शिल्पग्राम उत्सव 2023 में गुजरात दिवस पर रही गरबों और अन्य नृत्यों की धूम

शिल्पग्राम उत्सव 2023 में गुजरात दिवस पर रही गरबों और अन्य नृत्यों की धूम

आनंदम’ की भावपूर्ण प्रस्तुति ने शिल्पग्राम की फिजा को बनाया शास्त्रीय 

 
Shilpgram Utsav 2023

उदयपुर 25 दिसंबर 2023 । यहां ‘शिल्पग्राम उत्सव’ के चौथे दिन  रविवार को मुक्ताकाशी मंच विश्व प्रसिद्ध भरतनाट्यम नृत्यांगना और उनके सिद्धहस्त नृत्यांगनाओं के ग्रुप की शानदार प्रस्तुति का साक्षी बना। महज सात साल की उम्र में भरतनाट्यम का कड़ा प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली प्रिया वेंकटरमन ने न सिर्फ अपनी, बल्कि पूरे ग्रुप की परफोरमेंस को नई ऊंचाइयां प्रदान कर नृत्यांगना के रूप में अपने कद का अहसास करा दिया।

Shilpgram Utsav 2023

नृत्य दीक्षा संस्था के इस क्लासिकल डांसर्स ग्रुप ने प्रिया के नेतृत्व और निर्देशन में ‘आनंदम’ के अंतर्गत जब ‘आनंद नटम‌‌ प्रकाशन’ में जब नटराज शिव की आराधना की तो सुर, संगीत और स्तुति ने मानो शिव को साक्षात साकार होकर आशीर्वाद देने बुला दिया। इस नृत्य की लयकारी, ताल और नृत्य की महारत के मेल ने क्लासिकल के जानकार दर्शकों को तो रिझाया ही, शास्त्रीय नृत्यों की समझ नहीं रखने वाल सामयीन को भी दांतों तले अंगुली दबाने और वाह-वाह करने को विवश कर दिया।

Shilpgram Utsav 2023

जब प्रिया सहित साथी नृत्यांगनाओं ने ‘तिल्लाना’ यानी 'तराना' की परफोरमेंस दी तो कला प्रेमी उसकी लयबद्धता और सुपर संगत के कायल हो गए। इस शुद्ध भरतनाट्यम में प्रिया के साथ ही तमाम डांसर्स का बेजोड़ सामंजस्य और भावभंगिमाओं ने ऐसा समां बांधा कि दर्शकों ने तालियों की गड़गड़ाहट से आसमान गूंजा दिया।

shilpgram utsav 2023

मुथ्थू स्वामी दिक्सितार की संगीतबद्ध इन दोनों प्रस्तुतियों में भरतनाट्यम के प्रमुख तत्व नृत्य, संगीत और नाट्य का अनूठा और शानदार संयोजन इसे उदयपुर और मरुधरा के लिए अविस्मरणीय बना गया।

Shilpgram Utsav 2023

प्रिया के साथ रहीं ये नृत्यांगनाएं-

राधिका सेन गुप्ता, सिरिशा सरकार, श्रेया अभिराम शेखर, मधिनी सुब्रह्मण्यम और आस्था रंगा।

क्या है भरतनाट्यम

Shilpgram Utsav 2023

आमतौर पर यह मिथ है कि भरतनाट्यम को ‘भारत नाट्यम’ यानी भारत की नृत्य नाटिका है। ऐसा कतई नहीं है। दरअसल, भरतनाट्यम में एक-एक शब्द का गहरा अर्थ है, इसमें भ- भाव या अभिव्यक्ति, राग-संगीत, ताल-लयबद्ध पैटर्न और नाट्यम का अर्थ नृत्य होता है। भरतनाट्यम् या सधिर अट्टम मुख्य रूप से दक्षिण भारत की शास्त्रीय नृत्य शैली है। इसके जनक राजा राजेन्द्र चोळा हैं, जो तमिलनाडु में लगभग 1000 ईसा पूर्व में शासन करते थे।

shilpgram utsav 2023

मोहिनी अट्टम में जया के यशोधरा रूप ने किया अभिभूत

मोहिनी अट्टम की विश्व प्रसिद्ध नृत्यांगना जया प्रभा मेनन ने रविवार को जब सोलो परफॉर्मेंस दी तो यहां शिल्पग्राम उत्सव के दौरान मुक्ताकाशी मंच के हजारों दर्शकों के जेहन में महात्मा गौतम बुद्ध की कहानी उबर आई। अनिध्य रूप-सौंदर्य की प्रतिमूर्ति बनीं जया ने इस नृत्य में बुद्ध की पत्नी यशोधरा की भावनाओं को इतनी खूबसूरती से अपने बेजोड़ अभिनय से उकेरा मानो स्वयं यशोधरा मंच पर उतर आई हो। केरल के इस देवताओं को समर्पित शास्त्रीय नृत्य की गुरु जया प्रभा मेनन की भाव भंगिमाओं, लय और ताल के साथ सुंदर सामंजस्य ने दर्शकों को अभिभूत कर दिया। सबसे खास बात यह रही कि उन्होंने यह नृत्य सजीव गायन यानी लाइव सॉन्ग पर किया। इस प्रस्तुति से पूर्व गणेश वंदना की गई।

shilpgram Utsav 2023

इस परफोरमेंस के दौरान जया और उनके ग्रुप की अन्य नृत्यांगनाओं ने गणेंश वंदन और पंदाट्टम में गीत, संगीत और स्टेप्स की शानदार संगत का प्रदर्शन कर खूब वाहवाही लूटी।

क्या है मोहिनीअट्टम नृत्य

मोहिनीअट्टम नृत्य शब्द मोहिनी के नाम से बना है। मोहिनी रूप भगवान विष्णु ने बुरी शक्तियों यानी राक्षसों और दैत्यों पर अच्छी शक्तियों की जीत के लिए धारण किया था। वर्तमान में मोहिनीअट्टम केरल की एक एकल नृत्य परंपरा है, जिसे प्रकृति नामक एक युवती ने, नृत्य और संगीत के माध्यम से स्वयं को मंदिर के देवता को समर्पित करने के लिए किया था। इसका एक रूप यह मंदिर की परिसीमा के अंदर, देवदासियों की परंपरा से जुड़कर, मंदिर अनुष्ठान के रूप में भी विकसित हुआ।

केरल की ही नृत्य नाटिका कथकली ने साकार की महाभारत

उदयपुर। महाभारत के महायुद्ध को नहीं होने देने के उदृेश्य से श्रीकृष्ण के पांडवों के दूत बनकर कौरवों के पास जाने के शांति मिशन की असफलता के बाद, कौरवों-पांडवों की सेनाएं कुरुक्षेत्र में आमने सामने खड़ी हैं। सामने सभी बड़ों और गुरु को देख मोहपाश में फंसा अर्जुन श्रीकृष्ण से पूछता है कि अपने ही रिश्तेदारों को मारकर युद्ध जीतने से क्या लाभ! सोचता है लौट जाएं।

Shilpgram Utsav 2023

श्रीकृष्ण अर्जुन को बताते हैं कि एक क्षत्रिय के रूप में उसे धर्म के लिए युद्ध करना है। मौत और हत्या को सही परिप्रेक्ष्य में समझना होगा। आत्मा मरती नहीं है, यह केवल शरीर को छोड़ती है, ठीक उसी तरह से जैसे कि नए कपड़े पुराने को छोड़कर पहने जाते हैं। अर्जुन में साहस और आत्मविश्वास भरने के लिए, भगवान कृष्ण अपना विराट रूप दिखाते हैं।अर्जुन देखता है कि भगवान के विराट रूप का न आरंभ, ना अंत है। वह सत्य को पूर्ण मात्रा में देखता है। इस सत्य के साक्षात दर्शन के बाद अर्जुन मोह मुक्त हो युद्ध के लिए तैयार हो जाता है। नई दिल्ली के इंटरनेशनल सेंटर फॉर कथकली की नृत्य नाटिका 'गीतोपदेशम' की प्रस्तुति का में यह दृश्य यहां शिल्पग्राम उत्सव के दौरान मुक्ताकाशी मंच पर महाभारत कथा को जीवंत कर गया। यह वृहद आयोजन पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र की ओर से किया जा रहा है।

Shilpgram utsav 2023

रौद्र भीम ने दुशासन के लहू से धोए द्रौपदी के केश

इसी नृत्य नाटिक के अंतर्गत द्रौपदी की प्रतिज्ञा पूरी करने के लिए श्रीकृष्ण से विशेष शक्तियां प्राप्त कर  रौद्र भीम के रूप में कुरुक्षेत्र में दुशासन को मारने के बाद उसका लहू पीता है और द्रौपदी को वहीं बुलाकर उसके केश उस खून से धोकर उसके केश बांधता है। इतने भयंकर अमानवीय प्रतिशोध के लिए भीम कृष्ण से क्षमा मांगता है। ज्ञीकृष्ण उसे क्षमा कर आशीर्वाद देते हैं।

Shilpgram Utsav 2023

सामूहिक शास्त्रीय पेशकश ने मोहा

अंत में कथकली, भरतनाट्यम और मोहिनी अट्टम के डांसर्स ने मिलकर एक सामूहिक नृत्य पेश किया। इसमें तीनों अलग विधाओं के नृत्य होने के बावजूद जो बेहतरीन तालमेल देखा गया, वह काकाबिले तारीफ रहा। इस प्रस्तुति के बाद तीनों दलों को पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, उदयपुर की निदेशक किरण सोनी गुप्ता और अन्य अतिथियों ने पोर्टफोलियो दे शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया।

गुजरात दिवस पर रही गरबों और अन्य नृत्यों की धूम

shilpgram Utsav 2023

रविवार को मंच पर गुजरात दिवस गरबों की धुनों और शानदार नृत्यों के साथ मनाया गया। इस दौरान गुजराती गरबा-डांडिया के विभिन्न रूपों ने जहां दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। इस गुजराती लोक संस्कृति के साकार करती प्रस्तुति के दौरान प्राचीन यानी परंपरागत गरबा, झालावारी गरबा, डांग नृत्य, अर्वाचीन गरबा, ढाल तलवार रास, सिद्धि धमाल और जय जय गरवी गुजरात के सुपर फ्यूजन ने दर्शकों का दिल जीत लिया। अंत में सभी कलाकारों को पोर्टफोलिया देने के साथ ही शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।

Shilpgram Utsav 2023

फड़ महिला कार्यशाला

शिल्पग्राम के मुक्ताकाशी रंगमंच के पास फड़ महिला कार्यशाला में 30 महिलाएं भाग लेकर अपनी कला का प्रदर्शन करने के साथ ही उसमें निखार ला रही हैं। इन्हें छीतरमल जोशी और हेमंत जोशी प्रशिक्षण दे रहे हैं।

Shilpgram Utsav 2023

 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal