गुलाब बाग में स्मार्ट बर्ड फीड स्टेशन का अनावरण


गुलाब बाग में स्मार्ट बर्ड फीड स्टेशन का अनावरण

गिट्स के विद्यार्थियों ने बनाया स्मार्ट बर्ड फीडर स्टेशन गुलाब बाग में किया अनावरण

 
gits
UT WhatsApp Channel Join Now

ग्लोबल वार्मिंग के इस बढ़ते दौर में पर्यावरणीय मुद्दों पर जागरूकता बढ़ाने हेतु उदयपुर के गुलाब बाग में पर्यावरण दिवस का सफलतापूर्वक आयोजन हुआ। इस अवसर पर गिट्स के विद्यार्थियों द्वारा बनाया गया स्मार्ट बर्ड फीडर स्टेशन भी गुलाब बाग में अनावरण किया गया।
 

संस्थान के वित्त नियंत्रक बी एल जांगिड़ ने बताया कि आज के औद्योगिकरण के दौर में पर्यावरण के बिगड़ते संतुलन एवं बढ़ते हुआ प्रदूषण पूरी दुनिया के लिए चिंता का सबब बना हुआ है। इन गंभीर समस्याओं से उबरने का एक मात्र उपाय दुनिया भर के पर्यावरण को हरा-भरा बनाने बनाते हुए अपने आस पास के पशु पक्षियों के लिए खाने पीने का उचित प्रबंध तथा उनकी देखभाल करना है क्योंकि पशु और पक्षी हमारे पर्यावरण के लिए बहुत महत्वपूर्ण घटक हैं। वे हमारे प्रकृति का महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि वह हमारे पर्यावरण के पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन को बनाए रखने में मदद करते हैं। पर्यावरण एवं पशु पक्षियों में समन्वय बैठाने हेतु गिट्स के विद्यार्थी करण सिंह असोलिया, वरुण मेहरा, सूरज जोशी, भाविन भटनागर ,धर्मेंद्र वैष्णव, कुशल शर्मा तथा जान्हवी कुमावत द्वारा डॉ मयंक पटेल एवं असिस्टेंट प्रोफेसर लतीफ खान के निर्देशन में बनाया हुआ स्मार्ट बर्ड फीडर का गुलाब बाग के बर्ड पार्क में अनावरण किया गया। 

gits

सोलर पावर से संचालित इस बर्ड फीडर की खास बात यह है कि आप दुनिया के किसी कोने में बैठ कर अपने पालतू को आवश्यकता अनुसार उसका खाना पीना निर्धारित कर सकते हैं। इसके लिए किसी भी आदमी की जरूरत नहीं पड़ती है। साथ ही आप अपने घर पर लगे पेड़ पौधों को भी दूर बैठकर उसी सिंचाई कर सकते हैं। यह सब आई.ओ.टी एवं सेंसर के माध्यम से संभव हो पाया है।
 

इस अवसर पर चीफ कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट राज करन खेरवा ने उदयपुर के लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि हमारे पुरखे पर्यावरण आधारित जीवन शैली को अपनाते थे तब ना ही प्लास्टिक इतने ढेर दिखाई देते थे ना ही ग्लोबल वार्मिंग की चिंता थी। हमें वही जीवन शैली फिर से अपनानी होगी। हमें पर्यावरण की सुरक्षा दैनिक जीवन में अपनाना चाहिए। बिजली की बचत तथा पानी की बचत भी पर्यावरण सुरक्षा में अहम योगदान देती है, साथ ही कहा की यदि यह फीडर पर्यावरण तथा अन्य माप दण्डो पर खरा उतरता है तो यह स्थाई तौर पर गुलाब बाग में स्थापित की जायेगा।

डिप्टी कंजरवेटर ऑफ फॉरेस्ट अजीत उचोई ने इस अवसर पर कहा कि साल में एक बार पर्यावरण दिवस मना कर इति श्री नहीं करना है बल्कि विश्व में पर्यावरण संकट को देखते हुए अभी से ही भावी पीढ़ी को जागरूक करना होगा। मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के फैकेल्टी आफ मैनेजमेंट स्टडीज की कोर्स डायरेक्टर डॉ मीरा माथुर ने जीवन में बढ़ते प्लास्टिक के उपयोग पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि समुद्री प्रदूषण का मुख्य कारक प्लास्टिक ही है। प्लास्टिक के कारण ही समुद्री जीवो के अस्तित्व पर संकट छा गया है। माथुर ने लोगों को एनवायरमेंट फ्रेंडली पेन तथा कैलेंडर के साथ साथ एनवायरमेंट फ्रेंडली होम के बारे में लोगों को बताया। पर्यावरण के इस अवसर पर रंगोली तथा पर्यावरण आधारित पेंटिंग की का आयोजन किया गया, जिसमें पूरे उदयपुर के स्कूल के बच्चों ने प्रतिभाग किया।गिट्स निदेशक डॉ विकास मिस्र तथा निदेशक आई क्यू ए सी डॉ सुधाकर जिन्दल ने विद्यार्थीओ द्वारा बनाये गए इस एन्वॉयरमेंट फ्रेंडली प्रोजेक्ट के लिए धन्यवाद प्रेषित किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal