पर्यटक यहां आए, वो सुनहरी यादों के साथ लौटे और दोबारा आएं- कलक्टर चेतन देवड़ा

पर्यटक यहां आए, वो सुनहरी यादों के साथ लौटे और दोबारा आएं- कलक्टर चेतन देवड़ा

जिला पर्यटन विकास समिति की बैठक में पर्यटक को लेकर चर्चा

 
पर्यटक यहां आए, वो सुनहरी यादों के साथ लौटे और दोबारा आएं- कलक्टर चेतन देवड़ा

लोक कला मण्डल पर्यटकों की संख्या के आधार पर रात्रि 10 बजे तक खोला जा सकता है एवं मोती मगरी रात्रि 9 बजे तक खोला जा सकता है।

पर्यटन के क्षेत्र में हमारा शहर उदयपुर विश्व पटल पर अपना विशिष्ट स्थान रखता है। यहां आने वाला हर पर्यटक हमारा मेहमान है और जो पर्यटक यहां आता है, वो सुनहरी यादें लेकर यहां से लौटे और दोबारा आएं। इसके लिए हम सभी को पर्यटन विकास के लिए सकारात्मक प्रयास करने होंगे। यह बात जिला कलक्टर चेतन देवड़ा ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला पर्यटन विकास समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही।

उदयपुर के सभी पर्यटन स्थलों के उचित रखरखाव के साथ वहां आवश्यक सुविधाओं के इंतजाम के निर्देश दिए। शहर के प्रमुख पर्यटक स्थलों तक जाने के लिए सुगम यातायात, उपयुक्त पार्किंग व्यवस्था, पर्यटक स्थलों पर जनसुविधाएं, शहर के प्रमुख पाइंट्स पर सुलभ कॉम्पलेक्स, पूछताछ केन्द्र आदि के संबंध में संबंधित विभागों को निर्देश दिए।

कलक्टर चेतन देवड़ा ने पर्यटन स्थलों पर कोविड से बचाव की जानकारी के साईनेज/फ्लेक्स लगाने, हेल्प डेस्क लगाने, दुर्घटना संभावित पर्यटक स्थल यथा बड़ी लेक, सज्जनगढ़, गणगौर घाट, मांजी का मंदिर, फतेहसागर पाल आदि पर नो-सेल्फी जोन घोषित कर साईनेज लगवाने, पर्यटक थाने की नफरी बढ़ाने एवं पर्यटकों से संबंधित समस्याओं पर कार्यवाही करने, पुराने शहर एवं पर्यटक स्थलों से आवारा पशुओं को हटवाने, सम्पूर्ण शहर एवं प्रमुख पर्यटन स्थलों पर सफाई व्यवस्था बनाए रखने, लपको के विरूद्ध अभियान चलाकर नियमित कार्यवाही करने आदि के संबंध में निर्देश प्रदान किए गए।

पर्यटक सहायता बूथ पर एनसीसी कैडेट्स की सेवाएं ले बैठक में कलक्टर ने निर्देश दिए कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर के प्रमुख पर्यटन स्थलों पर उचित स्थान पर आकर्षक पर्यटक सहायता बूथ स्थापित किये जाये तथा इनके संचालन में एनसीसी कैडेट्स की सेवाएं ली जाए।

बूथ पर पर्यटन प्रचार सामग्री, मास्क वितरण, फस्ट एड किट व्यवस्था तथा पर्यटक स्थल संबंधी जानकारी आदि उपलब्ध करवायी जाये। झीलों में साहसिक पर्यटन गतिविधियों के संचालन के निर्देश कलक्ट ने कहा कि उदयपुर शहर की प्रमुख झीले पिछोला व फतहसागर पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र है और यहां साहसिक पर्यटन की प्रबल सम्भावनाएं है। इसके लिए कलक्टर ने नगर विकास प्रन्यास को उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

सलूम्बर स्थित कंवरपदा में स्थित महलों का जीर्णोद्वार एवं विकास बैठक में सलूम्बर विधायक अमृतलाल मीणा के विधानसभा प्रश्न के क्रम में विधानसभा क्षेत्र सलूम्बर में हाडा रानी के कंवरपदा जोधनिवास, नगीनावाडी महलों के जीर्णोद्वार करने एवं विकसित करने के संबंध में भी चर्चा की गई। इस दिशा में कलक्टर ने संबंधित विभाग को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए।  रात्रिकालीन पर्यटन को लेकर हुई चर्चा बैठक में सुझाव दिए गये कि रात्रिकालीन पर्यटन के तहत पर्यटन स्थलों का समय बढाया जाना जिससे पर्यटकों की संख्या में वृद्धि के साथ आय में वृद्धि हो।

रात्रिकलीन पर्यटन स्थलों के तह्त वर्तमान में करणीमाता रोपवे, दूध तलाई रात्रि 9 बजे तक तथा फिश एक्वेरियम रात्रि 11 बजे तक संचालित हैं। अतिरिक्त विकल्पों में भारतीय लोक कला मण्डल पर्यटकों की संख्या के आधार पर रात्रि 10 बजे तक खोला जा सकता है एवं मोती मगरी रात्रि 9 बजे तक खोला जा सकता है। इस अवसर पर यूआईटी सचिव अरूण कुमार हसीजा ने यूआईटी की ओर से विभिन्न पर्यटक स्थलों पर किए गये नवाचारों एवं पर्यटन विकास को बढ़ावा देने हेतु आयोजित गतिविधियों के बारे में सदन को अवगत कराया। पर्यटन उपनिदेशक शिखा सक्सेना ने पर्यटन विकास के क्षेत्र में विभाग की ओर की किए गये कार्यों एवं प्रयासों के बारे में बताया। इस अवसर पर नगर निगम, पुलिस सहित होटल एसोशिएसन के पदाधिकारियों ने अपने-अपने सुझाव दिए।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal