विश्व फोटोग्राफ़ी दिवस पर मिलिये उदयपुर की फ़ोटोवाला फैमिली से - प्लेट कैमेरा से ड्रोन तक का सफर

विश्व फोटोग्राफ़ी दिवस पर मिलिये उदयपुर की फ़ोटोवाला फैमिली से - प्लेट कैमेरा से ड्रोन तक का सफर

मेवाड़ के अग्रणी फोटोग्राफर मरहूम इब्राहिम जी फ़ोटोवाला के प्लेट कैमेरा से मुफद्दल फ़ोटोवाला के ड्रोन कैमेरा से फोटोग्राफी तक का सफर

 
kezar photowala

उदयपुर के छोटी बोहरवाड़ी खानपुरा निवासी मरहूम इब्राहिम जी फोटोवाला ने 1932 में प्लेट कैमेरा से सफर शुरू किया था जो आज उसकी फैमिली की चौथी पीढ़ी के मुफद्दल फ़ोटोवाला के ड्रोन फ़ोटोग्राफ़ी तक बदस्तूर जारी है

उदयपुर 19 अगस्त 2021। आज विश्व फोटोग्राफी दिवस है। इंसान और कैमेरा का सफर यूँ तो बहुत लम्बा है। जहाँ पहले चुनिंदा लोगो के हाथ में कैमेरा हुआ करता था वहीँ आज हर हाथ में मोबाइल कैमेरा मौजूद है। हर दौर के इंसानो को अपनी तस्वीर और कुदरत के नज़ारो को कैमरे में कैद करना अमूमन लोगो का शौक रहा है। वहीँ तस्वीरें हर दौर का परिचायक होती है। ब्लैक एन्ड वाइट फोटो जहाँ गुज़रे वक़्त का आईना है तो आज ड्रोन से ली गई नयनाभिराम फोटोज आज की तकनीक का नमूना है। 

kezar photowala
मरहूम इब्राहिम जी फोटोवाला ने 1932 में प्लेट कैमेरा से सफर शुरू किया था

आइये आज विश्व फोटोग्राफी दिवस पर लेकसिटी के फोटोवाला फैमिली से परिचय करवाते है जो 1932 से लेकर 2021 तक फोटोग्राफी की विधा में चौथी पीढ़ी  तक फोटोग्राफी को अपना हुनर और जज़्बे को समेटे हुए है। उदयपुर के छोटी बोहरवाड़ी खानपुरा निवासी मरहूम इब्राहिम जी फोटोवाला ने 1932 में प्लेट कैमेरा से सफर शुरू किया था जो आज उसकी फैमिली की चौथी पीढ़ी के मुफद्दल फ़ोटोवाला के ड्रोन फ़ोटोग्राफ़ी तक बदस्तूर जारी है। 

mufaddal photowala
मुफद्दल फ़ोटोवाला द्वारा ड्रोन से ली गई नेहरू पार्क की तस्वीर

उदयपुर टाइम्स की टीम ने इसी फैमिली की तीसरी पीढ़ी के केज़ार फोटोवाला से मुलाक़ात की और पुराने दौर की फोटोग्राफी और वर्तमान दौर की फोटोग्राफी के बारे में बातचीत की।  केज़ार फोटोवाला ने बताया की उसके दादाजी इब्राहिम फ़ोटोवाला मेवाड़ के पहले फोटोग्राफर थे। 1932 तक उनकी सिटी पैलेस क्षेत्र में तस्वीरो की दुकान थी। 1932 में ही मुंबई से आये ब्रिटिश पर्यटकों की प्रेरणा से उन्होंने प्लेट कैमेरा से फोटोग्राफी शुरू की। उस दौर में जहाँ 7x9 साइज़ के फोटो मिरर रख कर धुप की रौशनी में खींचे जाते थे। महाराणा फतेहसिंह जी के समय का वह दौर था जहाँ उन्होंने फोटोग्राफी शुरू की थी। 

kezar photowala
गुज़रे दौर की याद दिलाती तस्वीर
ibrahim ji photowala

ibrahim photowala

उनकी पीढ़ी के केज़ार फ़ोटोवाला भी मशहूर फोटोग्राफर रहे है। उदयपुर का दैनिक अख़बार प्रातःकाल के लिए आज भी उनके फोटोग्राफी का सफर जारी है। केज़र फ़ोटोवाला ने बताया की रील वाले कैमेरा से डिजिटल कैमेरा तक के उनके यादगार सफर में सन 2002 में वर्तमान प्रधानमंत्री और तब के गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'स्वर्णिम गुजरात' के दौरान की गई फोटोग्राफी की तारीफ एक यादगार पल था। 

ibrahim ji photowala


            
फोटोवाला फैमिली के केज़ार फ़ोटोवाला से बातचीत के अंश 

1.    ब्लैक एंड वाइट और कलर फोटोग्राफी में से आप कौनसी फोटोग्राफी को अहमियत देंगे?
ब्लैक एंड वाइट और कलर फोटोग्राफी दोनों फोटोग्राफी अपने आप में अहमियत रखती है। शादी-विवाह में रंगीन तस्वीरें देखने में अच्छी लगती है। लेकिन कुछ तस्वीरें ऐसी होती है जो कलर हो तो मेन सब्जेक्ट से दूर होने लगती है, क्योंकि सभी कलर की अपनी अहमियत होती है। लेकिन ब्लैक एंड वाइट तस्वीरें आज भी लोग पसंद करते है। आने वाले समय में ब्लैक एंड वाइट फोटोग्राफी को अहमियत दी जाएगी। अब तो कंप्यूटर की वजह से सब कुछ आसान हो गया है। अगर कुछ अच्छा नहीं लगता तो चेंज कर लेते है। पहले ऐसी सुविधा नहीं थी।

mufaddal photowala

2.    आज हर हाथ में कैमरा है, ऐसे में तस्वीरों की दुनिया का कितना भला और कितना नुकसान हुआ है?

आज कल सभी लोग फोटोग्राफर बन गए है। क्योंकि अब अपने सेल फोन से आसानी से फोटो खींच सकते है। आजकल सोशल मिडिया रंग-बिरंगी तस्वीरों से भरी हुई है। लेकिन उसमें कंटेंट नहीं है। जिंदगी की गहराइयों को समझकर उसको कैप्चर नहीं किया गया है। सेचुरेशन पॉइंट्स आते हैं, नए लेवल अचीव करने पड़ते है। लेकिन आज कल तो किसी के पास वक्त ही नहीं है। सभी चाहते है कि तुरंत फोटो खींच कर देख ली जाए। हालांकि ऐसा नहीं कह सकते मोबाइल से काम नहीं होता। कंटेट लाजवाब, एक्सप्रेसिव और एक्सक्लूसिव हो तो कुछ भी चलेगा। आपके काम में गंभीरता होनी चाहिए। 

photowala

3.    लॉकडाउन के दौरान दुनिया भर के फोटोग्राफर्स को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ा? इस चुनौती में आपने क्या किया। 

मैंने अपनी जिंदगी में इतनी बड़ी महामारी कभी नहीं देखी हैं। लॉकडाउन में कई फोटोग्राफर्स ने कोरोना महामारी में काम किया जो कि एक बहुत ही बड़ी बात है लेकिन जो फोटोग्राफर शादियां या वेडिंग शूट करते थे उनके लिए कोरोना महामारी एक चुनौती भरा सफर था। सभी फोटोग्राफर के काम बंद हो गए थे। जिसका असर अभी तक है। लेकिन धीरे-धीरे यह भी ठीक हो जाएगा। 

kezar photowala

4.    जो स्टूडेट्स फोटोग्राफी में करना चाहते है उनके लिए आप क्या कहना चाहेंगे?

फोटोग्राफी करते समय कंटेट क्या होना चाहिए यह हमेशा याद रखना चाहिए। यदि आपके पास जूनून है तो आप आसानी से हर मुकाम हासिल कर सकते है। मेहनत करे सब्र रखे सफलता जरुर आपके कदमों में होगी।

kaizar photowala

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal