बिना टिकट मिली एक भी सवारी तो ब्लैकलिस्ट होगा रोडवेज बस सारथी

बिना टिकट मिली एक भी सवारी तो ब्लैकलिस्ट होगा रोडवेज बस सारथी

बस सारथी की ओर से रोडवेज में जमा कराई गई सिक्युरिटी राशि को भी जब्त कर लिया जाएगा।

 
i

राजस्थान रोडवेज प्रशासन ने नया कदम उठाया है। बसों में यात्रा के दौरान एक भी सवारी अब बिना टिकट मिली तो ड्राइवर कंडक्टर को नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है। यात्री पर तो कार्रवाई होगी ही साथ ही संविदा पर लगे परिचालक पर बड़ी कार्रवाई होगी। 

नई व्यवस्था के तहत रोडवेज बस में एक भी सवारी बिना टिकट पाए जाने पर बस सारथी को ब्लैक लिस्ट किया जाएगा। इतना ही नहीं, बस सारथी की ओर से रोडवेज में जमा कराई गई सिक्युरिटी राशि को भी जब्त कर लिया जाएगा। इसके अलावा एक बार हटाए गए बस सारथी को दोबारा नौकरी पर रखने वाले संबंधित अधिकारी के खिलाफ भी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। इस संदर्भ में निदेशालय ने हाल ही में बस सारथियों की ओर से राजस्व चोरी की शिकायतें मिलने के बाद नियमों में बदलाव करने का आदेश दिया है। 

जबकि, पहले बस में तीन बार में 10 सवारी बिना टिकट मिलने पर रिमार्क था प्रति सवारी 2000 रूपए जुर्माना देना पड़ता है। अब एक सवारी मिलने पर रिमार्क लगाकर परिचालकों को ब्लैक लिस्टेड किया जाएगा।

आदेश के खिलाफ सारथी 1 जुलाई से हड़ताल पर जाने की तैयारी में है

दरअसल, विभाग ने प्रदेश में 1280 रोडवेज सारथी लगा रखे है,जो बसों में परिचालक का काम करते है। उदयपुर जिले में 35 सारथी है। निगम के इस आदेश के खिलाफ सारथी 1 जुलाई से हड़ताल पर जाने की तैयारी में है। सारथी ने आरोप लगाए है की अवैध वसूली के लिए रोज़ नए नियम लागू किए जा रहे है।  हर सारथी ने 35 से 40 हज़ार रूपए तक सिक्योरिटी राशि में जमा है।  

यह है सारथी योजना

रोडवेज में कार्मिकों की कमी के चलते बस सारथी योजना लागू की गई है। इसके तहत अनुबंध के आधार पर रोडवेज की बसों में ड्राइवर और परिचालकों की भर्ती की जाती है। उन्हें निर्धारित रूट पर टारगेट के अनुसार राजस्व एकत्र कर रोडवेज मुख्यालय में जमा कराना होता है। इसके बदले उन्हें निश्चित मानदेय मिलता है। चालक और परिचालकों की कमी के कारण रोडवेज में इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

13 जून का आदेश

रोडवेज सूत्रों के मुताबिक, गत 13 जून को रोडवेज प्रबंध निदेशक के आदेश में लिखा है की बिंदु संख्या 9 के उप बिंदु में नई शर्त जोड़ी जाती है, जो बस सारथी को ब्लैक लिस्ट करने के संबंध में है। वाहन निरिक्षण के दौरान बेटिकट यात्रा का एक भी मामला मिला तो सारथी का अनुबंध तत्काल समाप्त कर निगम में जमा राशी जब्त कर ली जाएगी। यदि ब्लैक लिस्टेड बस सारथी को पुनः लिया जाता है तो संबंधित मुख्य प्रबंधक उत्तरदायी  होंगे। 

 

 


 

 

 


 

 



 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal