गर्भवती महिलाओ के लिए भी अब लग सकते है वैक्सीन

गर्भवती महिलाओ के लिए भी अब लग सकते है वैक्सीन 

फ़िलहाल राजस्थान में गर्भवती महिलाओ के टीके की व्यवस्था शुरू नहीं हुई है।

 
vaccination
स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को टीके लगने शुरू हो गए है।

कोरोना का प्रभाव गर्भवती महिलाओ के लिए खतरनाक था जिनमे गर्भवती महिलाओ के लिए खतरा ज़्यादा बना रहता है इसी समस्याओ के निपटने के लिए दिल्ली में हुई इस बैठक में स्वास्थय मंत्रालय ले सचिव राजेश भूषण, बायोटेक्नोलॉजी विभाग सचिव डॉ रेणु स्वरूप, डिपार्टमेंट ऑफ़ हेल्थ रिसर्च एंड डीजी आईसीएमआर के डॉ बिक्रम भार्गव, डायरेक्टर जर्नल ऑफ़ हेल्थ सर्विसेज के डॉ सुनील कुमार एनएचएम के मिशन डायरेक्टर व अतिरिक्त सचिव वंदना गुरनानी, निदेश नेशनल सेटर ऑफ डिजिज कंट्रोल के डॉ सुजीत सिंह नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के निदेशक डॉ प्रिया अब्राहम सहित कई अधिकारी शामिल हुई थे।  

इस बैठक के दौरान (एनटीएजीआई) ने 16वी बैठक की एडवाइजरी ने कहा की गर्भवती महिलाएं एंटी कोरोना के ठीके लगा सकती है। साथ 16 वीं एनटीएजीआई की बैठक में एडवाइजरी ने कहा की एंटीनेटल केयर के लिए आने वाली गर्भवतियों को कोरोना के खतरे के बारे में समझाया जाए साथ ही एंटी कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड व कोवैक्सीन को जानकारी देनी होगी ताकि गर्भवती महिलाये इस टीकाकरण से कोरोना के खतरे से बचा जा सके।    

गर्भवती महिलाये गर्भधारण के नौ माह के दौरान कभी भी टिका लगवा सकती है शिशु को दुग्धपान करवाने वाली महिला प्रसव के बाद टीकाकरण करवा सकती है। गर्भवती महिलाये इस टीके को नजदीकी टीकाकरण केंद्र पर जाकर टीका लगवा सकती है। फ़िलहाल राजस्थान में गर्भवती महिलाओ के टीके की व्यवस्था शुरू नहीं हुई है। 

गर्भवती महिलाओ को कभी भी टीके लगाए जा सकते है टीके पूरी तरफ से सुरक्षित है इसमें कोई परेशानी नहीं है। इसे लेकर हम तैयारी कर रहे है। - डॉ अशोक आदित्य आरसीएचओ उदयपुर

फोक्सी (फेडरशन ऑफ़ गायनोलॉजी एंड ऑब्स्ट्रेटिक्स ) ने पहले ही ये स्पष्ट कर दिया था की दुग्ध पान करवाने वाली महिला व गर्भवती महिला को ये टीके लग सकते है। अमेरिका में अब तक करीब 20 हज़ार गर्भवती महिलाओं को टीके लग चुके है और वह सामान्य है। - डॉ सुधा गाँधी, स्त्री रोग विशेषज्ञ, जनाना हॉस्पिटल उदयपुर  

एईएफआई की जांच - एडवाइजरी ने ये भी महत्वपूर्ण बिंदु पर उल्लेख करते हुए कहा है की टीकों से महिलाओं को सुरक्षा को लेकर स्टडी होनी चाहिए क्यूंकि ब्राज़ील में टीकों के साथ एक गर्भवती महिला की मौत की हालिया रिपोर्ट आई है जिसके कारण ब्राज़ील में गर्भवती महिलाओं के टीकरण कार्यक्रम पर रोक लगा दी गई है। एईएफआई की जांच की जा रही है।

एमबी अस्पताल के अधीक्षक डॉ आर एल सुमन ने बताया की नई वैक्सीन होने के कारण गर्भवती महिलाओ को राजस्थान में फ़िलहाल टीके नहीं लगाए जा रहे है। क्यूंकि टीके का होने वाले बच्चे पर असर क्या होगा इसको लेकर कोई शोध सामने नहीं आया है।  हालाँकि स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को टीके लगने शुरू हो गए है। 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal