झीलों की नगरी में पर्यटको की दस्तक बन सकता तीसरी लहर का कारण

झीलों की नगरी में पर्यटको की दस्तक बन सकता तीसरी लहर का कारण

संभावित तीसरी लहर से पूर्व सजगता जरुरी - CMHO डॉ दिनेश खराड़ी

 
Udaipur

जयपुर, जोधपुर जैसे बड़े शहरों में पिछले सप्ताह कोरोना के मामलों में कमी लेकिन उदयपुर में मरीज कम होने के बजाए बढ़े 

झीलों की नगरी उदयपुर में मानसून का दौर शुरु होते है पर्यटकों का पगफेरा फिर से बढ़ना शुरु हो गया है। लेकिन पर्यटन बढ़ने के साथ कोरोना के केस में भी बढ़ोतरी हो रही है। राजस्थान के सभी जिलों में देखा जाए तो कोरोना के मामले कम ही नजर आ रहे है। लेकिन झीलों की नगरी उदयपुर में यहां मामलों में धीरे-धीरे बढ़ोतरी हो रही है। यदि हम बात करें 15 जुलाई से 2 अगस्त तक की तो कुल 22330 सैंपल लिए गए। केवल 17 दिनों में ही 106 लोग पॉजिटिव मिले है। वहीं जिस दिन सेंम्पलिंग कम की गई है वहां पॉजिटिव कम देखने को मिले है।

जयपुर, जोधपुर जैसे बड़े शहरों में पिछले सप्ताह कोरोना के मामलों में कमी आई है। उदयपुर में मरीज कम होने के बजाए बढ़ रहे हैं। पिछले सप्ताह की तुलना में इस सप्ताह 36 फीसदी मरीज बढ़े हैं। कोरोना की दूसरी लहर के केस जून से कम होने लगे। जून से ही प्रदेश में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू हुई। अब 90 फीसदी गतिविधियां पूरी क्षमता के साथ चल रही है। प्रदेश में बाजार, मॉल, मल्टीप्लेक्स, धार्मिक स्थल, पर्यटन स्थल सहित तमाम गतिविधियां शुरू हो गई हैं। लोग फिर से लापरवाही बरतने लगे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग तो दूर की बात मुंह पर मास्क भी नहीं पहन रहे।

वहीं, CMHO डॉ दिनेश खराड़ी ने बताया कि राज्य में मार्च के अंतिम सप्ताह में कोरोना की दूसरी लहर ने दस्तक दी थी। सबसे पहले सीमावर्ती जिलों में इसका प्रभाव देखने को मिला था। डूंगरपुर के सागवाड़ा सहित आस-पास के क्षेत्रों में धीरे-धीरे केस में अचानक बढ़ोतरी होने लगी थी।  इसके पीछे का कारण प्रवासी राजस्थानियों का होली के समय महाराष्ट्र, गुजरात सहित अन्य दक्षिण राज्यों से आना माना जा रहा था। यहीं से दूसरी लहर की शुरूआत हो गई थी। अब तीसरी लहर की आने की आशंका जताई जा रही है। उदयपुर में मानसून का मौसम शुरु हो गया है।

झीलों की नगरी उदयपुर में पर्यटकों का आना शुरु हो गया है। कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा साधन मास्क है। लोग सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं कर पा रहे तो कम से कम मास्क तो लगाना बहुत ही जरूरी है। कोरोना ऐसा वायरस है जिसका वैरिएंट बार-बार बदल रहा है। अगर तीसरी लहर कोई ऐसा वैरिएट आ गया, जो शरीर में बनी इम्यूनिटी को भी ब्रेक कर दे तो यह परेशानी बन सकता है।

हिमाचल, उत्तराखंड जाने वाले पर्यटक अब कर रहे लेकसिटी का रुख

मानसून सीजन में पर्यटकों का आना शुरु हो गया है। वहीं जहां लोग हिमाचल, उत्तराखंड जाने वाले पर्यटक अब लेकसिटी का रुख कर रहे है। शहर में 20 प्रतिशत पर्यटक दिल्ली और उत्तर प्रदेश के है। वहीं यह देखने को मिल रहा है कि वीकेंड पर शहर के होटलों-रिसोट्र्स में 100 प्रतिशत बुकिंग चल रही है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal