पशु पालन और दुग्ध उत्पादन मे इतिहास रचेगी जिले की महिलाएं

पशु पालन और दुग्ध उत्पादन मे इतिहास रचेगी जिले की महिलाएं

उदयपुर जिले की मावली पंचायत मे राजस्थान मरुधरा ग्रामीण बैंक और नाबार्ड द्वारा उदयपुर जिले की मावली पंचायत में महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन में महिलाओ को समूह के रूप में पशुपालन ओर दुग्ध उत्पादन

 

पशु पालन और दुग्ध उत्पादन मे इतिहास रचेगी जिले की महिलाएं

उदयपुर जिले की मावली पंचायत मे राजस्थान मरुधरा ग्रामीण बैंक और नाबार्ड द्वारा उदयपुर जिले की मावली पंचायत में महिला सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन में महिलाओ को समूह के रूप में पशुपालन ओर दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में व्यापार करने पर जोर दिया गया।

सम्मेलन के मुख्य अतिथि आरएमजीबी के चेयरमेन एसपी श्रीमाली ने सम्मेलन में घोषणा करते हुए कहा कि सरकार की एफपीओ स्किम के तहत जिले में महिलाओं के समूहों को ऋण के माध्यम से देसी गाय दी जाएगी और श्रीनाथ फामर्स प्रोड्यूसर्स ऑर्गनाइजेशन का शुभारंभ किया जाएगा, जिसकी जिममेदारी बैंक के वरिष्ठ महाप्रबंधक चन्द्रगुप्त सिंह चौहान एवं हनुमान वन विकास समिति के निदेशक राजकिरण यादव को दी गई।

श्रीमाली ने कहा की बैंक द्वारा नाबार्ड के सहयोग से मावली में मिल्क कलेक्शन, चिलिंग सिस्टम, पैकेजिंग, ट्रांसपोर्टेशन का पुरा कार्य महिलाओ द्वारा महिलाओ के आर्थिक स्तर को बढानेे के लिए किया जाएगा। महिलाओ को उनकी गायों से प्राप्त दूध का बाजार मूल्य दिलाने की कोशिश की जाएगी। इसके साथ ही गाय के गोबर का कलेक्शन कर उससे वर्मी कंपोस्ट बनाना, गौमूत्र को दवाई के रूप में तैयार कर गाय की प्रत्येक वस्तु को पूर्ण उपयोगी बनाया जाएगा जिससे कि महिलाएं अपने व्यवसाय की स्वयं मालिक बने।

सम्मेलन मे नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक शशिकमल ने महिलाओ को डेरी उद्यमिता विकास योजना, कृषि कल्याण विकास योजना, मत्स्य व पशु पालन, मिल्क प्रोसेसिंग, कोल्ड स्टोरेज, एनिमल क्लिनिक, डेरी बूथ, ट्रास्पोर्टेशन आदि की जानकारी दी। उन्होने बताया कि महिलाएं बिखरी हुई है और सरकार उन्हे अपने किसान उत्पादन संघ प्रोग्राम के माध्यम से संगठीत कर स्वरोजगार से जोडना चाहती है। महिलाएं एकजूट होगी तभी वह व्यक्तिगत रूप से अपना और समाज का विकास कर पायेगी। सरकार कितनी भी योजनाएं महिलाओं को रोजगार से जोडने के लिए शुरू करे लेकिन उनकी सफलता तभी हो पायेगी जक स्वयं महिलाएं अपने कदम आगे बढायेगी। शशिकमल ने कहा कि आरएमजीबी द्वारा श्रीनाथ फार्मर्स प्रोड्यूसर्स ऑर्गनाइजेशन की स्थापना मे नाबार्ड हर संभव मदद करेगा।

आरएमजीबी के वरिष्ठ प्रबंधक चन्द्रगुप्त सिंह चौहान ने कहा कि एफपीओं की स्थापना के लिए पूरे जिले मे घूम घूम के किसानो को संगठीत किया जाएगा। जिसमे खास तौर से कृषि उत्पादक महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। श्रीनाथ फार्मर्स प्रोड्यूसर्स ऑर्गनाइजेशन से ना केवल मावली बल्कि पूरे जिले की महिलाएं विश्व मे पशु पालन और दुग्ध उत्पादन मे एक इतिहास रचेगी, इसको लेकर आरएमजीबी की समस्त पंचायत स्तर पर शाखाओं मे रजिस्ट्रेशन किये जायेंगे।

सम्मेलन के दौरान भींडर, मावली, वल्लभनगर, गिर्वा, बडगाव, कुराबड पंचायत सहित आस पास के गांवों की करीब 800 से ज्यादा महिलाओ ने हिस्सा लिया। इस दौरान महिलाओं को स्वास्थ लाभ देने के लिए चिकित्सा शिविर भी लगाया गया जिसमें सैंकडो महिलाओं ने लाभ लिया।

सम्मेलन मे बैंक के जीएम ए.के. पारिक, आरएम कमल सक्सेना, अभिमन्यु चारण वित्तीय समावेशन अधिकारी जोधपुर, महेन्द्र सिंह राणावत, इंन्दुशेखर व्यास, सुरेेन्द्र सिंह बालोट, सुरेश चन्द्र गुप्ता, कमलेश गुप्ता, राजेन्द्र कुमार चौधरी, पशु पालन विभाग के संयुक्त निदेशक डाॅ. ललित जोशी, हनुमान वन विकास समिति से राजकिरण यादव, समिधा संस्थान से महादेव चौहान और राघव चतुर्वेदी सहित जिले की विभिन्न आरएमजीबी शाखाओ के प्रबंधक मौजूद रहे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal