खनन संबंधी विभिन्न समस्याओं का लेकर दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार सम्पन्न

खनन संबंधी विभिन्न समस्याओं का लेकर दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार सम्पन्न
 

विभिन्न पत्रवाचनों के जरिये बतायी विस्फोटक संबंधी समस्याएं समाधान
 
 
खनन संबंधी विभिन्न समस्याओं का लेकर दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार सम्पन्न
माइनिंग इंजीनियर्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया,राजस्थान चेप्टर उदयपुर, खान एवं भू-विज्ञान विभाग राजस्थान सरकार एवं उदयपुर चेम्बर ऑफ़ काॅमर्स एण्ड इन्डस्ट्रीज़ के संयुक्त तत्वावधान में खनन विस्फोटक (एक्सप्लोसिव) व पेट्रोलियम पदार्थो की विभिन्न समस्याओं से संबंधित विषयक दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार

उदयपुर 9 अगस्त 2020। माइनिंग इंजीनियर्स एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया,राजस्थान चेप्टर उदयपुर, खान एवं भू-विज्ञान विभाग राजस्थान सरकार एवं उदयपुर चेम्बर ऑफ़ काॅमर्स एण्ड इन्डस्ट्रीज़ के संयुक्त तत्वावधान में खनन विस्फोटक (एक्सप्लोसिव) व पेट्रोलियम पदार्थो की विभिन्न समस्याओं से संबंधित विषयक दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार के दूसरे एवं अंतिम दिन आज विभिन्न पेपर प्रजेन्टेशन के जरिये विस्फोटक संबंधी समस्याओं, समाधान एवं काम में ली जा रही विश्वस्तरीय तकनीक एवं मशीनों की जानकारी दी गई।

वेबिनार में पत्रवचन करते हुए सीटीएई के पूर्व डीन प्रो. डाॅ. एस.एस.राठौड़ ने सुरक्षा, चुनौतियां एवं खतरे: अमोनियम नाईट्रेट विषय पर पत्रवाचन करते हुए कहा कि हमें अमोनियम नाईट्रेट  के खतरे को भांपते हुए आगे बढ़ना होगा अन्यथा इसे कभी भी मानवविरोधी होते हुए देर नहीं लगेगी।  इस पत्र के सह लेखक कन्ट्रोलर ऑफ़ एक्सप्लोसिव एस. राय थे। इस अवसर पर अल्ट्राटेक सीमेन्ट लि. के कोटपुतली के उपाध्यक्ष (खान) एम.एल.लाहोटी न ब्लास्टिंग की कला विषय पर पत्रवाचन करते हुए कहा कि ब्लास्टिंग भी एक कला है जिसे विशेषज्ञ की देखरेख में ही किया जाना जाना चाहिये अन्यथा नुकसान होते देर नहीं लगती है। 

इंजी. एन.एस.चौधरी व इंजी दुष्यन्त टेलर ने भूमिगत खदान में विस्फोटक एवं पेट्रोलियम पदार्थो के उपयोग के संभावी तरीके विषय पर पत्रवाचन करते हुए कहा कि दरीबा में विश्वस्तरीय तकनीक के जरिये भूमिगत खदानों की खुदाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को विस्फोटक नियमों में बदलाव करना चाहिये। 

डाॅ.एस.सी.जैन व इंजी.आर.डी.सक्सेना ने खदान में पेट्रोल पम्प की लाईसैंस प्रक्रिया, भण्डारण एवं मिक्सिंग एनफो शेड स्थापित करने के प्रावधान व समस्याएं विषय पर सिलसिलेवार प्रस्तुतियं दी। अंतिम तकनीकी सत्र में एफएण्डक्यू इन्टरनेशनल ओमान के प्रबन्ध निदेशक संजय पुरोहित ने तकनीकी प्लेटफार्म का उपयोग कर ब्लास्टिंग तकनीक को ओप्टिमाईज करना विषय पर बताया कि सोफ्टवेयर का उपयोग कर ब्लास्टिंग ओेप्टीमाईजेशन से 28.8 प्रतिशत से 26 प्रतिशत तक लागत में कमी की जा सकती है। 

प्रारम्भ में राजस्थान चेप्टर उदयपुर के उपाध्यक्ष एवं वेदान्ता ग्रुप में अन्तर्राष्ट्रीय बिजनेस हेड एल.एस.शेखावत ने वेबिनार में प्रतिभागिता निभा रहे सभी सदस्यों का स्वागत किया। विशेष रूप में प्रो.बी.बी.धर एवं डाॅ. सुशील भण्डारी का आभार ज्ञापित किया कि उनके इस वेबिनार से जुड़ने से हम सभी लाभान्वित हुए। आज के की-नोट स्पीकर एनआईटी राउरकेला प्रो. एस.जयंतु ने साइंटिफिक स्टडीज ऑन सेफ डिजाईन ऑफ़ राॅक ब्लास्टिंग इन ओपन कास्ट कोल एण्ड मेटल माईंस केस स्टडीज नियम पर अपना सारगर्भित उद्बोधन दिया। 

प्रो. बी.बी.धर ने उदयपुर चेप्टर को देश का सबसे सक्रिय चेप्टर बताते हुए कहा जिस प्रकार से इस चेप्टर ने इस वेबिनार में खनन संबंधी संबंधी समस्याओं, समाधान एवं कियान्वयन को लेकर जिस प्रकार के पत्रों का चयन किया गया वह तारीफ लायक है। इसके लिये प्रो. डाॅ. एस.एस.राठौड़ एवं उनकी टीम की भूरि-भूरि प्रशंसा की। 

एमईएआई के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अरूण कोठारी ने एमईएआई ने देश में साल भर में 100 से अधिक सेमिनार या अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार, तकनीकी पेपर व कार्यशाला का आयोजन करती रही है। कोरोनाकाल में यह वेबिनार अपने आप में काफी महत्वपूर्ण रही। इस वेबिनार को सफल बनाने में यूसीसीआई चेयरमेन रमेश सिंघवी एंव आईटी एक्सपर्ट असित भट्टाचार्य का महत्वपूर्ण योगदान रहा। अंत में एमईएआई के सचिव एवं खान व भू-विज्ञान विभाग के अधीक्षण अभियन्ता मधुसूदन पालीवाल ने ज्ञापित किया। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal