बलीचा डंपिंग यार्ड से परेशान लोगो ने निगम के खिलाफ किया प्रदर्शन

बलीचा डंपिंग यार्ड से परेशान लोगो ने निगम के खिलाफ किया प्रदर्शन

कचरे के धुएं से परेशान कॉलोनी वासियों ने रविवार को इसका मेन गेट ही बंद कर दिया

 
balicha dumping yard

उदयपुर 4 मार्च 2024। बलीचा स्थित डंपिंग यार्ड में कचरे के धुएं से परेशान कॉलोनी वासियों ने रविवार को इसका मेन गेट ही बंद कर दिया। इसके बाद लोगों ने निगम के खिलाफ प्रदर्शन किया। गुस्साए लोगों ने कचरा गाड़ियों को अंदर नहीं जाने दिया। एक के बाद एक करीब 15 से 20 कचरा भरकर लाए वाहन गेट के बाहर ही खड़े रहे।

विधायक पहुंचे, कलेक्टर को लगाया फोन

नगर निगम को जब इसका पता लगा ​तो स्वास्थ्य अधिकारी सत्यनारायण जोशी, फायर ब्रिगेड सीआई मांगीलाल डांगी सहित निगम एक्सईएन डंपिंग यार्ड में पहुंचे। गोवर्धन विलास थानाधिकारी अजय सिंह राव भी जाब्ते के साथ पहुंचे। इसी दौरान ग्रामीण विधायक फूल सिंह मीणा भी डंपिंग यार्ड आ गए।

विधायक ने निगम अधिकारियों से कहा कि यहां कचरा क्यों जल रहा है इस पर पाबंदी क्यों नहीं लगाई जा रही। विधायक फूल सिंह ने कलेक्टर अरविंद पोसवाल को फोन करके पूरी समस्या के बारे में बताया और इसका समाधान कराने की बात कही। करीब 4 घंटे तक लोग डंपिंग यार्ड का गेट बंद कर धुआं बंद करने की मांग पर अड़े रहे।

निगम अफसरों को बोले विधायक बोले, 15 दिन में समाधान चाहिए

विधायक फूल सिंह ने निगम अफसरों को कहा कि मुझे 15 दिन में इसका समाधान चाहिए। यहां के लोग कई बार मुझे इसकी शिकायत कर चुके हैं। क्षेत्रवासियों ने भी 15 दिन में समाधान नहीं होने पर वापस गेट बंद कर कचरा नहीं डालने की चेतावनी दी। इसके बाद गेट खोला गया और कचरा गाड़ियों को अंदर जाने दिया गया।

क्षेत्रवासी बोले, धूएं से कॉलोनी में बच्चे-बुजुर्ग हो रहे हैं बीमार

क्षेत्रवासी आनंद यादव, जितेन्द्र सालवी ने बताया कि डंपिंग यार्ड से महज 100 मीटर दूरी पर पंडित दीनदयाल नगर है जहां करीब 300 से ज्यादा परिवार रहते हैं। वहां लोगों का रहना मुश्किल हो गया है। डंपिंग यार्ड में रोज जलने वाले कचरे का धुआं कॉलोनी में आता है। इससे खासकर बच्चे और बुजुर्ग बीमार हो रहे हैं। इससे पहले कई बार नगर निगम कमिश्नर और कलेक्टर को समस्या बता चुके हैं लेकिन हर बार आश्वासन दिया जाता है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal