रेलवे सुरक्षा बल और यूआईसी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित 18वीं विश्व सुरक्षा कांग्रेस में "जयपुर घोषणा" को अपनाया गया


रेलवे सुरक्षा बल और यूआईसी द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित 18वीं विश्व सुरक्षा कांग्रेस में "जयपुर घोषणा" को अपनाया गया

यूआईसी रेल परिवहन के अनुसंधान, विकास और संवर्धन के लिए रेलवे क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाला विश्वव्यापी पेशेवर संघ है
 
UIC Jaipur Declaration
UT WhatsApp Channel Join Now

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) और रेलवे के अंतर्राष्ट्रीय संघ (यूआईसी) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित 18वीं यूआईसी विश्व सुरक्षा कांग्रेस का समापन उपस्थित लोगों द्वारा जयपुर घोषणा को अपनाने के साथ हुआ। सम्मेलन में दुनिया भर के विशेषज्ञों, हितधारकों और प्रतिनिधियों को रेलवे सुरक्षा में नवीनतम विकास और सर्वोत्तम प्रथाओं पर चर्चा करने के लिए एक साथ लाया गया जिसका मुख्य विषय "रेलवे सुरक्षा रणनीति: प्रतिक्रियाएं और भविष्य के लिए दृष्टि" के विषय पर ध्यान केंद्रित करना रहा। 
 
सम्मेलन के अंतिम दिन प्रधानमंत्री के उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पंकज कुमार सिंह द्वारा समापन भाषण दिया गया। उन्होंने उभरते सुरक्षा खतरों के समाधान विकसित करने के लिए सभी हितधारकों को एक साथ लाने के लिए यूआईसी और उसके सुरक्षा मंच की भूमिका की सराहना की। उन्होंने बच्चों के बचाव के लिए ऑपरेशन ‘नन्हे फरिश्ते’ और तस्करों के चंगुल से महिलाओं और बच्चों को बचाने के लिए ऑपरेशन ‘एएएचटी’ (आहट) जैसी विभिन्न पहलों के माध्यम से भारत में यात्री सुरक्षा बढ़ाने की दिशा में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा निभाई गई असाधारण भूमिका पर प्रकाश डाला। उन्होंने रेलवे सुरक्षा के लिए व्यापक समाधान विकसित करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस 5जी, आईओटी जैसी नई तकनीकों को अपनाने का आह्वान किया, जिसमें बुनियादी ढांचे, संचालन और यात्री अनुभव सहित रेलवे प्रणाली के सभी पहलुओं को शामिल किया गया है।

आरपीएफ के महानिदेशक संजय चंदर, जिन्होंने जुलाई 2022 से जुलाई 2024 तक यूआईसी सुरक्षा मंच के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला है, उन्होने यूआईसी के लिए कार्रवाई योग्य एजेंडे की रूपरेखा "जयपुर घोषणा" पढ़ी, जो वैश्विक रेलवे संगठनों को अपने लंबे समय तक के सुरक्षा लक्ष्यों को हासिल करने में मदद कर सकते हैं। घोषणापत्र में 2025 तक एशिया-प्रशांत, लैटिन अमेरिका और अफ्रीकी क्षेत्रीय समूहों को पूरी तरह से सक्रिय करके, दुनिया भर में अधिक सुरक्षित और सुरक्षित रेल नेटवर्क प्रदान करने की दिशा में काम करने के लिए यूआईसी की प्रतिबद्धता पर प्रकाश डाला।

सम्मेलन का अंतिम दिन "यूआईसी सुरक्षा प्रभाग की गतिविधियों पर अद्यतन जानकारी" पर एक सत्र के साथ शुरू हुआ, जिसमें कार्यकारी समूहों पर एक प्रस्तुति, सुरक्षा हब पर कार्यशाला और सुरक्षा मंच के अगले चरण शामिल थे। सुश्री मैरी-हेलेन बोनेउ, सुरक्षा प्रभाग की प्रमुख, यूआईसी, और सुश्री डारिया कार्देल, वरिष्ठ सलाहकार, सुरक्षा प्रभाग, यूआईसी, ने प्रतिनिधियों को अद्यतन जानकारी प्रदान की। उन्होंने भविष्य में यूआईसी सुरक्षा मंच के लिए परिकल्पित महत्वपूर्ण भूमिका पर प्रकाश डाला और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा खतरों को दूर करने के लिए समाधान विकसित करने में रेलवे सुरक्षा बल की महत्वपूर्ण भूमिका पर बल दिया। पीकेपी रेलवे, पोलैंड की अध्यक्षता में क्राइसिस मैनेजमेंट वर्किंग ग्रुप का प्रतिनिधित्व श्री जेर्जी ट्रोचा द्वारा किया गया और रेलवे सुरक्षा बल, भारत की सह-अध्यक्षता का प्रतिनिधित्व आरपीएफ महानिरीक्षक मुनव्वर खुर्शीद द्वारा किया गया।

एक अभिनव दृष्टिकोण, जिसे पोलैंड की राजधानी वारसा में पिछली विश्व सुरक्षा कांग्रेस के बाद दोहराया गया, जिसमें सभी चार सत्रों में विचार-विमर्श किए गए मुद्दों पर एक सर्वेक्षण शामिल था। सर्वेक्षण उन प्रतिनिधियों के बीच लिया गया था, जिन्होंने जयपुर, भारत में कांग्रेस में भाग लिया था और अन्य जिन्होंने उपयोगकर्ताओं के अनुकूल “स्लाइडो” प्लेटफॉर्म पर आभासी रूप से ऑनलाइन भाग लिया था। प्रश्नावली में रेलवे स्टेशनों, ट्रेनों और रेलवे प्रणाली के अन्य महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों पर सुरक्षा के विभिन्न पहलुओं पर सभी प्रतिभागियों से विचार और राय मांगी गई।
 
रेलवे सुरक्षा बल की ओर से आरपीएफ महानिरीक्षक मुनव्वर खुर्शीद ने इस कार्यक्रम को सफल बनाने वाले सभी प्रतिनिधियों, उपस्थित लोगों, भागीदारों और स्थानीय प्रशासन का आभार व्यक्त किया।

18 वीं यूआईसी वर्ल्ड सिक्योरिटी कांग्रेस एक शानदार सफलता रही है, जो रेलवे सुरक्षा के क्षेत्र में अपने ज्ञान और विशेषज्ञता को साझा करने के लिए दुनिया भर के देशों के उद्योग विशेषज्ञों, नीति निर्माताओं और हितधारकों को एक साथ ला रही है।

यूआईसी के बारे में

1922 में स्थापित यूआईसी (यूनियन इंटरनेशनल डेस केमिन्स) या इंटरनेशनल यूनियन ऑफ रेलवे का मुख्यालय पेरिस में है। यह रेल परिवहन के अनुसंधान, विकास और संवर्धन के लिए रेलवे क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाला विश्वव्यापी पेशेवर संघ है। सदस्यों को यूआईसी कार्यकारी समूहों और सभाओं में सक्रिय भूमिका निभाने के लिए आमंत्रित किया जाता है जहां क्षेत्रीय/विश्वव्यापी मुद्दों पर रेलवे की स्थिति को आकार दिया जाता है। कार्य समूहों में सक्रिय भागीदारी एक समन्वित विश्वव्यापी स्तर पर राय देने और रेलवे क्षेत्र से लाभ उठाने का एक अनूठा अवसर है। यूआईसी के सुरक्षा मंच को व्यक्तियों, संपत्ति और प्रतिष्ठानों की सुरक्षा से संबंधित मामलों में वैश्विक रेल क्षेत्र की ओर से विश्लेषण और नीतिगत स्थिति विकसित और तैयार करने का अधिकार है।
    
रेलवे सुरक्षा बल (RPF) के बारे में

रेलवे सुरक्षा बल भारत में रेलवे सुरक्षा के क्षेत्र में प्रमुख सुरक्षा और कानून-प्रवर्तन संगठन है। वर्ष 1957 में एक संघीय बल के रूप में गठित, आरपीएफ रेलवे संपत्ति, यात्री और यात्री क्षेत्रों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है। आरपीएफ कर्मी राष्ट्र की सेवा करते हैं और इसकी टैगलाइन "सेवा ही संकल्प" - "सेवा की वचनबद्धता" को शामिल करते हुए अतिरिक्त कर्तव्यों को पूरा करते हैं। आरपीएफ अब रेलवे, उसके उपयोगकर्ताओं और उसके हितधारकों की गतिशील सुरक्षा जरूरतों से पूरी तरह अवगत है। आरपीएफ ग्राउंड-जीरो स्तर पर विशिष्ट जरूरतों के अनुकूल अभिनव समाधानों को भी लागू कर रहा है। आरपीएफ को अपने रैंकों में महिलाओं की सबसे बड़ी हिस्सेदारी के साथ भारत का संघीय बल होने का गौरव प्राप्त है। आरपीएफ के महानिदेशक संजय चंदर ने जुलाई 2022 से जुलाई 2024 तक अंतर्राष्ट्रीय यूआईसी सुरक्षा मंच के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला हुआ है।
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal