नवजात और प्रसूता के लिए जरूरी बातों को ध्यान में रखकर मेडिकल व पैरा​मेडिकल स्टाफ को ट्रैनिंग


नवजात और प्रसूता के लिए जरूरी बातों को ध्यान में रखकर मेडिकल व पैरा​मेडिकल स्टाफ को ट्रैनिंग

आरसीएचओ डॉ अशोक आदित्य ने कहा कि डिलेवरी के तुरंत बाद के दो घंटे सबसे इम्पोर्टेंट होते हैं

 
medical staff training
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर 7 नवंबर 2022 । डिलेवरी के वक्त नवजात और प्रसूता के लिए जरूरी बातें ध्यान रखने को लेकर उदयपुर में पंचवटी स्थित एक होटल में सोमवार को जिले के मेडिकल व पैरा​मेडिकल स्टाफ को ट्रैनिंग दी गई। आरसीएचओ डॉ अशोक आदित्य ने कहा कि डिलेवरी के तुरंत बाद के दो घंटे सबसे इम्पोर्टेंट होते हैं। इसमें नवजात व प्रसूता पर पूरा आब्जर्वेशन रखना जरूरी है। उनके ब्लड प्रेशर, टेम्प्रेचर, ब्लडिंग आदि पर विशेष ध्यान देना चाहिए। बच्चा सही से मूव कर रहा है या नहीं। आरसीएचओ ने प्रसव पूर्व जांच और प्रसव के बाद शिशु के टीकाकरण आदि की जानकारी दी।

ट्रैनिंग के दौरान स्टाफ ने अपने स्वास्थ्य केन्द्र पर स्टाफ कम होने की बात उठाई, तो इस पर आरसीएचओ बोले, पद भरना सरकार का काम है लेकिन हमें काम में शत प्रतिशत देना चाहिए। ट्रैनिंग में जिलेभर के आयुष चिकित्सक, नर्सिंग ऑफिसर, काउंसलर व अर्ली इंटरवेंशन सेंटर के करीब 125 पार्टीसिपेंट्स थे।

डिलेवरी से जुड़ी छोटी-छोटी बातों पर ध्यान दें: शर्मा

जपाइगो एनजीओ के रोबिन शर्मा ने कहा कि डिजीटल थर्मामीटर से बच्चे का टेम्प्रेचर लेना चाहिए। डिलेवरी के बाद प्रसूता को जरूरी हो तो एंटीबॉयोटिक देनी चाहिए। हर सेंटर पर जीरो साइज मास्क होना आवश्यक है। अगर किसी के पास ये चीजें नहीं हैं तो तुरंत बताएं। कई बार डिलेवरी की छोटी-छोटी बातों का ध्यान नहीं देने से जच्चा-बच्चा दोनों को खतरा हो सकता है लेकिन हम थोड़ी समझदारी से उन्हें बचा सकते हैं।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal