लगभग 50 वर्षो बाद फतहसागर झील मानसून के शुरूआती दौर में लबालब

लगभग 50 वर्षो बाद फतहसागर झील मानसून के शुरूआती दौर में लबालब 

बिपरजॉय चक्रवात की मेहरबानी से सभी जलाशय लबालब

 
fatehsagar

झीलों की नगरी की शान फतेहसागर झील न सिर्फ पर्यटकों बल्कि स्थानीय लोगो की दिल की धड़कन है। यह झील न सिर्फ पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है बल्कि यह उदयपुर शहर के पेयजल का भी एक बड़ा स्त्रोत है।  साल भर यह शहर की प्यास बुझाता है।  बल्कि इस झील के किनारे सुबह शाम लोगो की तफरीह भी रहती है।  इस झील का आकर्षण तब चरम पर पहुँच जाता है जब यह छलकती है और इस पर झरना चलना शुरू होता है। तब इसका वैभव देखने लायक होता है। 

अमूमन वर्ष में यह झरना मानसून के आखिरी समय यानि अगस्त के आखिरी दिनों में तो कभी सितंबर और कभी अक्टूबर माह में छलकता है। लेकिन इस वर्ष यह जुलाई की शुरुआत में ही छलक गया। न सिर्फ फतहसागर बल्कि झीलों की नगरी के सभी प्रमुख जलाशय पिछोला झील, उदयसागर, मदार तालाब, टीडी डैम, नांदेश्वर चैनल सभी लबालब होकर जुलाई की शुरुआत में ही छलक गए। 

इस बारे म,में उदयपुर के मौसम विशेषज्ञ डॉ नरपत सिंह राठौड़ से उदयपुर टाइम्स की टीम ने बातचीत की तो उन्होंने बताया कि इस साल पूरे राजस्थान में काफी अच्छी बारिश हुई है। उदयपुर, जालौर, राजसमंद, डूंगरपुर, बांसवाड़ा और सिरोही में अरब सागर से उठे बिपरजॉय चक्रवात की वजह से बहुत अच्छी बारिश हुई और सभी प्रमुख जलाशय जिसमे बाँध, तालाब, तलैया में पानी आ गया और जो मानसून का पहला दौर वह भी अच्छा रहा और मानसून का दूसरा दौर जो कल खत्म हुआ वह भी बहुत अच्छा रहा। 

उन्होंने कहा कि पिछोला और फतेहसागर झील के केचमेंट एरिया में लगातार बहुत अच्छी बारिश हुई और वह पानी सही वक़्त पर जमा होकर झीलों में आ गया क्यूंकि बिपरजॉय चक्रवात की वजह से ऊपर के सभी जलाशय पहले से ही भरे हुए थे और इसी वजह से फतहसागर झील का जलस्तर भी बढ़ा और कई वर्षो के बाद फतहसागर झील मध्य जुलाई में ही ओवरफ्लो हो गई अन्यथा मानसून के आखिरी समय यानि अगस्त के आखिरी दिनों में तो कभी सितंबर और कभी अक्टूबर माह में भरती है। सिर्फ उदयपुर की झीले ही नहीं बल्कि राजसमंद ज़िले का प्रमुख जलाशय राजसमंद तालाब भी भर गया। 

आज से लगभग पचास वर्ष पूर्व भी ऐसा ही हुआ था जब मानसून के पहले दौर में ही सभी जलाशय लबालब हो गये थे। हालाँकि दो वर्ष पूर्व भी ताऊक्ते नामक तूफान की वजह से मई माह में काफी जलाशय लबालब हो गए थे। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal