Rajsamand-19 जून 2024 की प्रमुख खबरे


Rajsamand-19 जून 2024 की प्रमुख खबरे 

ज़िले से संबंधित खबरे पढ़े Udaipur Times पर

 
Rajsamand
UT WhatsApp Channel Join Now

News-विशेष कैंप लगाकर स्कूलों की बाल वाहिनियों के वाहन चालकों की आँखों का परीक्षण कराएं :कलक्टर

राजसमंद 19 जून। जिला कलक्टर डॉ भंवर लाल ने बुधवार को जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक लेकर सड़क हादसों को रोकने के लिए हर संभव प्रयास करने के निर्देश दिए। बैठक में एडिशनल एसपी महेंद्र पारीक, जिला परिवहन अधिकारी डॉ कल्पना शर्मा, पीडब्ल्यूडी एसई अमर चंद बाकोलिया, एसएमई अनिल खमेसरा, एनएचएआई से जयनंदन प्रभारी श्रीनाथ टोलनाका, एनएचएआई के अन्य अधिकारी आदि उपस्थित रहे।

कलक्टर ने गत पाँच साल में जिले में विभिन्न स्थानों पर हुई सड़क दुर्घटनाओं की विस्तार से जानकारी लेकर समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिले में कुछ स्पॉट ऐसे हैं जहां गत वर्षों में बार-बार सड़क दुर्घटनाएं हुई है, इन घटनाओं को रोकने के लिए अधिकारियों से अब तक क्या प्रयास किए। उन्होंने कहा कि जहां भी आवश्यक सुधार करने हों वहाँ सुधार करें ताकि सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सके। उन्होंने कहा कि सड़क मरम्मत या सुधार संबंधी कोई काम बीच में अधूरा न छोड़ें और त्वरित गति से पूरा करें जिससे जनता को परेशानी न हो। उन्होंने कहा कि हाइवे पर कहीं भी अतिक्रमण की शिकायतें न आए, अगर कहीं अतिक्रमण से कोई हादसा होता है तो संबंधित एईएन, जेईएन की जिम्मेदारी तय की जाएगी। कलक्टर ने बैठक में विभिन्न राजमार्गों पर जारी मरम्मत कार्यों की भी जानकारी ली। साथ ही आगामी वर्षा ऋतु को देखते हुए सड़कों पर गड्ढे होने पर तुरंत रिपेरींग कर आमजन को राहत प्रदान करने के निर्देश दिए।  

कलक्टर ने राजमार्गों पर अवैध पार्किंग के कारण होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठाने के भी निर्देश दिए। इसके तहत अवैध पार्किंग करने वाले वाहनों पर जुर्माना लगाना, वाहन जब्त करना और राजमार्गों पर नियमित निगरानी की बात कही। कलक्टर ने सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ड्राइवरों का नियमित स्वास्थ्य परीक्षण और आंखों का परीक्षण कराने के निर्देश दिए। कलक्टर ने कहा कि स्कूल बसों और अन्य बाल वाहिनी वाहनों की नियमित चेकिंग की जाए ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ये वाहन सुरक्षित और निर्धारित मानकों के अनुसार चल रहे हैं। इसमें वाहनों की फिटनेस, ड्राइवर के लाइसेंस, वाहनों में सुरक्षा उपकरणों की उपलब्धता आदि की जांच शामिल है। नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहनों के खिलाफ सख्त प्रवर्तन कार्यवाही की जाएगी।

कलक्टर ने जिले में अलग-अलग ब्लैक स्पॉट पर हुई दुर्घटना के कारणों की जांच करने और भविष्य में ऐसी दुर्घटनाओं को रोकने के उपाय करने को लेकर विस्तृत निर्देश दिए। इसमें सड़क के खतरनाक मोड़ों की पहचान, उचित संकेतक लगाना और मार्ग में सुधार कार्य के निर्देश दिए। साथ ही दुर्घटनाओं की त्वरित जानकारी और बचाव कार्यों को सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी आपातकालीन प्रतिक्रिया प्रणाली विकसित करने की बात कही।

सड़क पर दुर्घटनाग्रस्त पशुओं के मामले में तत्काल सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए। कलक्टर ने कहा कि जिले में जितनी भी पशु एंबुलेंस है उनकी एक सूची तैयार कर भेजें ताकि ये सूची सभी पुलिस थानों तक भेजी जा सके और जरूरत पड़ने पर घायल पशु की तत्काल मदद की जा सके। उन्होंने सड़क सुरक्षा गतिविधियों को प्रभावी बनाने के लिए विभिन्न उपायों को लागू करने की आवश्यकता पर जोर दिया गया। इसमें सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान चलाना, जनता को यातायात नियमों के प्रति संवेदनशील बनाना और सुरक्षित ड्राइविंग के महत्व को समझाने के निर्देश दिए। 

टास्क फोर्स की बैठक लेकर कलक्टर ने की अवैध खनन रोकथाम की समीक्षा

राजसमंद 19 जून। जिला कलक्ट्रेट सभागार में बुधवार को जिला कलक्टर डॉ भंवर लाल और एसपी मनीष त्रिपाठी ने अवैध खनन की रोकथाम के लिए जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक लेकर अवैध खनन, निर्गमन, भंडारण पर कार्रवाई की समीक्षा करते हुए दिशा-निर्देश दिए। बैठक में एडीएम नरेश बुनकर, एडिशनल एसपी महेंद्र पारीक, एसएमई अनिल खमेसरा, एमई जिनेश हुमड़, एमई ललित बाछरा, सभी उपखंड अधिकारी, तहसीलदार, सहायक कलक्टर नाथद्वारा, डीटीओ डॉ कल्पना शर्मा, एएमई आमेट, एएमई राजसमंद आदि उपस्थित रहे। एसपी मनीष त्रिपाठी ने कहा कि अवैध खनन पर रोकथाम के लिए पुलिस विभाग द्वारा हर संभव सहयोग प्रदान किया जाएगा।

कलक्टर ने अवैध खनन को रोकने के लिए सख्त निगरानी और निरीक्षण के निर्देश दिए। इसके लिए नियमित रूप से निरीक्षण दल गठित कर संदिग्ध क्षेत्रों में औचक निरीक्षण कर खनन गतिविधियों की विस्तृत जांच और अवैध खनन पाए जाने पर तुरंत कार्रवाई के निर्देश दिए। कलक्टर ने अवैध खनन को लेकर अब तक हुई कार्रवाई पर प्रेजेंटेशन देखा। जिन क्षेत्रों में अवैध खनन पर कम कार्रवाई हुई है, वहाँ के अधिकारियों को अधिक सतर्क रहने और कार्रवाई बढ़ाने के निर्देश दिए। कलक्टर ने अवैध खनन की रोकथाम के लिए विभिन्न विभागों के बीच समन्वय और सहयोग पर जोर दिया। उन्होंने खान एवं भू विज्ञान विभाग, पुलिस विभाग, वन विभाग, परिवहन और अन्य संबंधित विभागों को समन्वय से कार्य करते हुए संयुक्त कार्ययोजना तैयार कर अवैध खनन पर प्रभावी ढंग से रोक लगाने के निर्देश दिए। कलक्टर ने कहा कि अवैध खनन की घटनाओं की रिपोर्टिंग और निगरानी के लिए एक मजबूत तंत्र विकसित करें और सूचना मिलने पर त्वरित कार्रवाई करें।

News-गिलूंड में होने वाली रात्रि चौपाल स्थगित

राजसमंद 19 जून। गुरुवार को रेलमगरा तहसील के गाँव गिलूंड में होने वाली रात्रि चौपाल को स्थगित किया गया है। यहाँ वार्ड पंच और उप सरपंच के चुनाव होने से आचार संहिता प्रभावी होने से रात्रि चौपाल को स्थगित किया गया है। एडीएम नरेश बुनकर ने इस संबंध में आदेश जारी किया है।

News-पीएम-किसान योजना की 17वीं किश्त जारी

राजसमंद। पीएम-किसान की 17वीं किश्त का हस्तान्तरण माननीय प्रधानमंत्री द्वारा मंगलवार को उत्तर प्रदेश के वाराणसी क्षेत्र में आयोजित होने वाले किसान सम्मेलन में किया गया, जिसके तहत देशभर के पात्र किसानों को कुल 20,000 करोड़ रुपए से अधिक की राशि सीधे उनके खातों में डीबीटी के माध्यम से प्रदान की गई। इसमें राज्य से लगभग 65 लाख किसानों को 1382 करोड़ की राशि 17वीं किश्त के रूप में उनके बैंक में स्थानांतरित हुई।

वाराणसी में आयोजित समारोह से जिले के किसान भी कृषि विज्ञान केंद्र में वर्चुअल जुड़े। जिला स्तरीय कार्यक्रम में मान सिंह बारहठ मुख्य अतिथि, जवाहर जाट विशिष्ट अतिथि, जिला परिषद सीईओ हनुमान सिंह राठौड़ विशिष्ठ अतिथि रहे। राजीविका डीपीएम सुमन अजमेरा, कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक कैलाश चंद्र मेघवंशी, कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी डॉ पी सी रैगर, मृदा वैज्ञानिक डॉ मणीलाल सहित अन्य उपस्थित रहे।

मेघवंशी ने बताया कि पीएम-किसान भारत सरकार की एक प्रमुख योजना है जिसका शुभारंभ माननीय प्रधानमंत्री महोदय द्वारा पात्र भूमि-धारक किसानों को प्रतिवर्ष 6000 रुपए की वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए फरवरी, 2019 में किया गया। अब तक इस योजना के अन्तर्गत देश के 11 करोड़ से अधिक किसान परिवारों को 3.04 लाख करोड़ से रुपये अधिक धनराशि का लाभ प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण डीबीटी के माध्यम से सीधे उनके आधार आधारित बैंक खातों में स्थानान्तरित किया जा चुका है। कार्यक्रम में कृषि, मत्स्य पालन, पशुपालन, सहकारिता विभाग एवं अन्य विभाग के जिला स्तरीय एवं ब्लाक स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे। कृषि विज्ञान केंद्र में पहुंचे किसानों को ज्वार के किट भी वितरित किए गए। राजीविका की कृषि सखियों को प्रमाण पत्र दिए गए। 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal