सफ़र आसान : अब वेटिंग टिकट लेकर रिजर्व बोगी में नहीं घुस सकेंगे

सफ़र आसान : अब वेटिंग टिकट लेकर रिजर्व बोगी में नहीं घुस सकेंगे

रेलवे बना रहा ऐप, रेल यात्री एप पर कर सकेंगे शिकायत 

 
railway  rules  waiting ticket

उदयपुर, 5 दिसंबर । अगर आप ट्रेन के जरिए यात्रा करते हैं तो एक तस्वीर से अक्सर दो चार होते होंगे। वो तस्वीर यह होती है कि रिजर्वेशन वाली बोगी में कुछ लोग वेटिंग टिकट के साथ बैठे होते हैं। हालांकि ई टिकट वेटिंग की सूरत में खुद ब खुद कैंसिल हो जाती है। लेकिन अगर टिकट काउंटर से बना हो तो वो कैंसिल नहीं होती है। अब कोई भी वेटिंग का टिकट लेकर रिजर्व बोगी में सफर नहीं कर सकता है। ट्रेन की रिजर्व बोगियों में वेटिंग लिस्ट टिकट वालों के प्रवेश पर रोक के लिए रेलवे नया मोबाइल एप विकसित कर रहा है। 

इस ऐप की खासियत यह होगी कि कंफर्म टिकट वाले यात्रियों को ये सुविधा होगी कि वे आरक्षित बोगी में अनाधिकृत लोगों के प्रवेश को लेकर ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा सकेंगे। इस एप का अभी ट्रायल चल रहा है, सूत्रों के अनुसार सफल होने के बाद ये मोबाइल एप गूगल और एपल प्ले स्टोर पर अपलोड किया जाएगा।

रेलवे बोर्ड के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रिजर्व बोगियों में अकसर वेटिंग लिस्ट टिकट या फिर डेली पास वाले कंफर्म सीटों पर बैठ जाते हैं। अनाधिकृत वेंडर्स के कारण भी यात्रियों को सफर में परेशानी होती है। कुछ मामलों में शिकायत होती है, लेकिन तत्काल निपटारा नहीं हो पाता है।

अब यह ऐप कैसे काम करेगा

सीट और बर्थ रिजर्वेशन का पूरा लेआउट मोबाइल पर
• ट्रेन रवाना होने के 15 मिनट में टीटीई (टिकट निरीक्षक) हैंडहेल्ड डिवाइस से रिजर्व और अनरिजर्व सीट का डेटा भरेगा।
• यात्री इस मोबाइल एप में ट्रेन और कोच नंबर फीड करेगा। इसके बाद बोगी की सीट-बर्थ रिजर्वेशन का लेआउट दिखेगा।
• बोगी में निर्धारित संख्या से ज्यादा लोग अगर नजर आएंगे तो यात्री ऐप के जरिए शिकायत कर सकेगा। 
• जैसे ही ऐप पर शिकायत दर्ज होगी. पूरी जानकारी सेंट्रलाइज्ड सिस्टम पर खुद ब खुद चली जाएगी और टीटीई को अलर्ट मिल जाएगा।
• शिकायत मिलने के बाद टीटीई संबंधित कोच में अनधिकृत यात्रियों को रिजर्व कोच से बाहर निकालेगा। अगर कोई दिक्कत आएगी तो वो आरपीएफ की मदद लेगा। 

एक पीएनआर पर वेटिंग और कंफर्म टिकट पर क्या होगा

अब एक सवाल यह है कि अगर एक ही पीएनआर में कुछ टिकट कंफर्म और कुछ टिकट वेटिंग रह गए तो उन यात्रियों का क्या होगा। सूत्रों के अनुसार यदि एक पीएनआर (पैसेंजर नेम रिकॉर्ड) पर वेटिंग लिस्ट टिकट धारक भी हैं और कंफर्म टिकट धारक भी तो वेटिंग लिस्ट वाले उसी पीएनआर की कंफर्म टिकट वाली सीटों पर सफर कर सकेंगे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal