर में नासिक के टोटल हेल्थ सॉल्यूशन के विख्यात एक्यूप्रेशर स्पेशलिस्ट सुधीर सोमैया ने 15 वॉलिंटियर की सहायता से दृष्टिहीन बच्चो को यह पद्धति सिखाई।

उदयपुर। स्वामी विवेकानंद सोसाइटी उदयपुर की ओर से अंबामाता स्थित अंध विद्यालय में चल रही पांच दिवसीय द हिलिंग टच कार्यशाला का समापन शुक्रवार को हुआ। समापन अवसर पर प्रतिभागी रहे बच्चों को प्रशस्ति पत्र और एक्यूप्रेशर मैजिक रिंग भेंट की गई। इस शिविर में नासिक के टोटल हेल्थ सॉल्यूशन के विख्यात एक्यूप्रेशर स्पेशलिस्ट सुधीर सोमैया ने 15 वॉलिंटियर की सहायता से दृष्टिहीन बच्चो को यह पद्धति सिखाई।

सोसाइटी की संगीता मूंधड़ा ने बताया कि समापन से पूर्व बच्चों को अलग-अलग ग्रुप में विभाजित कर उनकी परीक्षा ली गई, और उन्हें एक्यूप्रेशर चिकित्सा के रूप में रोगी का उपचार करने और उसे आराम देने के लिए एक्यूप्रेशर पद्धति का उपयोग करने हेतु मॉकड्रिल भी की गई।

एक्यूप्रेशर स्पेशलिस्ट सुधीर सोमैया ने बताया कि 5 दिन में बच्चो को शरीर के कई अंगों की नसों को एक सटीक दबाव और तरीके से गर्दन, कमर, हाथ- पैर, सिरदर्द व अन्य तरह के दर्द का उपचार सिखाया गया। सोमैया ने बताया कि उनका उद्देश्य है कि यह बच्चे एक्यूप्रेशर पद्धति सीखकर स्वयं के इलाज के साथ ही अन्य लोगो को भी एक प्रशिक्षक के रूप में उपचार दे।

सोसायटी की शोभा कर्वा ने बताया कि शिविर में प्रतिभागी रहे 70 से ज्यादा बच्चो को 5 दिन के प्रशिक्षण की ओडियो दी गयी है, साथ ही बच्चो ने ब्रेल लिपि में नोट्स भी बनाये है। जिससे कि किसी भी तरह की बीमारी के उपचार में इसका उपयोग कर मरीज को जल्द से जल्द राहत पहुंचा सके। समापन के दौरान सोसाइटी की अनिता बियानी, करुणा नलवाया, स्कूल प्राचार्य ऑबह शर्मा, समिधा संस्था के चंद्रगुप्त सिंह चौहान व स्कूल स्टाफ सहित बच्चे भी उपस्थित रहे।

दृष्टिहीन बच्चे देंगे एक्यूप्रेशर उपचार

कार्यशाला में 5 दिन तक बच्चों ने एक्यूप्रेशर पद्दति को बेहद बारीकी से समझा और उसको उपयोग में भी लिया। इन 5 दिनों में यह बच्चे एक्यूप्रेशर में इतने काबिल हो गए है कि अब अंध विद्यालय में हर महीने एक्यूप्रेशर शिविर का आयोजन किया जाएगा। शिविर में प्रतिभागी से एक्यूप्रेशर के प्रशिक्षक बने दृष्टिहीन बच्चे विभिन्न रोगों का उपचार करेंगे। इसके साथ ही इस कार्यशाला से प्रशिक्षित हुए दृष्टिहीन पूर्व-छात्र फिजियोथेरेपिस्ट अंध विद्यालय के ही पूर्व प्राचार्य और अध्यापक शहीद 12 जस्टिन लोग अपने-अपने क्षेत्र में जाकर एक्यूप्रेशर के निशुल्क कैंप भी आयोजित करेंगे और रोगियों की सेवा कर उन्हें राहत पहुंचाएंगे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal