पिछोला लबालब, रात 11 बजे खोले जाएंगे स्वरूप सागर के गेट

पिछोला लबालब, रात 11 बजे खोले जाएंगे स्वरूप सागर के गेट

सीसारमा साढ़े छह फ़ीट, रात को बढ सकता है वेग

 
Swaroop Sagar
उदयपुर में सुबह 8 बजे से रात 8.30 बजे तक बीते 12 घन्टो में ढाई इंच बारिश

उदयपुर, 12 अगस्त। लेकसिटी में कल से लेकर आज रात तक मानसून की मेहरबानी रही है।  सुबह से दोपहर में खण्ड वर्षा के रूप में बारिश का दौर शुरू हुआ जो कई जगहों पर मूसलाधार बारिश के रूप में बरसा। शाम होते-होते यह मूसलाधार बारिश पूरे शहर को भिगोने लगी और समाचार लिखे जाने तक बारिश का दौर जारी है। लेकसिटी में ढाई इंच बारिश हुई है। 

इधर, पीछोला झील का जलस्तर बढकर दस फ़ीट के पार हो गया है। पूर्ण भराव क्षमता 11 फ़ीट से अब यह आधा फ़ीट खाली है। संभवत: पीछोला के शनिवार सुबह या अभी देर रात को छलकने के साथ ही स्वरूपसागर पर चादर चल सकती है। वहीं आवक को देखते हुए काले किवाड खोलने पर फैसला हो सकता है। 

सीसारमा नदी का वेग सुबह 3 फ़ीट 6 इंच था जो शाम को ढाई फ़ीट हो गया लेकिन शाम को हो रही बारिश के चलते इसका वेग पुन: बढकर साढ़े छह फ़ीट हो गया और रात को इसका वेग फिर बढ सकता है।

सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता (गिर्वा) निर्मल मेघवाल ने बताया कि पीछोला में सीसारमा नदी से अच्छी आवक हो रही है जिसे देखते हुए आज लिंक नहर के गेट बंद कर दिए गए है। वहीं 11 फ़ीट क्षमता वाली पीछोला झील के शनिवार को लबालब होने के बाद स्वरूपसागर पर संभवत: चादर चल सकती है। स्वरूपसागर के गेट खोलने पर निर्णय आवक को देखते हुए लिया जाएगा। 

वहीं मदार नहर से आवक बनी रही तो एक या दो दिन में फ़तहसागर पर भी चादर चलेगी।  इधर, आयड नदी में भी आज पानी का प्रवाह देखा गया। 24 फ़ीट क्षमता वाली उदयसागर झील भी 22 फ़ीट भर गई है। यह अब दो फ़ीट खाली है। वहीं 9 फ़ीट क्षमता वाला गोवर्धन सागर बांध भी आज छलक गया। 

सिंचाई विभाग के बाढ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के अनुसार प्रात: 8 बजे समाप्त बीते 24 घंटों में देवास स्टेज प्रथम पर 35 मिमी, मदार 10, नाई 43, उदयसागर 12, वल्लभनगर 19, बागोलिया में 15 मिमी वर्षा रिकॉर्ड की गई। वहीं उदयपुर में सुबह 8 बजे तक 11 मिमी व सुबह 8 बजे से रात 8.30 बजे तक बीते 12 घन्टो में ढाई इंच (66 मिमी) (3 इंच) बारिश हुई।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal