राज्य स्तरीय 21वीं वार्षिक कॉन्फ्रेन्स 11 से 13 तक

राज्य स्तरीय 21वीं वार्षिक कॉन्फ्रेन्स 11 से 13 तक

आर.एन.टी मेडिकल कॉलेज, टीबी एवं चेस्ट विभाग व उदयपुर चेस्ट फीजिशियन्स की 3 दिवसीय राज्य स्तरीय 21वीं वार्षिक कॉन्फ्रेन्स

 
rnt

आयोजित कार्यशाला में राजस्थान व देश के विभिन्न राज्यों से लगभग 100 डॉक्टर्स भाग लेंगे

उदयपुर, 10 मार्च। आर.एन.टी मेडिकल कॉलेज, टीबी एवं चेस्ट विभाग व उदयपुर चेस्ट फीजिशियन्स की 3 दिवसीय राज्य स्तरीय 21वीं वार्षिक कॉन्फ्रेन्स 11 से 13 तक आयोजित होगी। वार्षिक कॉन्फ्रेन्स से संबंधित कार्यशाला का शुभारंभ 11 मार्च को टीबी एवं चेस्ट हॉस्पीटल बडी में एम्स नई दिल्ली के डायरेक्टर पद्मश्री डॉ.रणदीप गुलेरिया करेंगे।
 

दिन में होगी कार्यशाला, शाम को मिलेगा फैलोशिप अवार्ड
 

इस आयोजन के संबंध में गुरुवार को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए आरएनटी प्राचार्य डॉ. लाखन पोसवाल ने बताया कि तीन दिवसीय कॉन्फ्रेंस के निर्धारित कार्यक्रम अनुसार 11 मार्च को बड़ी में आयोजित कार्यशाला में राजस्थान व देश के विभिन्न राज्यों से लगभग 100 डॉक्टर्स भाग लेंगे, जो फेफड़ों संबंधी विभिन्न आपरेशन्स कर लाइव केसेज दिखाएंगे।

इस कार्यशाला में भाग लेने वाले प्रतिभागियों को श्वसन विभाग की नवीनतम तकनीक यथा नेवीगेशनल ब्रोंकोस्कोपी एण्ड रियल ई-बस, ट्रांसब्रोंकियल क्रायो-नोडल बायोप्सी, ब्रोंकोस्कोपिक थर्मल वेपर एब्लेशन, थोरोकोस्कोपी का लाइव प्रशिक्षण दिया जाएगा। 11 मार्च को शाम 7 बजे से होटल जस्टा सज्जनगढ़ में यूनाइटेड एकेडमी ऑफ पल्मोनरी मेडिसन का कन्वोकेशन होगा जिसमें पल्मोनरी मेडिसिन क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले देश के चुनिन्दा श्वसन रोग विशेषज्ञों को फैलोशिप अवार्ड से नवाजा जायेगा।  
 

12 व 13 मार्च की कॉन्फ्रेंस आरएनटी सभागार में
ऑरगेनाईजिंग चेयरमेन डॉ. महेन्द्र कुमार बैनाड़ा ने बताया कि 12 व 13 मार्च की कॉन्फ्रेंस आरएनटी मेडिकल कॉलेज में आयोजित होगी। जिसका उद्घाटन 12 मार्च दोपहर 1 बजे पद्म डॉ. रणदीप गुलेरिया के मुख्य आतिथ्य व राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साईंस के वॉइस चांसलर डॉ. सुधीर भण्डारी की अध्यक्षता में होगा। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि जिला कलक्टर ताराचंद मीणा व आरएनटी प्राचार्य डॉ. लाखन पोसवाल होंगे।

डॉ. एस.के लुहाडिया ने बताया कि दो दिवसीय कॉन्फ्रेंस में राजस्थान में भारत के विभिन्न हिस्सों में चेस्ट फिजीशियन द्वारा फेफड़ों से सम्बन्धित एवं कोरोना महामारी से संबंधी रिसर्च के 100 से अधिक पेपर्स का व्याख्यान दिया जायेगा। फेफड़ों से सम्बन्धित बीमारी के जांच व इलाज के काम में ली जा रही आधुनिक तकनीकी के बारे में बताया जायेगा।
 

आरएनटी के अतिरिक्त प्राचार्य डॉ. ललित कुमार रेगर ने बताया कि इस कॉन्फ्रेंस में प्रदर्शित व्याख्यानों एवं कार्यशालाओं का लाभ ना केवल राज्य के सभी पोस्टग्रेजुएट विद्यार्थियों को वरन् राज्य के समस्त चेस्ट रोगियों को भी अत्याधुनिक तकनीकों का लाभ मिल पायेगा। ऑरगेनाईजिंग सेकेट्री डॉ. महेश माहीच ने बताया कि यह कॉन्फ्रेंस एनसीसीपी (चेप्टर राज), आईसीएस (चेप्टर राज.) व यूएपीएम के तत्वावधान में आयोजित होगी। इस कार्यशाला में विभिन्न सत्रों में विषय विशेषज्ञ सैद्धान्तिक व तकनीकी पहलुओं पर जानकारी देंगे। अंत में डॉ. माहीच ने सभी का आभार जताया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal