बाँसवाड़ा-26 सितंबर 2023 की प्रमुख खबरे


बाँसवाड़ा-26 सितंबर 2023 की प्रमुख खबरे 

ज़िले से संबंधित खबरे पढ़े उदयपुर टाइम्स पर 

 
banswara
UT WhatsApp Channel Join Now

News- बांसवाड़ा रेंज की चुनावी तैयारियां, 600 क्रिटिकल बूथ, लगेंगे सीएपीएफ के सशस्त्र जवान

बांसवाड़ा 26, सितम्बर । बांसवाड़ा रेंज बनने के बाद तीन जिलों बांसवाड़ा, डूंगरपुर और प्रतापगढ़ में पहले विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण और निर्विघ्न संपन्न कराने के लिए पुलिस महकमे ने तैयारी शुरू कर दी है। संभाग में संभावित तीन हजार मतदान केंद्रों में साढ़े छह सौ से ज्यादा क्रिटिकल बूथ चिह्नित किए हैं, जिन पर सेंट्रल आर्मड पुलिस फोर्स (सीएपीएफ) के पांच-पांच सशस्त्र जवान तैनात होंगे।

बांसवाड़ा के पांच विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव के दौरान सुरक्षा और कानून व्यवस्था के लिए प्लानिंग कर ली गई है। आगे इसमें कुछ इजाफे के आसार हैं। विधानसभा चुनाव के लिए संभाग मुख्यालय से 58 कंपनियां बुलाना प्रस्तावित किया है। इनमें 21 बांसवाड़ा में लगाया जाना प्रस्तावित है। गौरतलब है कि सीएपीएफ की एक कंपनी में 70 से 80 सशस्त्र जवान होते हैं। जिले के मौजूदा जाप्ते के साथ बाहर से आने वाला पुलिस बल यानी दस हजार पुलिसकर्मी चुनाव और मतगणना जुटाए जाएंगे।

चार श्रेणियों में आने वाले वलनरेबल बूथ वे केंद्र माने जाते हैं, जहां किसी जाति विशेष की दबंगई चलती हो और पिछले चुनाव में कमजोर वर्ग के लोगों को मतदान से वंचित किया हो। साथ ही मतदान का प्रतिशत उन मतदान केंद्रों पर कमजोर वर्गों का कम तथा बहुल जाति के मतदाताओं का अधिक रहा हो। इसके अलावा दबंगों अथवा आपराधिक किस्म के लोगों द्वारा वोटरों को डराने- धमकाने की पुरानी घटना तथा आगे आशंका पर भी केंद्र वलनरेबल बूथ के रूप में चिन्हित किए हैं। इसके दीगर, जिन बूथों पर झगड़ा और कैप्चरिंग की वारदात होती रही हैं, या पिछले चुनाव में किसी एक प्रत्याशी के पक्ष में बहुत अधिक या बहुत कम वोट पड़े हों, जिन बूथों तक पहुंचने का रास्ता मुश्किल हो, वे क्रिटिकल माने गए हैं। इनकी सुरक्षा में सशस्त्र जाप्ता लगेगा। गौरतलब है कि 2018 में चुनाव कराने के लिए सीएपीएफ की बांसवाड़ा में पांच कंपनियां बुलाई गई। फिर मतगणना के समय जिले में कुल 20 कंपनियां तैनात की गईं।

इनका कहना है...

बांसवाड़ा रेंज के आईजीपी एस परिमला, ने कहा की रेंज स्तर से विधानसभा चुनाव की तैयारी जारी है। जाप्ते को लेकर प्लानिंग की है। सीएपीएफ की पांच कंपनियां मिल चुकी हैं। फिलहाल 20 और कंपनियों की मांग की गई है। 

सीमाओं पर होगी कड़ी चौकसी

चुनाव में शराब, नकदी बांटने-लाने जैसी अवैध गतिविधियों को रोकने के लिए पड़ोसी मध्यप्रदेश और गुजरात की सीमा पर पुलिस के 30 चैक पोस्ट लगेंगे। राज्य के भीतर जिलों की सरहदों पर भी 44 जगह पुलिस टीमें निगरानी में डटेंगी। उडऩदस्तों, स्टेटिक्स सर्विलांस टीमें, क्यूआरटी, ईवीएम गार्डस सहित सुरक्षा के लिहाज से अधिकारी - जवान तैनात लगेंगे।

इनके लिए भी जोड़ा गणित

हर विधानसभा क्षेत्र के पांच प्रत्याशी चुनाव मैदान में हो तो संभाग में दस प्रत्याशियों में प्रत्येक के साथ पांच का जाप्ता लगेगा। 11 ऑब्जर्वर के लिए 33, 24 घंटे नियंत्रण कक्ष संचालन के लिए तीन शिफ्ट में 90 और 33 वायरलेस ऑपरेटर्स लगाना प्रस्तावित है। संभाग के तीनों जिलों में 33 पुलिस पर्यवेक्षकीय अधिकारियों के साथ 132, 11 एरिया मजिस्ट्रेट के लिए 22, 11 विधानसभा क्षेत्र पर्यवेक्षक अधिकारियों 44 और विधानसभा क्षेत्र, जिला और रेंज स्तर 26 टीमों का कुल रिजर्व 465 जवानों का रिजर्व जाप्ता रहेगा।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal